फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क (Foreign Exchange Clerk) कैसे बनें?

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि Foreign Exchange Clerk कैसे बनें? बैंकिंग सेक्टर में आमतौर पर वही छात्र अपना कैरियर बनाते हैं जिन्हें अर्थमैटिक और मैथमेटिक जैसे विषय बहुत ज्यादा पसंद होते हैं। इसीलिए बैंक में आज बहुत सारे छात्र अपनी पढ़ाई करने के बाद फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क की पोस्ट पर काम करते हैं। लेकिन इस पद को हासिल करना हर किसी के लिए संभव नहीं हो पाता है क्योंकि आमतौर पर छात्र कहीं ना कहीं कोई गलती कर देते हैं जिसकी वजह से वह दूसरों से पीछे रह जाते हैं। यदि आप भी एक ऐसे अभ्यर्थी हैं जो फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के तौर पर काम करना चाहते हैं और उसके जुड़ी हुई जानकारी ढूंढ रहे हैं तो हमारे आज के इस पोस्ट को सारा पढ़े और जानें आप किस प्रकार से इस पद पर काम कर सकते हैं।

फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क क्या होता है (what is Foreign Exchange Clerk in Hindi) 

यहां सबसे पहले आपको जानकारी के लिए बता दें कि फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बैंकिंग सेक्टर में काम करने वाला एक ऐसा प्रोफेशनल होता है जिसका मुख्य काम ग्राहकों को फॉरेन एक्सचेंज सेवा प्रदान करना होता है। इसके अलावा नेशनल और विदेशी मुद्राओं के लेनदेन की नकद प्रक्रिया में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसीलिए अपने पद पर काम करते हुए उसे अपने बैंक के ग्राहकों को विदेशी मुद्राओं से जुड़ी हुई उत्तम सुविधाएं और जानकारी प्रदान करना होता है। अगर कोई अभ्यर्थी इस पद पर काम करने का इच्छुक होता है तो उसका हिसाब किताब बहुत ही उत्कृष्ट होना चाहिए।

Also read: क्लर्क कम कैशियर (Clerk Cum Cashier) कैसे बनें?

फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

जो छात्र फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनना चाहते हैं उन्हें जानकारी के लिए बता दें कि इस क्षेत्र में वहीं छात्र सफलता हासिल कर सकते हैं जिनका अर्थमैटिक और मैथमेटिक्स काफी ज्यादा स्ट्रांग होता है जिसकी तैयारी उन्हें स्कूल टाइम से ही करनी होती है। जानकारी दे दें कि छात्र को 12वीं कक्षा कॉमर्स विषय के साथ पास करना जरूरी होता है जिसके बाद कैंडिडेट को चाहिए कि वह अपना ग्रेजुएशन बीकॉम जैसे विषय में करें या फिर अगर वह चाहें तो बीकॉम फॉरेन ट्रेड मैनेजमेंट में भी कर सकता है। जब उसका ग्रेजुएशन पूरा हो जाए तो उसके बाद वह देश विदेश के बैंकों में फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के रूप में काम करने के लिए अपना आवेदन दे सकता है। 

फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  • इच्छुक उम्मीदवार ने कम से कम बीकॉम विषय किया होना चाहिए।
  • बीकॉम के बाद कैंडिडेट ने फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट में डिप्लोमा किया हो।
  • या फिर बी कॉम फॉरेन ट्रेड मैनेजमेंट में किया होना चाहिए।
  • कैंडिडेट का गणित और अर्थमैटिक बहुत ही ज्यादा मजबूत होना चाहिए।
  • विदेशी मुद्राओं की अच्छी जानकारी होनी चाहिए।
  • कंप्यूटर और अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है।

आयु सीमा 

  • कैंडिडेट की मिनिमम आयु 20 साल तक होनी चाहिए और अधिकतम आयु सीमा 25 साल तक हो।
  • जो कैंडिडेट किसी आरक्षित श्रेणी से हैं उन्हें सरकार के नियमानुसार आयु सीमा में छूट प्राप्त है।

फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

जो अभ्यर्थी फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के रूप में अपना कैरियर बनाने के इच्छुक हैं उन्हें जानकारी के लिए बता दें कि जब वह अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल कर लेते हैं तो उसके बाद उन्हें बैंकिंग एवं इंश्योरेंस सेक्टर में काम करने के विस्तृत मौके मिल जाते हैं जहां पर वह कार्य कर सकते हैं। यहां बता दें कि एक फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क को अपने देश में ही नहीं बल्कि विदेशी बैंकों में भी नौकरी करने के चांस मिल जाते हैं क्योंकि अगर किसी कैंडिडेट में योग्यता है तो वह अच्छी जगह पर काम करने के अवसर आसानी के साथ प्राप्त कर सकता है। 

वेतन 

जब कोई कैंडिडेट फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के रूप में किसी बैंक में काम करता है तो तब उसे हर महीने नौकरी की शुरुआत में तकरीबन 30,000 से लेकर 40,000 का सैलरी पैकेज मिल जाता है जो कि कुछ वर्षों के अनुभव हासिल करने के बाद और भी ज्यादा बढ़ जाता है। साथ ही यहां बता दें कि अगर कैंडिडेट किसी प्रतिष्ठित बैंक में काम करता है तो तब उसे और भी ज्यादा वेतनमान हर महीने मिल जाता है। 

फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के कार्य 

  • अपने देश में विदेशी मुद्रा के संचालन के साथ साथ विदेशी मुद्राओं में भी डीलिंग का काम करता है। 
  • ग्राहक को विदेशी मुद्राओं को खरीदने और बेचने से संबंधित टर्म एंड कंडीशन के बारे में भी जानकारी देता है। 
  • एक्सचेंज ऑफिस में कैश हैंडल करता है।
  • सभी विदेशी मुद्राओं के ट्रांजैक्शन की पूरी जानकारी रखता है। 
  • यह चेक करता है कि स्वीकार किया गया पैसा जेनुइन और वैलिड है या नहीं।
  • कस्टमर के सभी दस्तावेजों की जांच पड़ताल करना कि वह सही है या फिर नहीं।

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि Foreign Exchange Clerk क्या होता है और उसके बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कितनी योग्यता होनी चाहिए। इसके साथ-साथ हमने यह जानकारी भी दी कि फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनने की प्रक्रिया क्या है और इस फील्ड में काम करने के इच्छुक कैंडिडेट के सामने कैरियर की कौन-कौन सी संभावनाएं होती है। इस लेख में हमने आपको यह भी बताया कि फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क बनने के बाद कैंडिडेट को कौन-कौन से कार्य करने होते हैं और हर महीने उसे कितने रुपए तक का वेतन मिल सकता है। देखा जाए तो अगर किसी कैंडिडेट को गणित की अच्छी जानकारी है तो वह इस क्षेत्र में काफी सफल कैरियर बना सकता है। उम्मीद है कि आपको हमारा यह पोस्ट जरूर अच्छा लगा होगा इसलिए इसे अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क के रूप में काम करना चाहते हैं। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply