नाटा क्या है | NATA Exam की तैयारी कैसे करे

नाटा परीक्षा: दोस्तों अगर आपको अच्छे-अच्छे घरों के डिजाइन बनाना पसंद है तो आप इसमें अपना कैरियर बना सकते हैं। मौजूदा समय में इस क्षेत्र में नौकरी करने के अवसर भी बहुत हैं और ऐसे युवा जो 12वीं कक्षा पास करने के बाद किसी प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश लेना चाहते हैं उनके लिए यह बहुत ही उत्तम कोर्स है। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स में एडमिशन लेना इतना आसान नहीं है क्योंकि इस में दाखिला लेने के लिए नाटा परीक्षा को पास करना होता है।

अगर आप आर्किटेक्ट बनना चाहते हैं लेकिन आपको नाटा परीक्षा के बारे में कुछ भी नहीं पता है तो हम आज के इस आर्टिकल में इससे जुड़ी हुई सारी जानकारी आपको बताने वाले हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि नाटा परीक्षा क्या है और नाटा परीक्षा के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए। इसके अलावा हम आपको यह भी बताएंगे कि आप इस परीक्षा के लिए कौन-कौन सी किताबें और अध्ययन सामग्री खरीद सकते हैं। तो दोस्तों यदि आप नाटा परीक्षा में पास होना चाहते हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़िएगा। 

नाटा 

नाटा परीक्षा क्या है (What is NATA Exam in Hindi)

नाटा परीक्षा का पूरा नाम नेशनल एप्टिट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर (National Aptitude Test in Architecture-NATA)  है। बता दें कि इस परीक्षा का आयोजन काउंसिल ऑफ आर्किटेक्चर (Council Of Architecture-CoA)  के द्वारा वर्ष में दो बार करवाया जाता है। यह परीक्षा वह उम्मीदवार देते हैं जो आर्किटेक्ट बनना चाहते हैं यानि जो छात्र किसी मान्यता प्राप्त संस्थान या कॉलेज से B.Arch करना चाहते हैं। यहां यह भी जान लीजिए कि नाटा एक नेशनल लेवल की परीक्षा है जिसके अंतर्गत उम्मीदवारों का सिलेक्शन उनके स्कोर के आधार पर होता है। अऊ आपका सपना भी आर्किटेक्ट की पढ़ाई करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कॉलेज में प्रवेश लेना है तो आपको नेशनल एप्टिट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर की परीक्षा देना अनिवार्य होगा। 

नाटा परीक्षा के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए (NATA Exam Eligibility)

वे सभी उम्मीदवार जो नाटा परीक्षा के लिए आवेदन करना चाहते हैं उनकी योग्यता निम्नलिखित होनी चाहिए-

  • उम्मीदवार किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कक्षा बारहवीं या उसके समकक्ष गणित विषय के साथ पास होना चाहिए। 
  • आवेदक कम से कम 50% अंक होने चाहिए। 
  • आवेदक को ड्राइंग की बहुत अच्छी जानकारी होना अनिवार्य है। 

नाटा प्रवेश प्रक्रिया (NATA Admission Process)

सभी उम्मीदवार जो आर्किटेक्ट बनना चाहते हैं और किसी श्रेष्ठ कॉलेज या संस्थान में दाखिला लेना चाहते हैं तो उनको नाटा प्रक्रिया से गुजारना पड़ेगा। इसके अंतर्गत कैंडिडेट को राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा में बैठना होगा और यदि वह परीक्षा पास कर लेता है तो तभी उसका दाखिला किसी अच्छे कॉलेज या संस्थान में हो सकेगा जहां पर वह आर्किटेक्ट की पढ़ाई कर सकता है। यह भी जान लीजिए कि इस परीक्षा के अंदर कैंडिडेट से ड्राइंग और गणित ,विज्ञान जैसे विषयों पर प्रश्न पूछे जाते हैं। 

एनएटीए (नाटा) कॉलेजों सूची (NATA colleges list)

  • सर जेजे कॉलेज आफ आर्किटेक्चर मुंबई (Sir J. J College of architecture Mumbai)
  • डिपार्टमेंट ऑफ आर्किटेक्चर आईआईटी रुड़की (Department of architecture IIT Roorkee)
  • चंडीगढ़ कॉलेज आफ आर्किटेक्चर चंडीगढ़ (Chandigarh College of architecture Chandigarh) 
  • डिपार्टमेंट ऑफ आर्किटेक्चर एनआईटी कालीकट (Department of Architecture NIT Calicut) 
  • सुशांत स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड आर्किटेक्चर गुड़गांव (Sushant school of art and architecture Gurgaon) 
  • फैकेल्टी आफ आर्किटेक्चर एंड एकिस्टिक्स जेएमआई (Faculty of Architecture and Ekistics JMI)
  • फैकल्टी ऑफ आर्किटेक्चर मणिपाल यूनिवर्सिटी (faculty of architecture manipal University)  

नाटा परीक्षा पाट्यक्रम (NATA Exam Syllabus)

नाटा परीक्षा की तैयारी कोई भी कैंडिडेट उसी सूरत में कर सकता है जब उसे उसका पूरा पाठ्यक्रम पता हो। यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नाटा के अंतर्गत पाठ्यक्रम  विभिन्न चरणों में प्रदान किया जाता है जिसमें ड्राइंग, सामान्य योग्यता एवं गणित जैसे विषय शामिल होते हैं। NATA परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम इस प्रकार से है- 

मैथमेटिक्स  पाठ्यक्रम 

  • अलजेब्रा (Algebra)
  • लॉग्र्रिदम्स (Logarithms)
  • ट्रिग्नोमेट्री (Trigonometry) 
  • कोऑर्डिनेट ज्योमेट्री (Co-ordinate Geometry) 
  • 3- डायमेंशनल कोऑर्डिनेट ज्योमेट्री (3-Dimensional Co-ordinate Geometry)
  • थ्योरी ऑफ कैलकुलस (Theory of Calculus) 
  • एप्लीकेशन ऑफ कैलकुलस (Application of Calculus)
  • परमुटेशन एंड कॉन्बिनेशन (permutation and combination)
  • स्टैटिक्स एंड प्रोबेबिलिटी (Statics and Probability)

केमिस्ट्री पाठ्यक्रम 

  • बेसिक कांसेप्ट ऑफ केमिस्ट्री (Basic Concept of Chemistry) 
  • स्ट्रक्चर ऑफ एटम (Structure of Atom)
  • क्लासिफिकेशन ऑफ एलिमेंट्स एंड पीरियोडिसिटी इन प्रॉपर्टीज (Classification of Elements and Periodicity in Properties)
  • केमिकल बॉन्डिंग एंड मॉलिक्यूलर (Chemical bonding and molecular)
  • स्टेट्स ऑफ मैटर लिक्विड्स एंड गैसेस (States of Matter Liquids and Gases)
  • केमिकल थर्मोडायनेमिक्स  (Chemical thermodynamics) 
  • इक्विलिब्रीयम  (Equilibrium) 
  • ब्लॉक एलिमेंट्स (Block Elements)
  • ऑर्गेनिक केमिस्ट्री (Organic Chemistry) 
  • हाइड्रोकार्बन (Hydrocarbon)
  • एनवायरमेंटल केमेस्ट्री (Environmental Chemistry) 

फिजिक्स पाठ्यक्रम 

  •  इलेक्ट्रोस्टेटिक्स (Electrostatics)
  • करंट इलेक्ट्रिसिटी (Current Electricity)
  • मैग्नेटिक इफैक्ट्स ऑफ करंट एंड मैग्नेटिज्म (Magnetic effects of current and Magnetism)
  • ऑप्टिक्स (Optics)
  • एटम्स एंड न्यूक्लि (Atoms and Nuclei)
  • इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (Electronic Device)

जनरल एप्टिट्यूड पाठ्यक्रम

  • जनरल (General)
  • मैथमेटिकल रीजनिंग (Mathematical Reasoning)
  • सेट्स एंड रिलेशंस (Sets and Relations)

ड्राइंग पाठ्यक्रम

  • अंडरस्टैंड्स द इंपॉर्टेंट विजुअल प्रिंसिपल्स इन ए कंपोजिशन (2 डी, 3 डी) 

Understands the important visual principles in a composition (2D or 3D)

  • अंडरस्टैंडिंग जियोमेट्री एंड द एबिलिटी टु विजुलाइज शेप (Understanding Geometry and the ability to visualise shape) 
  • सॉल्व जियोमेट्रिकल पजल्स (Solve Geometrical Puzzles) 
  • अंडरस्टैंडिंग कलर थ्योरी (Understanding Colour Theory)

नाटा परीक्षा पैटर्न (NATA Exam Pattern)

नाटा परीक्षा के तहत उम्मीदवारों से दो पेपर करवाए जाते हैं पेपर ए और पेपर बी जिनकी जानकारी इस प्रकार से है-  

पेपर 1

इस पेपर के अंदर कैंडिडेट से जनरल एप्टीट्यूड, मैथमेटिक्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री जैसे विषयों पर प्रश्न किए जाते हैं। यह परीक्षा भी ऑनलाइन होती है जिसमें उम्मीदवार से 15 प्रश्न पूछे जाते हैं जिनके लिए 75 अंक रखे गए हैं। हर प्रश्न के सही उत्तर के लिए 1.5 अंक दिए जाते हैं। गलत उत्तर के लिए किसी भी प्रकार की कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं होती है। 

पेपर 2 

इस पेपर के अंतर्गत उम्मीदवारों को ड्राइंग से संबंधित प्रश्नों को हल करना होता है। यह परीक्षा ऑनलाइन माध्यम से होती है जिसको करने के लिए कैंडिडेट को 135 मिनट का समय दिया जाता है। साथ ही आपको बता दें कि इस परीक्षा के लिए 125 अंक रखे गए हैं। बता दें कि यह काफी कठिन पेपर होता है और बहुत सारे उम्मीदवार इसी परीक्षा में फेल हो जाते हैं। 

नाटा परीक्षा के लिए किताबें और अध्ययन सामग्री 

अगर आप चाहते हैं कि आप नाटा परीक्षा में सफलता हासिल करें तो इसके लिए आपको विभिन्न पुस्तकों को पढ़ने की आवश्यकता होगी इसके अलावा आपको नाटा से संबंधित सैंपल पेपर और पूर्व वर्ष के पेपर इत्यादि भी हल करने होंगे। परंतु कभी-कभी ऐसा होता है कि कैंडिडेट को समझ नहीं आता कि वह कौन सी किताब ले और कौन सी नहीं क्योंकि मार्केट में अनेकों किताबें उपलब्ध हैं तो इसलिए हम आपको नीचे कुछ पुस्तकों के नाम बता रहे हैं जिनको पढ़कर आप अपने आर्किटेक्ट बनने के सपने को पूरा कर सकते और यह सभी किताबें आप का नाटा परीक्षा को पास करने में भी अत्यधिक सहायक रहेंगी। उन किताबों की सूची निम्नलिखित है-  

  • वर्बल एंड नॉनवर्बल रीजनिंग बुक बाय आर एस अग्रवाल (Verbal and nonverbal Reasoning book by RS Aggarwal)
  •  क्वानटेटिव एप्टीट्यूड बाय आरएस अग्रवाल (quantitative Aptitude by RS Aggarwal)
  • इंजीनियरिंग ड्रॉइंग बाय एनडी भट्ट (Engineering drawing by ND Bhatt)
  • ए कंपलीट सेल्फ स्टडी गाइड फॉर बी. आर्क एंटरेंस एग्जामिनेशंस बाय अरिहंत पब्लिकेशंस (A complete self study guide for B. Arch Entrance Examinations by Arihant Publications)
  • मैथमेटिक्स Xl एंड XII बाय आर एस अग्रवाल (Mathematics  Xl and XII  by RS Aggarwal)  
  • मॉक टेस्ट पेपर आप किसी भी ऑनलाइन वेबसाइट से सर्च करके सॉल्व कर सकते हैं। 

