ओपन यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस लर्निंग कोर्स कैसे और कहाँ से करे महत्वपूर्ण जानकारी

ओपन यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस लर्निंग कोर्स: ODL प्रणाली एक ऐसी शिक्षा प्रणाली है जिसमें शिक्षकों और शिक्षार्थियों को एक ही स्थान या एक ही समय पर उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं होती है । शिक्षण और सीखने के तौर-तरीकों और समय के संबंध लचीला होता है और आवश्यक गुणवत्ता के विचारों से समझौता किए बिना डिस्टेंस एजुकेशन प्राप्त कर सकते है।

देश की ओडीएल प्रणाली में इंद्रा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU), राज्य मुक्त विश्वविद्यालय (SOU), दिल्ली विश्वविद्यालय, सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय, हिमालयन विश्वविद्यालय, राजश्री टंडन मुक्त विश्वविद्यालय, सहजीवन खुली शिक्षा का केंद्र, अन्नामलाई विश्वविद्यालय, नेताजी सुभाष चंद्रा बोस मुक्त विश्वविद्यालय जैसे डिस्टेंस शिक्षा प्रदान करने वाले संस्थान और विश्वविद्यालय शामिल हैं |

ओपन यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस लर्निंग कैसे करें

ओपन यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस लर्निंग कोर्स योग्यता और प्रवेश

जिन छात्रों ने 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर ली है , वे ओपन यूनिवर्सिटी से किसी भी पाठ्यक्रम यानी सिलेबस के लिए आवेदन कर सकते हैं। कुछ कॉलेज प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रवेश प्रदान करते हैं या उनमें से कुछ कॉलेजो में सीधे प्रवेश मिल जाता है। डिस्टेंस एजुकेशन संस्थानों / विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए छात्रों को आवेदन भरना आवश्यक है। यह विश्वविद्यालय पर निर्भर करता है कि वह ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन पत्र पर मंजूरी देते है। इच्छुक छात्र संबंधित संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट यानी ऑफिसियल वेबसाइट से पूरी प्रवेश प्रक्रिया की जांच कर सकते हैं।

डिस्टेंस एजुकेशन में प्रवेश पाने से पहले, आपको यह पुष्टि करनी होगी कि जिस संस्थान और पाठ्यक्रम में आप प्रवेश यानी एडमिशन प्राप्त करना चाहते हैं, वह डिस्टेंस एजुकेशन परिषद (DEC), नई दिल्ली द्वारा मान्यता प्राप्त है। शिक्षा संस्थान किस बोर्ड के अंतर्गत मान्यता प्राप्त है आपको यह भली भाँती सुनिश्चित करना आवश्यक है।

विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए डिस्टेंस एजुकेशन करने वाले उम्मीदवारों को हमेशा संदेह होता है। डिस्टेंस एजुकेशन में उनकी डिग्री की वैधता के बारे में संदेह होता है। आज हम इस लेख के ज़रिये डिस्टेंस एजुकेशन के संबंध में आपके संदेह और मिथकों को दूर कर रहे हैं। डिस्टेंस एजुकेशन ज़्यादातर वे लोग करना चाहते है जो नौकरी कर रहे हो या फिर रोज़ाना कॉलेज जाना उनके लिए असंभव हो। इंस्टीट्यूशन, शिक्षार्थियों और शिक्षक के बीच संचार मुख्य रूप से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसे टेलीफोन, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, ईमेल, वेबसाइट, चैट सेशन, टेलीकांफ्रेंसिंग आदि के माध्यम से भी होता है।

B.Sc.
B.Ed.
Bachelor in Physiotherapy(BPT)
Bachelor of Arts (BA)
Bachelor of Business Administration (BBA)
Bachelor of Commerce (BCom)
Bachelor of Computer Application (BCA)
Bachelor of Library and Information Science
BBM
BLISc
BTech
MBA
Certificate Courses
Computer Application
Diplomas
Food and Nutrition
Human Resource Management
Journalism and Mass Communication
M.Ed.
M.Phil
M.Sc.
Marketing Management
MCA
PG diploma
MSC ,PHD इत्यादि कोर्स हम डिस्केटेंस लर्निंग ज़रिये कर सकते है।

