साइंटिस्ट (Scientist) कैसे बनें?

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि साइंटिस्ट कैसे बनें? इसमें कोई संदेह नहीं कि किसी भी साइंटिस्ट को देश भर के अलावा विदेशों में भी काफी सम्मान दिया जाता है जिसकी वजह से आज ऐसे बहुत सारे युवा हैं जो साइंटिस्ट बनने के इच्छुक होते हैं। यदि आप भी एक ऐसे छात्र हैं जो 12वीं के बाद वैज्ञानिक बनना चाहते हैं और इससे संबंधित जानकारी ढूंढ रहे हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें पूरी प्रक्रिया के बारे में। 

साइंटिस्ट क्या है (what is Scientist in Hindi)

यहां सबसे पहले आपको बता दें कि साइंटिस्ट एक ऐसा प्रोफेशनल व्यक्ति है जिसका काम भिन्न-भिन्न तरह की नई नई चीजों की खोज करना होता है। इसके अलावा वैज्ञानिक जिंदगी बचाने वाली दवाओं की खोज करने के साथ-साथ बहुत सारे एक्सपेरिमेंट भी करते हैं। सरकारी और प्राइवेट लैबोरेट्रीज में जितने भी रिसर्च वर्क किए जाते हैं वो सभी साइंटिस्टों के द्वारा ही होते हैं। इसलिए इस क्षेत्र में अधिकतर वही कैंडिडेट अपना कैरियर बनाते हैं जो बहुत अधिक लगन और परिश्रम के साथ दिन-रात अपना काम कर सकें क्योंकि रिसर्च करने में या फिर किसी आविष्कार की खोज करने में बहुत ही ज्यादा समय लगता है। 

Also read: सीस्मोलॉजिस्ट क्या है (Seismologist) कैसे बनें?

साइंटिस्ट बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

जो छात्र साइंटिस्ट बनना चाहते हैं उन्हें यहां जानकारी के लिए बता दें कि सबसे पहले उन्हें चाहिए कि वह 11वीं और 12वीं कक्षा में साइंस विषय की पढ़ाई करें। इस तरह से छात्र जब 12वीं क्लास पास कर लेता है तो फिर उसको चाहिए कि वह विज्ञान के अपने पसंदीदा विषय में अपनी ग्रेजुएशन पूरी करें। यहां यह भी जान लीजिए कि इसके लिए कैंडिडेट को नेशनल लेवल की प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी जिसके बाद ही उसका उसके पसंदीदा कोर्स में दाखिला हो सकेगा। इस प्रकार जब छात्र अपनी डिग्री हासिल कर लेता है तो उसके बाद कैंडिडेट को पोस्ट ग्रेजुएशन पाठ्यक्रम में दाखिला लेना होगा जैसे कि मास्टर ऑफ साइंस, एम्टेक इत्यादि। जब स्टूडेंट का पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स पूरा हो जाए तो फिर उसको चाहिए कि वह साइंटिस्ट के लिए निकलने वाली रिक्तियों में अपना आवेदन दे दें। इस प्रकार कैंडिडेट फिर वैज्ञानिक के पद पर काम कर सकता है। 

साइंटिस्ट बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  • कैंडिडेट ने बीएससी किया होना चाहिए।
  • या फिर कैंडिडेट में एमएससी किया हो।
  • या छात्र ने एम फिल, एमटेक , या पीएचडी किया होना चाहिए
  • अपने काम के प्रति पूरी तरह से डेडीकेटेड होना चाहिए।
  • किसी भी रिसर्च वर्क में फैसले लेने में सक्षम होना चाहिए।
  • अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ कंप्यूटर का ज्ञान भी होना अनिवार्य है। 

आयु सीमा 

  • छात्र की आयु कोर्स के समय कम से कम 17 वर्ष तक होनी आवश्यक है।
  • जो कैंडिडेट आरक्षित श्रेणियों से संबंध रखते हैं उन्हें आयु सीमा में छूट सरकार के निर्देशानुसार प्रदान की गई है। 

साइंटिस्ट बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

जब कोई छात्र साइंटिस्ट बन जाता है तो उसके सामने कैरियर के बहुत सारे व्यापक अवसर आ जाते हैं क्योंकि हमारे देश भारत में एक वैज्ञानिक को काफी महत्व दिया जाता है और एक अच्छे और योग्य साइंटिस्ट को नौकरी या काम करने की बिल्कुल भी समस्या नहीं होती है। इस प्रकार से वह सरकारी विभागों, गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशंस, इंस्टिट्यूट में काम कर सकते हैं। इसके अलावा कैंडिडेट को निम्नलिखित जगहों पर भी काम करने के मौके मिलते हैं-

  • इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (Indian space research organisation -ISRO)
  • काउंसिल आफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (Council of scientific and Industrial research -CSIR)
  • इंडियन काउंसिल आफ एग्रीकल्चरल रिसर्च (Indian council of agricultural research- ICAR
  • इंडियन इंस्टीट्यूट आफ ट्रॉपिकल मीटरोलॉजी (Indian Institute of tropical metrology – IITM) 
  • इंडियन एसोसिएशन फॉर कल्टीवेशन ऑफ़ साइंस कोलकाता (Indian association for cultivation  of science Kolkata – IACS)

वेतन 

एक वैज्ञानिक के तौर पर कैंडिडेट को उसके कैरियर के शुरू में ही काफी आकर्षक वेतन मिल जाता है जो कि तकरीबन 30,000 से लेकर 40,000 तक हो सकता है और यदि अगर कैंडिडेट में योग्यता है तो ऐसे में वो और भी ज्यादा तक का सैलरी पैकेज प्राप्त कर सकता है। इस प्रकार से जब उसको इस क्षेत्र में काम करते हुए कुछ सालों का अनुभव हासिल हो जाता है तो तब उसे पहले से ज्यादा सैलरी मिल जाती है।

साइंटिस्ट के कार्य 

साइंटिस्ट के तौर पर जो व्यक्ति काम करता है उसे निम्नलिखित कार्य करने पड़ते हैं- 

  • रिसर्च वर्क से जुड़े हुए सभी प्रपोजल देखना।
  • एक्सपेरिमेंट्स को कंडक्ट करने के साथ-साथ उनको क्रिएट करना।
  • किसी भी आविष्कार के रिजल्ट को एनालाइज करना। 
  • दवाओं के अलावा अंतरिक्ष से संबंधित खोज करना। 
  • नई नई प्रकार की चीजों के बारे में खोज और आविष्कार करना। 
  • एक्सपेरिमेंट करने के लिए टीम के साथ मिलकर काम करना। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल साइंटिस्ट कैसे बनें? इस लेख के माध्यम से हमने आपको यह जानकारी दी कि साइंटिस्ट क्या होता है और वैज्ञानिक बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कितनी योग्यता का होना जरूरी है। साथ ही साथ इस पोस्ट में हमने आपको यह जानकारी भी दी कि साइंटिस्ट बनने की पूरी प्रक्रिया क्या होती है और इस पद पर रहते हुए कैंडिडेट को हर महीने कितना वेतन मिलता है एवं हमने आपको यह भी जानकारी दी कि एक वैज्ञानिक को कौन-कौन से कार्य करने पड़ते हैं। वैसे अगर देखा जाए अगर किसी छात्र को खोज और आविष्कार करने जैसे काम बहुत ज्यादा पसंद है तो वह इस फील्ड में अपना कैरियर बहुत अच्छे से बना सकता है। अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो 12वीं के बाद साइंटिस्ट बनना चाहते हैं। 

Leave a Reply