Tips for नाटा परीक्षा की तैयारी के लिए (NATA Exam Preparation)

नाटा परीक्षा एक कठिन परीक्षा है जिसको पास करने के लिए आपको अत्यधिक मेहनत और फोकस के साथ अध्ययन करना होगा। अगर आपने उचित तरीके से पढ़ाई नहीं की तो आप इस परीक्षा को फिर क्रैक नहीं कर सकते। निम्नलिखित कुछ टिप्स दिए गए हैं जो आपकी नाटा परीक्षा की तैयारी में अत्यधिक सहायक रहेंगे जो कि इस प्रकार से हैं –

  • सबसे पहले आप अपना पाठ्यक्रम देखिए क्योंकि पढ़ाई शुरू करने के लिए आप को संपूर्ण पाठ्यक्रम की जानकारी होना अनिवार्य है। 
  • अब हर दिन एक पढ़ाई करने का टाइम टेबल बनाएं और उसको स्ट्रिक्टली फॉलो करें। ‌
  • इसके अलावा आप यह देखिए कि आप कौन से विषय में सबसे अधिक अच्छा कर सकते हैं उस विषय पर कम ध्यान दें और जिस विषय में आप थोड़े कमजोर हैं या जो विषय आपको कठिन लगता है उस पर अधिक समय देकर पढ़ाई करें। 
  • अगर किसी विषय में आप अत्यधिक कमजोर है तो आप उसके लिए कोचिंग भी ले सकते हैं। 
  • जब आपका सारा सिलेबस खत्म हो जाए तो आप हर दिन मॉक टेस्ट करें। इससे आपको पेपर हल करने में सहायता मिलेगी।
  • जितना हो सके ग्रुप स्टडी करें क्योंकि ग्रुप स्टडी में आप विभिन्न सहपाठियों के साथ किसी भी विषय को जल्दी समझ सकते हैं। 
  • आपके अलावा जो अन्य छात्र नाटा परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं उन से लगातार संपर्क में रहें। इस तरह आपको अपनी पढ़ाई करने में सहायता मिलेगी। 
  • मार्केट से उन किताबों को खरीदें जो काफी पॉपुलर है और जिनको पढ़कर आमतौर पर  विद्यार्थी अपनी परीक्षा की तैयारी करते हैं।
  • आपको अपने ड्राइंग के स्किल को भी काफी निखारना होगा।
  • जब आप परीक्षा देने जाए तो अपने मन को और मस्तिष्क को शांत रखें और सबसे पहले पेपर में दी गई इंस्ट्रक्शंस को ध्यान पूर्वक पढ़ें। 
  • हर प्रश्न का उत्तर दें क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार की कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं होती। 
  • अगर कोई प्रश्न आपसे हल नहीं हो रहा है तो उससे चिपके न रहें उसको छोड़ कर दूसरा प्रश्न हल करें। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल नाटा   परीक्षा क्या है जिसमें हमने आपको बताया कि इस परीक्षा की तैयारी आप कैसे कर सकते हैं और नाटा परीक्षा से जुड़ी हुई सारी आवश्यक बातें भी हमने आपको बता दी हैं जिसके अंतर्गत हमने आपको भारत के उन कॉलेजों के बारे में बताया जहां से आप नाटा परीक्षा पास करने के बाद अपनी आर्किटेक्ट की पढ़ाई कर सकते हैं। इसके अलावा हमने आपको आपके एग्जाम की तैयारी के लिए भी बहुत सारी टिप्स दी हैं ताकि आपको एग्जाम क्रैक करने में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं हो। हमें पूरी उम्मीद है कि यह आर्टिकल आपके लिए अत्यंत सहायक रहेगा । अगर आपके मन में किसी भी प्रकार का कोई प्रश्न है तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं। इसके अलावा हमारी आप से रिक्वेस्ट है कि इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूलें। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply