पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical course) कैसे करे पूरी जानकारी

अगर आप बहुत कम पैसे खर्च करके और कम समय में डॉक्टर का काम सीखना चाहते हैं तो पैरामेडिकल कोर्स उसके लिए उत्तम विकल्प है। 12वीं कक्षा पास करने के बाद आप पैरामेडिकल कोर्स को बहुत आराम से कर सकते हैं और उसके बाद आप एक अच्छा वेतन भी कमा सकते हैं। साथ ही यदि आप चाहें तो अपना खुद का लैब भी खोल सकते हैं जो कि एक मेडिकल का ही पार्ट है।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे पैरामेडिकल कोर्स से जुड़ी हुई आवश्यक जानकारी जैसे पैरामेडिकल कोर्स क्या है , कौन से कोर्स सबसे अधिक प्रचलित हैं, पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए कितनी फीस देनी पड़ती है तथा साथ ही इस कोर्स को करने के बाद आप प्राइवेट सेक्टर या गवर्नमेंट सेक्टर में कौन-कौन सी नौकरियां कर सकते हैं। इसके अलावा दूसरी अन्य जरूरी जानकारी भी आपसे शेयर करेंगे इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें ताकि आप इस कोर्स के बारे में सब जान लें।

पैरामेडिकल कोर्स

Contents

पैरामेडिकल कोर्स क्या है (What is Paramedical course in Hindi)

पैरामेडिकल कोर्स का अर्थ होता है मेडिकल का एक ऐसा हिस्सा जिसके अंदर इमरजेंसी सेवाओं को प्रदान करना सिखाया जाता है। इस कोर्स में मेडिकल सहायता की संपूर्ण जानकारी के साथ साथ इंसान के शरीर में हो रही किसी बीमारी का पता लगाना सिखाया जाता है। साथ ही यह भी सिखाया जाता है कि ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट, ब्लड सेल्स टेस्ट, एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन, एमआईआरआई आदि कैसे किया जाता है। यहां यह भी बता दें कि वह व्यक्ति जो इन आपातकालीन सेवाओं को प्रदान करता है उसको पैरामेडिक्स कहते हैं और इनकी सबसे अधिक आवश्यकता इमरजेंसी विभाग, एंबुलेंस, हॉस्पिटल, हेल्थ केयर विभाग इत्यादि में होती है।

पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद कोई भी कैंडिडेट डॉक्टर की सहायता करने के लिए उनके साथ काम कर सकता है जैसे डायलिसिस, अल्ट्रासाउंड, एक्स रे, मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी, ब्लड टेस्ट आदि। 

Also readमेडिकल ट्रांसक्रिप्शनिस्ट (Medical Transcriptionist) कैसे बनें?

प्रचलित पैरामेडिकल कोर्स

वैसे तो पैरामेडिकल कोर्स के मुख्यत: सभी कोर्स बहुत अच्छे हैं लेकिन कुछ प्रचलित पैरामेडिकल कोर्स ऐसे हैं जिनमें अधिकतर छात्र प्रवेश लेते हैं और अपना कैरियर बनाते हैं उन कोर्स की जानकारी इस प्रकार है- 

डिग्री पैरामेडिकल कोर्सेज – 

  • बीएससी एक्स-रे टेक्नोलॉजी 
  • बीएससी नर्सिंग
  • बीएससी मेडिकल रिकॉर्ड टेक्नोलॉजी
  • बीएससी स्पीच थेरेपी 
  • बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी
  • बीएससी मेडिकल लैबोरेट्री टेक्नोलॉजी
  • बीएससी रेडियोग्राफी और मेडिकल इमेजिंग
  • बीएससी आप्थेल्मिक टेक्नोलॉजी 

डिप्लोमा पैरामेडिकल कोर्सेज-

  • डिप्लोमा इन एक्स-रे टेक्नोलॉजी 
  • डिप्लोमा इन नर्सिंग केयर असिस्टेंट
  • डिप्लोमा इन मेडिकल लैबोरेट्री टेक्नोलॉजी 
  • डिप्लोमा इन डायलिसिस टेक्नोलॉजी 
  • सहायक नर्स और मिडवाइफ कोर्स (जीएनएम)
  • डिप्लोमा इन ओटी टेक्निशियन 

सर्टिफिकेट पैरामेडिकल कोर्सेज- 

  • सर्टिफिकेट इन एचआईवी एंड फैमिली एजुकेशन 
  • सर्टिफिकेट इन होम बेस्ड हेल्थ केयर 
  • सर्टिफिकेट इन डेंटल असिस्टेंट 
  • सर्टिफिकेट इन नर्सिंग केयर असिस्टेंट 
  • सर्टिफिकेट इन रूरल हेल्थ केयर 

वर्तमान परिदृश्य

पैरामेडिकल कोर्स का दायरा मौजूदा समय में बढ़ता ही जा रहा है और आने वाले अगले कुछ सालों में यह और भी अधिक बड़ा हो जाएगा। मेडिकल लाइन एक ऐसी फील्ड है जहां पर हर समय डॉक्टर, फिजियोथैरेपिस्ट, स्केनर, डाइटिशियन, एक्स रे टेक्नीशियन, लैब टेक्नीशियन इत्यादि की आवश्यकता रहती है। ऐसे इस क्षेत्र में नौकरियों के अवसर अत्यधिक बढ़ गए हैं। ऐसे छात्र जो 12वीं कक्षा पास करने के बाद कोई ऐसा कोर्स करना चाहते हैं जिसको करने के बाद उन्हें नौकरी ढूंढने में किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो, साथ ही उन्हें नौकरी करके अच्छा वेतन भी मिल सके सके तो फिर वह पैरामेडिकल कोर्स कर सकते हैं।

इस क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की नौकरियों के अवसर कोर्स करने के तुरंत बाद ही आपको मिल जाएंगे और यही एक कारण है जिसकी वजह से आज 12वीं कक्षा पास करने के बाद बहुत सारे छात्र पैरामेडिकल कोर्स की तरफ आकर्षित होते हैं। 

Also readएएनएम कोर्स ( ANM Course) कैसे करें

पैरामेडिकल कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा

पैरामेडिकल कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस परीक्षा देनी होती है जिसकी जानकारी हम नीचे दे रहे हैं

नीट-यूजी (NEET-UG) 

वह सभी छात्र जो मेडिकल क्षेत्र की पढ़ाई करना चाहते हैं तो इसके लिए उनको नीट यूजी प्रवेश प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह गवर्नमेंट और प्राइवेट कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए एक प्री मेडिकल टेस्ट है जिसको नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (National Eligibility cum Entrance Test-NEET) के नाम से भी जाना जाता है। 

नीट परीक्षा एग्जाम पैटर्न (NEET- Exam Pattern 

नेट परीक्षा के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाते हैं जो कि बॉटनी, फिजिक्स, केमिस्ट्री और जूलॉजी के विषय पर आधारित होते हैं। इस परीक्षा में कुल 180 प्रश्न करने होते हैं और प्रत्येक सही उत्तर के लिए 4 अंक दिए जाते हैं। यदि कोई गलत उत्तर देता है तो उसके लिए एक अंक कट जाता है। यह परीक्षा 3 घंटे की होती है। 

इसके साथ ही हम आपको जानकारी दे दें कि कुछ प्राइवेट संस्थान ऐसे हैं जहां पर बिना प्रवेश परीक्षा के छात्रों को दाखिला दिया जाता है। इसलिए यदि आप नीट प्रवेश परीक्षा को पास नहीं कर पाते हैं तो आप किसी प्राइवेट संस्थान से भी पैरामेडिकल कोर्स कर सकते हैं लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जिस संस्थान से भी आप कोर्स करें वह संस्थान मान्यता प्राप्त होना चाहिए। 

पैरामेडिकल कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या है

कोर्स में अधिकतर संस्थान मेरिट के आधार पर एडमिशन देते हैं लेकिन कुछ ऐसे संस्थान भी हैं जो अपना स्वयं का एंट्रेंस एग्जाम करवाकर एडमिशन देते हैं। इसलिए यह आपके ऊपर निर्भर है कि आप कौन से कॉलेज यह संस्थान में पढ़ना चाहते हैं क्योंकि यदि आपके द्वारा चुने गए कॉलेज या संस्थान में एंट्रेंस एग्जाम की प्रक्रिया होगी तो उसको पास करने के बाद ही आप प्रवेश पा सकेंगे। 

पैरामेडिकल कोर्स के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए

कोर्स के लिए निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए जो कि इस प्रकार है-

  • कैंडिडेट को कम से कम कक्षा 12 वीं पास होना चाहिए और उसमें उसके 50% अंक होना अनिवार्य है। 
  • कैंडिडेट में कक्षा 12वीं में बायोलॉजी की पढ़ाई की हो।
  • यदि आप दसवीं कक्षा के बाद सर्टिफिकेट  कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए दसवीं कक्षा विज्ञान विषय के साथ पास होनी अनिवार्य है।  

Also readनीट परीक्षा (NEET Exam) की तैयारी कैसे करे

फीस

पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए आपको अलग-अलग फोर्स के लिए अलग-अलग फीस देनी होती है। जानकारी के लिए बता दें कि पैरामेडिकल कोर्स में डिग्री डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स करवाए जाते हैं तो आपकी फीस इस बात के ऊपर निर्भर करती है कि आपने कौन सा कोर्स चुना है। इसके अलावा यदि आपने प्राइवेट संस्थान से अपना पैरामेडिकल कोर्स करने का निर्णय किया है तो वहां पर आपको कुछ फीस अधिक देनी पड़ सकती है । 

पैरामेडिकल अंडर ग्रैजुएट कोर्स फीस

जितने भी अंडरग्रैजुएट पैरामेडिकल कोर्सेज हैं उनकी फीस 40 हजार रुपए से लेकर 5 लाख तक हो सकती है जो कि आप के कोर्स के ऊपर डिपेंड करती है। यह फीस आपके पूरे अंडरग्रैजुएट कोर्स के लिए है। 

पैरामेडिकल डिप्लोमा कोर्स फीस

पैरामेडिकल कोर्स में डिप्लोमा करने के लिए आपको 30 हजार से लेकर 4 लाख रुपए तक की फीस देनी पढ़ सकती है जो कि पूरे पाठ्यक्रम की फीस होगी। 

पैरामेडिकल सर्टिफिकेट कोर्स फीस

पैरामेडिकल कोर्स में सर्टिफिकेट करने के लिए  भी फीस उस कोर्स के ऊपर निर्भर होगी जो आपने लिया है। आमतौर पर यह 20 हजार रुपए से लेकर 2 लाख तक हो सकती। 

भारत में पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए कॉलेजों

  • दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट एंड इंस्टीट्यूट, दिल्ली (Delhi paramedical and management and Institute, Delhi)
  • एम्स नई दिल्ली (AIIMS, New Delhi)
  • डेंटल कॉलेज लखनऊ (Dental College, Lucknow)
  • प्रोस्थेटिक्स एंड ऑर्थोटिक्स सफदरजंग अस्पताल दिल्ली (prosthetic and orthotics Hospital, Delhi)
  • इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकली हैंडिकैप्ड नई दिल्ली (Institute of physically handicapped New Delhi)
  • स्कूल ऑफ फिजियोथेरेपी मुंबई (School of physiotherapy Mumbai)
  • उपाधि पैरामेडिकल कॉलेज इटावा (upadhi paramedical college etawah)
  • राजीव गांधी पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट दिल्ली (Rajiv Gandhi paramedical Institute Delhi) 
  • हिंदुस्तान मेडिकल साइंसेज संस्थान लखनऊ (Hindustan Medical Sciences and sansthan Lucknow) 

पैरामेडिकल कोर्स के बाद कैरियर संभावनाएँ क्या है 

पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद आपके पास अनेकों प्रकार की कैरियर संभावना है जैसे-

  • मेडिकल लैब टेक्नोलॉजिस्ट बन सकते हैं।
  • फिजियोथैरेपिस्ट
  • सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल में नर्स
  • फार्मासिस्ट बन सकते हैं
  • प्रोस्थेटिक और ऑर्थोटिक इंजीनियर बन सकते हैं जिसके अंतर्गत आपको कृत्रिम अंग बनाने होंगे। 
  • किसी डॉक्टर के असिस्टेंट बन सकते हैं।
  • किसी डेंटल डॉक्टर के सहायक बन सकते हैं।
  • सीटीसी स्कैन टेक्नीशियन 
  • एक्स-रे टेक्निशियन या रेडियोलॉजी असिस्टेंट
  • ऑपरेशन थिएटर असिस्टेंट 

वेतन

जब आप अपनी पैरामेडिकल की पढ़ाई पूरी कर लेंगे तो उसके बाद आपको वेतनमान और आपकी नौकरी यह दोनों ही आपके कौशल पर निर्भर करेंगे। इस फील्ड में जब आप एक्सपीरियंस ले लेंगे तो उसके बाद आपको वेतनमान अधिक मिलता है जो कि सालाना लगभग 2,00,000 से लेकर 4,00,000 रुपए तक के मध्य होता है। लेकिन यदि आप नए हैं तो शुरुआत में आपका वेतनमान सालाना 2-3 लाख रुपए के बीच तक रहेगा।‌ 

Also readगेट परीक्षा क्या है | GATE Exam की तैयारी कैसे करे

प्राइवेट सेक्टर में जॉब्स

पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद आप प्राइवेट सेक्टर में भी बहुत सारी जॉब कर सकते हैं और यदि आप चाहें तो आप अपना खुद का भी लैब खोल सकते हैं। हमारे देश में अनेकों प्राइवेट हॉस्पिटल, नर्सिंग होम है जहां पर आप जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं।

गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब्स

वह लोग जो पैरामेडिकल कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं तो उनके लिए नौकरी करने के सरकारी क्षेत्र में भी बहुत सारे अवसर उपलब्ध हैं। ‌इसलिए यदि आप गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको सरकारी विभागों में नौकरी के लिए आवेदन करना होगा। ‌सरकारी पैरामेडिकल के अंतर्गत आप अन्य प्रकार की नौकरी कर सकते हैं जैसे-

  • फिजियोथैरेपिस्ट 
  • स्टाफ नर्स
  • नर्स
  • स्पीच थैरेपिस्ट
  • रेडियोग्राफर्स
  • ऑडियोलॉजिस्ट
  • मेडिकल लैब टेक्नोलॉजिस्ट 
  •  फार्मासिस्ट 
  • इलेक्ट्रो कॉर्डियोग्राफी तकनीशियन 
  • हेड कांस्टेबल नर्स 

निष्कर्ष

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने पैरामेडिकल कोर्स की सारी जानकारी आपको दी। हमने इस लेख के माध्यम से आपको बताया कि पैरामेडिकल कोर्स किसे कहते हैं। कोर्स करने की क्या योग्यता होती है। साथ ही हमने आपको बताया कि पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद आप प्राइवेट और गवर्नमेंट सेक्टर में कौन-कौन सी जॉब कर सकते हैं। इसके अलावा और भी सारी जानकारी हमने आपको दे दी है इसलिए यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो और आपके लिए हेल्पफुल रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें। 

Leave a Reply