डिस्टेंस लर्निंग कोर्स क्यों है ज़रूरी

डिस्टेंस लर्निंग कोर्स के तरफ लोगो का रुझान बढ़ता चला जा रहा है। कुछ वर्षो में लोगों की रूचि डिस्टेंस एजुकेशन के प्रति बढ़ी है। आज भारत में सौ लाख के खरीब लोग डिस्टेंस लर्निंग का कोर्स करने के लिए उत्सुक है। IGNOU , सिक्कीम मणिपाल विश्वविद्यालय से लोग अपना डिस्टेंस लर्निंग का कोर्स करना पसंद करते है। आप अपनी सामर्थ्य के अनुसार फीस देकर अच्छी और गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्राप्त कर सकते है। यहाँ फीस इतनी ज़्यादा नहीं होती है। इसलिए गांव और शहरों से काफी विद्यार्थी ,कामकाजी महिला और नौकरी करने वाले लोग डिस्टेंस एजुकेशन के द्वारा अपना पसंदीदा कोर्स पूरा कर सकते है।

राष्ट्रिय ज्ञान समिति के एक स्कीम के अनुसार भारत में पंद्रह सौ विश्विद्यालय की ज़रूरत की मांग की गयी है। इस स्कीम के अनुसार भारत सरकार ने डिस्टेंस कोर्स के महत्व पर ज़ोर दिया है। सरकार चाहती है कि कुछ वर्षो में देश के हर जिले में एक डिस्टेंस कोर्स के पढ़ाई की एक यूनिवर्सिटी अवश्य हो। इससे डिस्टेंस एजुकेशन की प्रगति अवश्य होगी। हालांकि यह कार्य इतना आसान नहीं है ,मगर सरकार इस पर काम कर रही है।

सिक्किम मणिपाल यूनिवर्सिटी, डिस्टेंस एजुकेशन

सिक्किम मणिपाल यूनिवर्सिटी एक लोकप्रिय संस्थान है जहाँ उच्च स्तर पर विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा दी जाती है। भारत के ज़्यादातर छात्र सिक्किम मणिपाल यूनिवर्सिटी से डिस्ग्रेटेंस एजुकेशन के मध्यम से ग्रेजुएशन और डिप्लोमा जैसी कोर्स पूरी करने हेतु यहाँ प्रवेश लेते है। कुछ विद्यार्थी जो रेगुलर कोर्स नहीं कर पाते है ,वह कॉरेस्पोंडेंस कोर्स करने के लिए इन यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने के लिए यहां आते है।

इस यूनिवर्सिटी से MBA , MCA , BBA , BCA जैसे कोर्स डिस्टेंस लर्निंग से विद्यार्थी करना पसंद करते है। इनकी सर्टिफिकेट्स लोगो की जॉब प्रोफाइल में एहमियत रखती है। यहाँ बीस प्रतिशत तक स्कालरशिप फीस का विकल्प होता है। साथ ही आप अपना फीस EMI के ज़रिये भर सकते है।

इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त यूनिवर्सिटी, डिस्टेंस एजुकेशन

इगनू ( IGNOU )एक जाना माना यूनिवर्सिटी जो कई वर्षो तक लोकप्रिय रहा है और आज भी है । इगनू ने ऐसे कोर्स का चयन किया है जिनका जॉब मार्किट में भारी मांग है। इगनू ने यह सुनिश्चित किया है की विद्यार्थी रोज़गार संबंधित कोर्स यहाँ से कर सके और उन्हें भविष्य में अच्छी नौकरी मिल जाए। इगनू कोर्स की गुणवत्ता , पाठ्यक्रम इत्यादि चीज़ो का भली भाँती ध्यान रखता है। अगर ज़िन्दगी के इस भाग दौर में किसी की भी पढ़ाई अधूरी रह जाए तो उन्हें निराश बिलकुल नहीं होना चाहिए। इगनू जैसे बेहतर माध्यम से आप बेझिझक डिस्टेंस एजुकेशन का कोर्स कर सकते है। । यहाँ हर प्रकार का कोर्स उपलब्ध है।

सिम्बायोसिस सेंटर फॉर डिस्टेंस लर्निंग

यह पुणे में स्थित है। यहाँ छात्रों को बेहतर ऑनलाइन क्लासेज के साथ अच्छी फैकल्टी ,इंडक्शन कार्यक्रम , डिजिटल लाइब्रेरी और इ लर्निंग की सुविधा है। आप निशुल्क वेबिनारस में शामिल हो सकते है। यह AICTE approved यानी मान्यता प्राप्त डिस्टेंस एजुकेशन संस्थान है। यह शिक्षा संस्थान अपने गुणवत्ता अच्छी शिक्षा के लिए मशहूर है।

यह सेंटर महाराष्ट्र सरकार के आईटी पुरस्कार के विजेता घोषित किये गए थे। outlook द्वारा सिम्बायोसिस सेंटर फॉर डिस्टेंस लर्निंग को सवश्रेष्ठ डिस्टेंस लर्निंग संस्थानों में आठवां स्थान दिया गया है। BCA , MBA , PGDM ,MCA , BBA जैसे कोर्स की पढ़ाई के लिए ज़्यादातर विद्यार्थी इस संस्थान में प्रवेश लेते है। इसका एडमिशन ज़्यादातर अप्रैल और मई महीने में होता है।

हिमालयन यूनिवर्सिटी डिस्टेंस एजुकेशन

हिमालयन विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरुणाचल प्रदेश, भारत यूजीसी अधिनियम 1956 की 2 एफ की धारा के तहत विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्यता प्राप्त एक नॉन प्रॉफिटेबल विश्वविद्यालय है। साक्षरता दर बढ़ाने के लिए उच्च शिक्षा के माध्यम से अर्थव्यवस्था को विकसित और उत्थान के लिए हिमालय विश्वविद्यालय की स्थापना की गई थी। कामकाजी छात्रों और पेशेवरों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, इटानगर के प्रख्यात हिमालयन विश्वविद्यालय भी स्नातक यानी ग्रेजुएट और स्नातकोत्तर स्तर और मानविकी और वाणिज्य विषयों में डिस्टेंस एजुकेशन कार्यक्रम आयोजित करता है। यहाँ विद्यार्थी BA , B .COM , M.COM , MA in (english) अंग्रेजी और MA इन हिस्ट्री यानी इतिहास जैसे कोर्सेज distance learning द्वारा कर सकते है।

दिल्ली स्कूल ऑफ़ ओपन यूनिवर्सिटी

रेगुलर कक्षाएं ना करने के कारण कुछ विद्यार्थी दिल्ली स्कूल ओपन यूनिवर्सिटी में दाखिला लेते है। दाखिले के पश्चात जल्दी ही विद्यार्थी को स्टडी मटेरियल प्रदान किया जाता है। उसके बाद विद्यार्थी वार्षिक परीक्षा दे सकते है। डिस्टेंस एजुकेशन के लिए एसओएल ग्रेजुएशन में चालीस प्रतिशत मार्क्स के साथ दाखिला ले सकते है। इस लर्निंग कोर्स के अंतर्गत पोलिटिकल साइंस , अंग्रेजी और बीकॉम जैसे कोर्स के दाखिले के लिए विद्यार्थी के पच्चास परसेंट मार्क्स का होना अनिवार्य है। पोस्टग्रेजुएशन के लिए आप हिंदी ,संस्कृत , ऑटोमोबाइल सर्विस और मैनेजमेंट, इतिहास , सॉफ्टवेयर अप्लीकेशन , कॉमर्स इत्यादि विषयो की पढ़ाई यहाँ से कर सकते है। दिल्ली ओपन स्कूल ऑफ़ लर्निंग में रेगुलर कोर्स के प्रवेश के पश्चात एसओएल के दाखिले का प्रोसेस शुरू हो जाता है।

नेताजी सुभाष चंद्रा बोस ओपन यूनिवर्सिटी

नेताजी सुभाष ओपन यूनिवर्सिटी (NSOU) एक खुला विश्वविद्यालय है जो डिस्टेंस एजुकेशन प्रदान करता है। इसकी स्थापना 1997 में हुयी थी। इसका मुख्यालय 1, वुडबर्न पार्क, कोलकाता में है, जो एक बार नेताजी का निवास स्थान है। इसकी शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी और बंगाली हैं। यह विभिन्न विषयों में स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के पाठ्यक्रम प्रदान करता है और पूर्वी भारत के सबसे बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है।

छात्रवृत्ति योजनाएं: इसके अंतर्गत डिस्टेंस लर्निंग करने के लिए कई प्रकार की स्कालरशिप स्कीम है जैसे :पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति ,राष्ट्रीय योग्यता-सह-छात्रवृत्ति योजना,एनसीईआरटी द्वारा राष्ट्रीय प्रतिभा खोज योजना ,राष्ट्रीय छात्रवृत्ति इत्यादि। यहाँ डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग , BBM , MBA , MCom , humanities and arts certification आदि डिस्टेंस कोर्स किये जा सकते है।

बीआर अंबेडकर ओपन यूनिवर्सिटी

डॉ . बी.आर. अंबेडकर मुक्त विश्वविद्यालय (बीआरओयू), हैदराबाद को पहले आंध्र प्रदेश ओपन यूनिवर्सिटी के रूप में जाना जाता था। यह निजाम सिटी हैदराबाद में स्थित है।

बीआरओयू हैदराबाद का एक आदर्श मुद्दा है “शिक्षा आपके द्वार पर”। विश्वविद्यालय में लगभग 152 अध्ययन केंद्र हैं जो आंध्र प्रदेश राज्य के बाहर फैले हुए हैं। डॉ. बी.आर.ओयू एक मल्टी-मीडिया शिक्षण अधिगम दृष्टिकोण रखता है, जिसमें ऑल इंडिया रेडियो के माध्यम से ऑडियो, वीडियो पाठ और पाठों के नियमित प्रसारण द्वारा समर्थित सेल्फ स्टडी प्रिंट सामग्री शामिल है। विश्वविद्यालय विज्ञान आर्ट्स एंड मैनेजमेंट में यूजी डिग्री और विज्ञान, आर्ट्स में पीजी डिग्री प्रदान करता है। इनके अलावा, विश्वविद्यालय लाइब्रेरी मैनेजमेंट, मास कम्युनिकेशन, एनवायरनमेंटल स्टडीज, एनजीओ मैनेजमेंट और कई अन्य में सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स के लिए रजिस्टर्ड है।

राजश्री टंडन ओपन यूनिवर्सिटी

आप इस (U.P.Rajarshi Tandon Open University) डिस्टेंस लर्निंग सेंटर से ग्रेजुएशन कोर्स कर सकते है। आप BCA , MCA जैसे कोर्स इस यूनिवर्सिटी से कर सकते है। इस यूनिवर्सिटी से कोर्स करके आप कहीं भी जॉब कर सकते है। यहाँ आप इसके अलावा MCA , MBA , BED , BCA जैसे कोर्स डिस्टेंस लर्निंग द्वारा कर सकते है।

अन्नामलाई ओपन यूनिवर्सिटी

यह एक विद्यार्थिओं के लिए एक अच्छा लर्निंग कोर्स है। यह डिस्टेंस लर्निंग यूनिवर्सिटी करीब चार सौ से भी ज़्यादा कोर्स प्रदान करती है। इसकी कई शाखाएं है। इसकी एक शाखा टोरंटो में है। इस अन्नामलाई ओपन यूनिवर्सिटी से आप BA, PHD , मेडिकल ,इंजीनियरिंग लगभग हर क्षेत्र में कोर्स कर सकते है।

इसके अलावा भी काफी यूनिवर्सिटी है जिसके माध्यम से विभिन्न कोर्स आप डिस्टेंस लर्निंग से कर सकते है जैसे :

Himachal Pradesh university

Tamil Nadu open university

University of Madras

University of Mumbai

Maulana azaad national urdu university आदि।

निष्कर्ष

डिस्टेंस एजुकेशन बेहतर कैरियर और रोजगार के अवसर प्रदान कर सकती है। भारत जैसे विकासशील देशों में, डिस्टेंस एजुकेशन का बहुत बड़ा दायरा है। यह वर्षों के बीतने के साथ लगातार बढ़ रहा है।

जब रोजगार की बात आती है, तो छात्रों को नौकरियों और कैरियर के क्षेत्र के बारे में चिंता उतपन्न होने लगती है । डिस्टेंस एजुकेशन के बाद भारत में रोजगार के अवसर और नौकरियां बहुत बड़ी हैं। कई छात्रों को अपनी डिग्री की वैधता के बारे में भ्रम होता है। छात्रों को डिस्टेंस एजुकेशन के साथ अच्छी नौकरी भी मिलती है | यदि उन्होंने नियमित पाठ्यक्रम चुना तो उनकी डिग्री सौ फीसदी मान्य है। इस लेख में जिन विश्वविद्यालय का उल्लेख किया है , आप वहां से अपने पसंदीदा कोर्स में डिग्री हासिल हर सकते है। डिस्टेंस एजुकेशन के माध्यम से अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकते है।

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply