फंड मैनेजर (Fund Manager) कैसे बनें?

नमस्कार! आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि Fund Manager कैसे बनें? अगर किसी छात्र को म्यूच्यूअल फंड, ट्रस्ट फंड, पेंशन फंड इत्यादि में रुचि है तो वह फंड मैनेजर के रूप में काम कर सकता है। आज के समय में इस इंडस्ट्री में काफी तेजी के साथ वृद्धि इसलिए हो रही है क्योंकि अधिकतर लोग अब अपने पैसों को निवेश करना अधिक पसंद करते हैं। इसलिए अगर आप इस फील्ड में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं तो यह जरूरी है कि आपको फंड मैनेजर बनने से जुड़ी हुई सारी जानकारी होना आवश्यक है अगर आपको इसके बारे में सारी जानकारी चाहिए तो हमारे आज के इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें और जानें कि आप किस प्रकार से इस क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकते हैं। 

फंड मैनेजर क्या होता है (what is Fund Manager in Hindi) 

यहां सबसे पहले आपको बता दें कि Fund Manager एक ऐसा फाइनेंशियल एक्सपर्ट होता है जो कि म्यूच्यूअल फंड के बारे में ग्राहकों को उचित राय देने का काम करता है। साथ ही बता दें कि पिछले कुछ दशकों से म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्टमेंट करने के लिए लोगों का बहुत ही ज्यादा रुझान बढ़ा है। इसीलिए फंड मैनेजर के पद पर काम करने वाले कैंडिडेट को अपने ग्राहकों को निवेश की उचित राय देने के साथ साथ उत्तम रणनीति भी बना कर देता है जिससे कि उन्हें लाभ हो सके। इसके लिए वह मार्केट ट्रेंड्स को बहुत ही ज्यादा बारीकी से फॉलो करता है ताकि अपने क्लाइंट को श्रेष्ठ म्यूच्यूअल फंड उपलब्ध करा सके। 

Also read: फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क (Foreign Exchange Clerk) कैसे बनें?

फंड मैनेजर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

फंड मैनेजर बनने के लिए कैंडिडेट को सबसे पहले अपनी 12वीं कक्षा कॉमर्स विषय के साथ पास करनी होगी। फिर उसे चाहिए कि वह अपना ग्रेजुएशन कॉमर्स, इकोनॉमिक्स या फिर फाइनेंस जैसे विषय में करें। उसके बाद वह कैंडिडेट इस क्षेत्र में नौकरी करने के लिए अपना आवेदन देश के बैंकों में और कंपनियों में दे सकता है जहां वह फंड मैनेजर के रूप में काम कर सकता है। 

फंड मैनेजर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  • कैंडिडेट ने कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया हो।
  • या फिर इच्छुक उम्मीदवार ने इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की हो। 
  • या कैंडिडेट ने फाइनेंस में ग्रेजुएशन किया हो। 
  • इच्छुक उम्मीदवार को मार्केट के ट्रेंड और म्युचुअल फंड्स की गहरी जानकारी होनी चाहिए।
  • कंप्यूटर का ज्ञान होना चाहिए।
  • अंग्रेजी भाषा में वार्तालाप कर सकने में निपुण होना चाहिए।

आयु सीमा 

जो कैंडिडेट फंड मैनेजर बनना चाहते हैं उन्हें यहां बता दें कि इसके लिए किसी भी प्रकार की कोई आयु सीमा निर्धारित नहीं की गई है लेकिन हम यही राय देंगे कि कैंडिडेट अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के बाद ही इस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाएं ताकि उसे म्यूच्यूअल फंड और इन्वेस्टमेंट इत्यादि को लेकर किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो सके। 

फंड मैनेजर बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

आपको जानकारी के लिए बता दें कि फंड मैनेजर बनने के बाद कैंडिडेट को बहुत सारी कंपनियों में काम करने का चांस मिलता है जहां पर वह अपनी योग्यता के अनुसार अपना काम कर सकते हैं जैसे कि बिरला सन लाइफ म्यूच्यूअल फंड, एचडीएफसी म्युचुअल फंड, एचएसबीसी म्युचुअल फंड, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया म्युचुअल फंड, टाटा म्युचुअल फंड, कोटक महिंद्रा म्यूच्यूअल फंड इत्यादि।

वेतन 

जब कोई व्यक्ति फंड मैनेजर के रूप में काम करने लगता है तो उसे जो वेतनमान हर महीने दिया जाता है वह पूरी तरह से उसकी योग्यता के ऊपर निर्धारित करता है। इस प्रकार हर महीने में 50,000 से लेकर 1 लाख रुपए तक का सैलरी पैकेज हर महीने प्राप्त कर सकता है। वहीं अगर उसको किसी अच्छी और बड़ी कंपनी में नौकरी करने के अवसर मिल जाते हैं तो फिर उसे इससे भी ज्यादा वेतन हर महीने मिल सकता है। 

फंड मैनेजर के कार्य 

जो कैंडिडेट फंड मैनेजर के रूप में काम करता है उसे अपने पद पर रहते हुए बहुत ही जिम्मेदारी और महत्वपूर्ण कार्य करने होते हैं जिसके अंतर्गत निम्नलिखित कामों की जिम्मेदारी उस पर होती है-

  • ग्राहक को फाइनेंशियल एडवाइस देने का काम करते हैं।
  • क्लाइंट को विभिन्न निवेशो के बारे में राय देते हैं ताकि वह अपने पैसे को सही जगह पर इन्वेस्ट कर सकें।
  • अलग-अलग कंपनियों में जाकर उनकी फाइनेंसियल कंडीशन को डिस्कस करना और एनालाइज करना एवं उनको फिर बेहतरीन निवेश की राय देना। 
  • अपने क्लाइंट को एक बहुत ही सिंपल तरीके के साथ इन्वेस्टमेंट की उचित रणनीतियां समझाना।

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल Fund Manager कैसे बनें? इस पोस्ट के द्वारा हमने आप को जानकारी दी कि फंड मैनेजर क्या होता है और उसमें कितनी योग्यता होनी चाहिए। इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया कि फंड मैनेजर बनने की पूरी प्रक्रिया क्या होती है और जब कोई कैंडिडेट फंड मैनेजर बन जाता है तो उसे कौन-कौन से कार्य करने होते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको यह जानकारी भी दी कि एक फंड मैनेजर को हर महीने कितने रुपए तक का वेतन मिल सकता है। वैसे अगर देखा जाए कि अगर किसी कैंडिडेट को म्यूच्यूअल फंड की अच्छी समझ है और मार्केट ट्रेंड को भी वह बहुत तेजी के साथ समझ जाता है तो तब वह इस क्षेत्र में अपना कैरियर बहुत शानदार बना सकता है। अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारे द्वारा दी गई सारी जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो फंड मैनेजर बनना चाहते हैं। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply