मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स (Mobile Repairing Course) कैसे करें?

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स: मोबाइल आज हर इंसान की जिंदगी का एक जरूरी हिस्सा बन चुका है क्योंकि अब मोबाइल से बातचीत करने के अलावा इंटरनेट भी बहुत आसानी के साथ चलाया जाता है। आजकल लोग अपना अधिकतर समय सोशल मीडिया पर ही ज्यादा बिताते हैं जिसकी वजह से वह ऐसा फोन लेते हैं जिसकी मदद से वह इंटरनेट चला सके। 

तो ऐसे में अगर कोई कैंडिडेट मोबाइल रिपेयरिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहता है तो उसको काफी अधिक सफलता मिलेगी। आजकल हर चीज में प्रतिस्पर्धा है और एक और जहां बहुत सारे छात्र ऐसे हैं जो डॉक्टर, इंजीनियर बनते हैं क्योंकि वह पढ़ाई में बहुत ज्यादा अच्छे होते हैं लेकिन दूसरी और कुछ छात्र ऐसे भी होते हैं जिनका पढ़ाई लिखाई में मन नहीं लगता या फिर किसी समस्या के कारण वह अपनी पढ़ाई जारी नहीं रख पाते। इसलिए मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करके ऐसे छात्र अपना भविष्य उज्ज्वल बना सकते हैं क्योंकि इस क्षेत्र में आपकी पढ़ाई से ज्यादा आपका हुनर काम आता है। 

तो अगर आप मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करना चाहते हैं तो आज के हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें क्योंकि इससे संबंधित सारी जानकारी हम आपको देने वाले हैं जिसको पढ़ने के बाद आपको यह बहुत अच्छी तरह से समझ में आ जाएगा कि आप किस प्रकार मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करके एक कामयाब कैरियर बना सकते हैं। 

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स

मोबाइल रिपेयरिंग क्या है? (What is mobile repairing  in Hindi)

जानकारी के लिए बता दें कि किसी भी मोबाइल या फिर फोन की खराबी को ठीक करने को मोबाइल रिपेयरिंग कहा जाता है। मोबाइल ठीक करने की प्रक्रिया में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर फॉल्ट का पता लगाकर उसे सही किया जाता है। लेकिन किसी भी मोबाइल फोन के फॉल्ट को केवल वही व्यक्ति रिपेयर कर सकता है जिसे इसकी ठीक प्रकार से जानकारी हो और इसीलिए अगर कोई कैंडिडेट मोबाइल रिपेयरिंग क्षेत्र में नौकरी करना चाहता है तो इसके लिए सबसे पहले अनिवार्य है कि वह मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करें। इसके साथ-साथ यह भी जानकारी दे दें कि इस कोर्स को करने के बाद अगर आप चाहें तो आप नौकरी कर सकते हैं और आप अपना खुद का मोबाइल रिपेयरिंग व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। इस क्षेत्र में आप काफी आगे तक जा सकते हैं क्योंकि मोबाइल एक ऐसी चीज है जिसकी मार्केट में कभी कमी नहीं होगी बल्कि तेजी के साथ वृद्धि ही होगी। 

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए (mobile repairing course eligibility)

अगर आप मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए आपको बहुत अधिक शिक्षित होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप अगर कम पढ़े लिखे भी हैं तो भी आप इस कोर्स को कर सकते हैं। लेकिन फिर भी आपको हम निम्नलिखित बता रहे हैं कि इस कोर्स को करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कितनी योग्यता होनी चाहिए-  

  • छात्र ने किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से 12वीं कक्षा पास की हो। 
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी भाषा की बेसिक जानकारी होना चाहिए। 
  • इसके अलावा बहुत सारे संस्थान ऐसे हैं जहां पर आठवीं और दसवीं के बाद भी मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करवाया जाता है। 

भारत में मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स संस्थान सूची (mobile repairing course Institute list in India) 

बता दें कि मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के लिए आप किसी अच्छे संस्थान का ही चयन करें क्योंकि इस प्रकार आप उत्कृष्ट ट्रेनिंग हासिल कर सकेंगे जो कि आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध होगी। निम्नलिखित कुछ संस्थानों के नाम इस प्रकार से हैं जो मोबाइल रिपेयरिंग का  कोर्स कराते हैं-

  • स्वरोजगार समिति झंडेवालन, नई दिल्ली (Swarojgar Samiti Jhandewalan, New Delhi)
  • मोबाइल टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट, मुंबई (Mobile Technology Institute, Mumbai) 
  • एबीसी मोबाइल इंस्टीट्यूट, नोएडा (ABC  mobile  Institute, Noida) 
  • हाइटेक मोबाइल टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट, लखनऊ (Hi- tech mobile Technology Institute, Lucknow)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मोबाइल टेक्नोलॉजी, अहमदाबाद (Indian Institute of mobile technology,  Ahmedabad)
  • प्रोटेक्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मोबाइल रिपेयरिंग एंड ट्रेनिंग, इंदौर (Protech Institute of mobile repairing and training, Indore) 
  • एमटी इन्फोटेक, कोलकाता (MT Infotech, Kolkata)
  • माइक्रोचिप मोबाइल फोन इंस्टीट्यूट, दिल्ली (Microchip mobile phone Institute, Delhi) 
  • मिस्टर सर्विस अकैडमी, चेन्नई (Mr Service Academy, Chennai)
  • ऑक्सफोर्ड इंस्टीट्यूट, गुड़गांव (Oxford Institute, Gurgaon) 

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स पाठ्यक्रम (mobile repairing course syllabus) 

इस कोर्स में आपको सभी तरह के मोबाइल रिपेयर करने की ट्रेनिंग दी जाती है जिसको सीखने के बाद आप किसी भी तरह के मोबाइल को ठीक करने सक्षम हो जाते हैं। मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स पाठ्यक्रम की जानकारी इस प्रकार से है- 

  • मोबाइल फोन क्या है
  • मदर बोर्ड यानी पीसीबी सर्किट बोर्ड की जानकारी 
  • मोबाइल के सभी पार्ट्स की जानकारी और पहचान करने का तरीका 
  • पीसीबी पर सभी छोटे बड़े पार्ट्स की आईसी की पहचान करना ‌
  • मोबाइल टूल्स का उपयोग 
  • जंपर बनाना
  • सभी पार्ट्स को लगाना और हटाना
  • स्पीकर की जानकारी
  • लाउडस्पीकर, बैटरी चार्जिंग, वाइब्रेटर मोटर, डिस्प्ले स्क्रीन को ठीक करना
  • नेटवर्क सिग्नल और डाटा केबल जैसी समस्याओं को ठीक करना
  • पुराने बंद पड़े फोन को कैसे ठीक कर सकते हैं। 
  • पासवर्ड भूलना, सुरक्षा कोड, पैटर्न लॉक, हैंग जैसी समस्या को ठीक करना
  • सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करना और इसके अलावा हर छोटी बड़ी रिपेयरिंग प्रक्रिया समझाई जाती है। 

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स फीस (mobile repairing course fees)

आपको जानकारी के लिए बता दें कि मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स की फीस इस बात के ऊपर सबसे अधिक निर्भर करती है कि आपने कौन से संस्थान से कोर्स करने का फैसला लिया है क्योंकि हर इंस्टिट्यूट में कोर्स फीस अलग-अलग है। लेकिन यहां आपको बता दें कि अगर आप कोर्स करना चाह रहे हैं तो इसके लिए आपको कम से कम 10,000 से लेकर15,000 रुपए तक की फीस का भुगतान करना पड़ सकता है। ‌

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद वेतन कितनी मिलती है (salary after mobile repairing course)  

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद आपकी वेतन इस बात के ऊपर डिपेंड करती है कि आप कौन सी कंपनी में काम कर रहे हैं। वैसे यहां आपको बता दें कि कोर्स करने के बाद आपको हर महीने शुरुआत में 12,000-15,000 हजार रुपए तक की सैलरी मिल जाती है और अगर आप अपना कार्य कुशलता पूर्वक करेंगे तो आप मोबाइल रिपेयरिंग काम से और भी अधिक अच्छा वेतन पा सकते हैं। 

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल जिसमें हमने आपको बताया कि मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स (Mobile Repairing Course) कैसे करें? इस लेख में हमने आपको कोर्स से संबंधित सारी अनिवार्य जानकारी दी है इसलिए अगर आप 12वीं के बाद मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करना चाहते हैं तो यह सारी आवश्यक जानकारी आपके लिए काफी अधिक उपयोगी साबित होंगी। अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें जो 12वीं के बाद मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करना चाहते हैं।

Leave a Reply