हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स (Hardware and Networking Course) कैसे करें?

हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स: पिछले कुछ सालों से कंप्यूटर पर काम करना बहुत ज्यादा बढ़ गया है और आने वाले कुछ सालों में इस क्षेत्र में और भी ज्यादा वृद्धि होगी क्योंकि अब जमाना टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर का है और कोई भी कार्य कंप्यूटर के बिना संभव नहीं है। इसी वजह से आज बहुत सारे छात्र 12वीं के बाद हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्स को करने के बाद नौकरी करना अधिक पसंद करते हैं। लेकिन कई बार छात्रों को यह समझ में नहीं आता कि वह अपने हार्डवेयर और नेटवर्किंग कैरियर की शुरुआत किस तरह से करें। अगर आप भी 12वीं के बाद हार्डवेयर और नेटवर्किंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं तो आज के हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें क्योंकि हम इस लेख में आपको इस कोर्स से संबंधित सारी बातें बताएंगे जो आपके लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद रहेंगी। 

हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स

हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग क्या है (What is Hardware and Networking in Hindi) 

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि हार्डवेयर एवं नेटवर्किंग में होता क्या है तो यहां आपको बता दें कि इस कोर्स में कैंडिडेट को कंप्यूटर को रिपेयर करना, कंप्यूटर के किसी पार्ट को बदलना व नए पार्ट्स लगाने के अलावा कंप्यूटर को आपस में जोड़ना सिखाया जाता है। यहां आपको यह भी बता दें कि हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग में अधिकतर लोग सर्टिफिकेट या फिर डिप्लोमा कोर्स करते हैं। सर्टिफिकेट कोर्स की अवधि 6 महीने की होती है और डिप्लोमा कोर्स करने की अवधि 12 महीने से लेकर 15 महीने तक की हो सकती है। यह कोर्स उन छात्रों के लिए एक बहुत ही अच्छा कैरियर ऑप्शन हो सकता है जो 12वीं के बाद टेक्नोलॉजी की फील्ड में जाना चाहते हैं।

Also readइंटीरियर डेकोरेशन कोर्स (Interior Decoration Course) कैसे करें?

हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए (Hardware and Networking course eligibility) 

  • छात्र ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी विषय में 12वीं कक्षा पास की हो।
  • छात्र को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना चाहिए। 
  • बेसिक कंप्यूटर की जानकारी दी होना आवश्यक है। 

भारत में हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स संस्थान (Hardware and Networking course Institute in India)

किसी भी कोर्स को करने के लिए यह बात सबसे अधिक महत्वपूर्ण होती है कि उसके लिए आप किसी अच्छे संस्थान का चुनाव करें क्योंकि एक अच्छे इंस्टिट्यूट में उत्तम ट्रेनिंग के साथ-साथ आपको जॉब प्लेसमेंट की सुविधा भी मिल जाती है। इसलिए जब आप कोर्स करने के लिए संस्थान का चुनाव करें तो बहुत सोच समझ कर करें और थोड़ी बहुत रिसर्च करने के बाद ही अपने चयनित इंस्टिट्यूट में दाखिला लें। यहां हम आपको कुछ कंप्यूटर संस्थानों के नाम बता रहे हैं जहां से आप अपना हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्स कर सकते हैं- 

  • जेटकिंग कंप्यूटर एंड हार्डवेयर इंस्टीट्यूट, दिल्ली (Jetking computer and Hardware Institute, Delhi) 
  • ज्योति विद्यापीठ वुमन यूनिवर्सिटी जयपुर (Jayoti vidyapeeth women’s University, Jaipur)
  • मदर टैरेसा इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, कोची (Mother Teresa Institute of science and Technology, Kochi) 
  • आईटी गुरु ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट, मुंबई (I.T Guru Training Institute, Mumbai)
  • हाइटेक इंस्टीट्यूट चेन्नई (Hi tech Institute, Chennai) 
  • ब्रेनवेयर कंसलटेंसी प्राइवेट लिमिटेड, कोलकाता (Brainware consultancy private limited, Kolkata)
  • कोडेक नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड, चंडीगढ (Codec Network Private Limited, Chandigarh)
  • रूमान टेक्नोलॉजीज, फरीदाबाद (Rooman Technologies, Faridabad)
  • आईआईएचटी जी लर्निंग सॉल्यूशंस, गुड़गांव (IIHTG learning solutions, Gurgaon)
  • क्रोमा केंपस नोएडा (Croma campus, Noida)

Also readविजुअल कम्युनिकेशन कोर्स (Visual Communication Course) कैसे करें?

हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स पाठ्यक्रम (Hardware and Networking course syllabus)

अगर आप यह सोच रहे हैं कि आपको हार्डवेयर एवं नेटवर्किंग कोर्स के अंतर्गत क्या शिक्षा दी जाएगी तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि क्षेत्र में आपको विभिन्न प्रकार की कंप्यूटर और नेटवर्किंग से जुड़ी हुई ट्रेनिंग दी जाती है जिसकी जानकारी इस प्रकार से है- 

  • फंडामेंटल्स ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एंड ऑपरेटिंग सिस्टम (Fundamentals of information technology and operating systems)
  • बेसिक्स ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड माइक्रोप्रोसेसर (Basics of electronics and microprocessor) 
  • पीसी असेंबलिंग एंड ट्रबल शूटिंग (PC assembling and troubleshooting)
  • प्रोग्रामिंग इन सी (Programming in C)
  • कम्युनिकेशन एंड सॉफ्ट स्किल्स (Communication and soft skills) 
  • कंप्यूटर नेटवर्क्स (Computer networks)
  • विंडोज 2003 सर्वर एडमिनिस्ट्रेशन (Windows 2003 server administration)
  • लाइनेक्स एडमिनिस्ट्रेशन (Linux administration)
  • डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन (Database administration)

फीस (fees)

यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि अगर आप हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 15 हजार रुपए से लेकर 60 हजार रुपए तक की फीस देनी होती है। इसके साथ-साथ आपको बता दें कि कंप्यूटर हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स की फीस इस बात के ऊपर भी निर्भर करती है कि आप इस में सर्टिफिकेट कोर्स कर रहे हैं या फिर डिप्लोमा कोर्स कर रहे हैं। साथ ही बता दें कि प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश लेकर कोर्स करने के लिए ज्यादा फीस का भुगतान करना पड़ता है। 

Also readटैक्सटाइल डिजाइन कोर्स (Textile Design Course) कैसे करें?

वेतन (salary) 

किसी भी छात्र को हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्स करने के बाद शुरुआत में ही अच्छा सैलरी पैकेज मिल जाता है जो कि कैंडिडेट के स्किल के ऊपर निर्भर करता है और साथ ही इस बात के ऊपर निर्भर करता है कि उम्मीदवार को कितना अनुभव है।‌ लेकिन फिर भी अगर हम एक अनुमान लगाएं कि हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स करने के बाद आपको कितना वेतनमान मिल सकता है तो बता दें कि 15,000 रुपए से लेकर 20,000 रुपए तक की सैलरी मिल जाती है और अगर उम्मीदवार की जॉब किसी अच्छी और नामी कंपनी में लग जाती है तो तब उसे और भी अधिक वेतन मिल जाता है। 

Also readकंप्यूटर हार्डवेयर कोर्स (Computer Hardware Course) कैसे करें?

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स (Hardware and Networking  Course) कैसे करें? इस पोस्ट में हमने आपको बताया कि किस प्रकार आप हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स करने के बाद सफल कैरियर की उड़ान भर सकते हैं। आपको इस आर्टिकल में हमने बताया कि आप भारत में कौन से प्रतिष्ठित संस्थानों से हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग कोर्स कर सकते हैं और वहां पर आपको कितनी फीस का भुगतान करना होता है। 

साथ-साथ हमने आपको यह जानकारी भी दी की हार्डवेयर एवं नेटवर्किंग कोर्स करने के बाद आपको हर महीने कितना वेतनमान मिल सकता है। इसके अलावा हमने आपको hardware and networking course से जुड़ी हुई अन्य दूसरी सारी आवश्यक जानकारी दे दी है जो कि आपके लिए बहुत ज्यादा हेल्पफुल रहेगी। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई सारी जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें ताकि अगर वह भी 12वीं के बाद हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्स करना चाहते हैं तो उन्हें किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो। 

Leave a Reply