शिक्षा ऋण भारत में हर छात्रों के लिए

एक अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा एक सफल जीवन के लिए जरूरी होता है | आज भारत में हर वर्ग के युवा पढ़ाई करना चाहते है मगर वो वंचित रह जाते है क्योंकि उनके पास पढ़ाई करने के लिए पैसे नहीं होते है | इससे उनका सपना अधूरा रह जाता हैं | भले ही कुछ युवा छात्रवृत्ति लेने में सफल हो जाते लेकिन बाकी को बीच में ही पढ़ाई छोड़नी पड़ जाती हैं |

ऐसे मे शिक्षा ऋण ही एक रास्ता है जिसके द्वारा अपना सपना पूरा किया जा सकता हैं |

भारत में इंजीनियरिंग कोर्सेज फ़ीस 5 lacs से 15 lacs तक होती है | और मेडिकल कोर्स फीस 50 लाख तक हो सकती है | बिजनेस स्कूल कोर्स की फीस 10 लाख तक होती हैं |

हमेशा से प्राइवेट स्कूल की फ़ीस ज्यादा रही है सरकारी स्कूलों की तुलना में,  एसी परिस्थिति मे छात्र शिक्षा ऋण की तरफ देखते हैं |

शिक्षा ऋण कई सारे बैंकों की पेशकश करती हैं ऐसे में पेरेंट्स एंड स्टूडेंट्स के लिए विकल्प चुनना काफी मुश्किल हो जाता हैं | 

संक्षिप्त में शिक्षा ऋण के बारे मे नीचे जानकारी दी गई है |

शिक्षा ऋण

शैक्षिक ऋण बनाम व्यक्तिगत ऋण

आमतौर पर लोग महसूस करते है कि व्यक्तिगत ऋण हमारे लिए फायेदेमंद रहेंगे पर ऐसा नहीं है | व्यक्तिगत ऋण मे, आपको अधिक ब्याज दर देना पड़ता है और अधिक भुगतान करते है |

शैक्षिक ऋण यह विशेष रूप से शिक्षा के लिए ही दिया जाता है | शैक्षिक ऋण कई मामले में स्टूडेंट्स के लिए फायेदेमंद होता है जो कि स्टूडेंट का उदेश्य पूरा करता है |

भारतीय सरकार शिक्षा ऋण योजना

इस योजना के तहत अधिस्थगन अवधि के दौरान ब्याज  में छूट दी जाती है | यह योजना भारत सरकार ने IBA और RBI के परामर्श से स्कीम लाया गया है | इस योजना के तहत सभी प्रकार के शिक्षा देश – विदेश मे कवर किये जाते है |

शिक्षा ऋण के लाभ

  • सभी छात्रों के लिए लागू: कोई भी छात्र  शिक्षा ऋण के लिए आवेदन कर सकते है | यहाँ तक आर्थिक रूप से पिछड़ा वर्ग भी इस योजना का फायदा ले सकते है |
  • सभी कोर्सेज के लिए लागू: शिक्षा ऋण का उदयेश सभी प्रकार के education तथा सभी प्रकार के कोर्सेज का पढाई करने के लिए किया जा सकता है | और चाहे भारत में पढाई हो या फिर विदेश के यूनिवर्सिटी  में |
  • आसानी से उपलब्ध ऋण: शिक्षा ऋण बैंक से आसानी से उपलब्ध किया जा सकता है | यह RBI के दिशानिर्देश के अनुसार सभी बैंको मे एक ही प्राथमिकता वाले स्कीम उपलब्ध है |
  • विविध ऋण राशियाँ: भारत में शिक्षा ऋण, amount 2- 22 lacs तक की पेशकश कर सकते है | वहीं विदेश के लिए 20 lacs तक ले सकते है | शिक्षा ऋण राशि कोर्स पर निर्भर करता है जिसके लिए भारत मे कही से भी आवेदन कर सकते है |
  • शिक्षा को पूरा करने में मदद करता है: इतनी महगाई और संस्थान , कॉलेजस के बड़ते फीस की वजह  से शिक्षा मे बाधा आ रही है | एसे में शिक्षा ऋण आवश्यक हो जाता है | 
  • ऋण लाभ: शिक्षा ऋण में कई तरह के लाभ शामिल है जैसे कि बुक्स शुल्क, पुस्तकालय शुक्ल, लाइब्रेरी शुल्क, tution फीस, छातावास शुक्ल etc. 
  • महिलाओं के लिए कम ब्याज दर: आमतौर पर महिलाओ को ब्याज दर मे रियायत मिलती है अगर हम लड़को से तुलना करे | 
  • आसान चुकौती: शिक्षा ऋण का सबसे बड़ा फायदा यह है कि उधार की राशि तुरंत चुकाने  की जरुरत नहीं पड़ती है | कोर्स पूरा करने के 5-७ साल बाद तक पुन:भुगतान आसानी से कर सकते है |

भारत में शिक्षा ऋण के लिए शर्तें

शिक्षा ऋण लेते समय कुछ बुनयादी चीजे पूरा करने की जरूरत होती है | जैसे कि – 

  • कोर्स फीस और आवेदक की बार्षिक पारिवारिक आय |
  • 4 lacs से कम के लोन लेने पर गारंटर की या सुरक्षा की जरूरत नहीं पड़ती है | 
  • 4 lacs से अधिक के लोन लेने पर 3rd Party गारंटर की आवश्यकता पड़ती है | 
  • 7.5 lacs से अधिक के लोन लेने पर collateral जरूरी होता है | 
  • विदेश मे पढाई के लिए बिधार्थी का बीमा आवश्यक होता है

ऋणों का पुनर्भुगतान

शिक्षा ऋण छात्र द्वारा चुकाया जाता है | आमतौर पर जब कोर्स पूरा हो जाता है | उसके ६ महीने बाद या 1 साल बाद repayment के लिए कहा जाता है | 

पुनः भुगतान की अवधि 5-7 साल के बीच की होती है | जबकि इसको आगे भी बढाया जा सकता है | बैंक कोर्स अवधि के दौरान शिक्षा ऋण साधारण ब्याज दर पर देता  है | 

भारत में शिक्षा ऋण देने वाले लोकप्रिय बैंक

  • State Bank of India
  • Punjab National Bank
  • United Bank Of India
  • Axis Bank
  • HDFC Bank
  • Avanse Financial Services
  • Credila (HDFC Bank Company)
  • ICICI Bank
  • Indian Overseas bank
  • Dena Bank
  • Vijaya Bank etc.

शिक्षा ऋण की ब्याज दरें

भारत में शिक्षा ऋण, banks के अनुसार अलग-अलग इंटरेस्ट रेट पर मिलती है  हालांकि MCLR के आधारित रेट तैयार करती है | इंटरेस्ट रेट 12%-16% के बीच भारत में कही से भी मिल सकती है |

शिक्षा ऋण के लिए आवेदन करने से पहले महत्वपूर्ण सुझाव

  • आपको अपने परिवार के वित्तीय क्षमताओ और परिस्थिति को ध्यान में रखा कर निर्णय लें | और फिर विकल्प चुने ताकि समय पर भुगतान कर सके और अपने माता पिता डिफाल्टर की list मे शामिल ना हो सके |
  • शिक्षा ऋण आवेदन करने से पहले टर्म एंड कंडीशन को धयान से पड़े क्योंकि इनमे छुपी हुई लागत भी हो सकती है |
  • आपको आमतौर पर वह बैंक चुने जो अप्रतियाशित परिस्तिथि में देरी के मामले मे रियायत दें  या कार्यकाल के विस्तार की सुविधा प्रदान करें |
  • जो आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्र है उनको सरकार द्वारा नियंत्रित बैंकों का विकल्प चुनना चाहिए क्योंकि वे छात्रों के लिए ब्याज-सब्सिडी प्रदान कराती है ।
  • और अंत में, आप जाने की आपका शिक्षा ऋण क्या है | क्योंकि शिक्षा ऋण आपके पास नहीं आती है | ये सीधे आपके Institute या आपके संस्थान में जाता है | इसलिए सभी दस्तावेज को ध्यान से पड़े ताकि आपको बाद मे कोई परेशानी ना हो |

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply