एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स (Diploma in acting) कैसे करें पूरी जानकारी

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स (Diploma in acting) कैसे करें पूरी जानकारी। एक्टिंग इंडस्ट्री एक ऐसी इंडस्ट्री है जिसमें अगर किसी को काम करने का अवसर मिल जाए तो ग्लैमर, शोहरत और पैसा सभी कुछ उस व्यक्ति को मिल जाता है। लेकिन मौजूदा समय में टीवी इंडस्ट्री या फिल्म इंडस्ट्री में काम करना इतना आसान भी नहीं है इसके लिए सबसे पहले छात्र को इस फील्ड में काम करने के लिए योग्य बनना पड़ता है। क्योंकि बिना टैलेंट के इस इंडस्ट्री में कोई भी व्यक्ति कामयाबी हासिल नहीं कर सकता। यहां आपको बता दें कि अभिनय के क्षेत्र में अगर आप अपना कैरियर बना लेते हैं तो आप जिंदगी में काफी आगे तक जा सकते हैं। अगर आप में टैलेंट है और आप एक्टिंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें कि आप किस प्रकार से इस इंडस्ट्री को ज्वाइन कर सकते हैं। 

एक्टिंग कोर्स क्या है (What is diploma in acting in Hindi)

यहां सबसे पहले आपको हम जानकारी के लिए बता दें कि एक्टिंग में डिप्लोमा एक ऐसा कोर्स है जिसमें कैंडिडेट को एक्टिंग के अलावा डांस और ड्रामा कोर्सेज भी करवाए जाते हैं। कैंडिडेट इस कोर्स के दौरान वह यह सीखता है कि रिहर्सल के लिए उसे किस तरह से खुद को तैयार करना होता है और किस तरह से वह इंडिपेंडेंटली अपना काम बेस्ट तरीके से स्टेज पर या फिर स्क्रीन पर कर सकता है। इस डिप्लोमा कोर्स के दौरान कैंडिडेट को यह सिखाया जाता है कि कैमरा किस तरह से फेस किया जा सकता है क्योंकि शुरुआत में हर इंसान कैमरे का सामना करने से थोड़ा सा घबराता है। साथ ही साथ कैंडिडेट को इस डिप्लोमा कोर्स के दौरान जो ट्रेनिंग दी जाती है वह डिफरेंट तरीकों से दी जाती है जैसे कि टेक्निक सेशन, सेमिनार्स, वर्कशॉप्स, ट्यूटोरियल्स इत्यादि। इस तरह जब कैंडिडेट का कोर्स पूरा हो जाता है तो वह एक परफेक्ट एक्टिंग सीख जाता है जिससे कि वह एक्टिंग के क्षेत्र में काम कर सकता है। 

Also readफिल्म डायरेक्टर (Film Director) कैसे बनें?

एक्टिंग कोर्स की अवधि (acting course duration) 

जो लोग एक्टिंग कोर्स में डिप्लोमा करना चाहते हैं उन्हें हम यहां जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स की अवधि 1 साल से लेकर 3 साल तक की हो सकती है जो कि हर इंस्टिट्यूट पर अलग-अलग डिपेंड करती है। इसलिए कैंडिडेट अपनी रूचि के अनुसार और अपनी पसंद के हिसाब से कोई सी भी अवधि का कोर्स चुन सकते हैं। 

एक्टिंग कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा (Entrance test for diploma in acting course)

एक्टिंग कोर्स में डिप्लोमा करने के लिए कैंडिडेट को एंट्रेंस टेस्ट पास करना होता है। आपको बता दें कि हमारे देश में इसके लिए अनेकों प्रकार के एंट्रेंस एग्जाम रखे गए हैं जिनमें से किसी भी एक में कैंडिडेट भाग ले सकता है जैसे कि – 

  • एनएसडी – नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा  (NSD – National School of Drama) 
  • एफटीआईआई -फिल्म एंड टेलिविजन इंडस्ट्री (FTII – Film and Television Industry)
  • एआईएसएफ -अन्नपूर्णा इंटरनेशनल स्कूल ऑफ फिल्म  (AISF – Annapurna International School of Film)
  • एसआरएफटीआई – सत्यजीत रे फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट (SRFTI – Satyajit Ray Film and Television Institute)

एक्टिंग कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या है (What is the admission process for diploma in acting course)

वैसे तो हमारे देश में कई संस्थान ऐसे हैं जहां पर कैंडिडेट को उनके टैलेंट के आधार पर दाखिला मिल जाता है। लेकिन अगर कोई किसी अच्छे संस्थान से इस कोर्स को करना चाहता है तो तब उसे इसके लिए एंट्रेंस एग्जाम को क्लियर करना जरूरी होता है जोकि हर कॉलेज का अलग अलग हो सकता है। यहां साथ ही बता दें कि कुछ इंस्टिट्यूट्स में ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से एंट्रेंस टेस्ट कंडक्ट करवाया जाता है तो वही कुछ कॉलेजों में केवल ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन एग्जाम प्रक्रिया रखी गई है। वैसे अगर देखा जाए तो जितने भी बड़े और रेप्युटिड इंस्टिट्यूट है वहां पर दाखिला लेने के लिए कैंडिडेट को एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना ही होता है। 

Also readम्यूजिशियन (Musician) कैसे बनें?

एक्टिंग कोर्स के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए (What should be the qualification for diploma in acting course)

एक्टिंग कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में जो योग्यता होनी चाहिए उसकी जानकारी इस प्रकार से है –

  • छात्र ने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कम से कम 12वीं क्लास पास की होनी चाहिए। 
  • छात्र को एक्टिंग से रूचि होनी चाहिए।
  • कैंडिडेट के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए और उसकी पर्सनैलिटी आकर्षक होनी जरूरी है। 

फीस (fees)

डिप्लोमा इन एक्टिंग कोर्स को करने के लिए फीस स्ट्रक्चर हर कॉलेज या संस्थान का अलग अलग होता है। यहां बता दें कि प्रतिष्ठित और नामी इंस्टिट्यूट में इस कोर्स की फीस काफी ज्यादा होती है। तो वहीं कुछ संस्थानों में इसकी फीस काफी कम भी होती है। इस प्रकार से इस डिप्लोमा कोर्स को करने के लिए कैंडिडेट को 20,000 से लेकर 4 लाख रुपए तक की फीस का भुगतान करना पड़ सकता है। 

भारत में एक्टिंग कोर्स करने के लिए कॉलेज (College to do acting course in India)

अब आपको हम जानकारी के लिए बता दें कि भारत में आप कौन-कौन से एक्टिंग संस्थानों से अपना यह कोर्स सफलतापूर्वक कर सकते हैं उनकी जानकारी हम निम्नलिखित दे रहे हैं –

  • अनुपम खेर एक्टर प्रिपेयर्स इंस्टिट्यूट (Anupam kher actor prepares Institute)
  • भारतेंदु अकैडमी आफ ड्रैमेटिक आर्ट्स लखनऊ (Bhartendu academy of dramatic arts Lucknow)
  • फिल्म इंस्टीट्यूट पुणे (Film Institute Pune)
  • इंडियन अकैडमी आफ ड्रैमेटिक आर्ट्स न्यू दिल्ली (Indian academy of dramatic arts New Delhi)
  • सिटी पल्स इंस्टीट्यूट आफ फिल्म एंड टेलिविजन गांधीनगर गुजरात (City Pulse Institute of film and television Gandhinagar Gujarat) 
  • नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा न्यू दिल्ली (National School of drama New Delhi) 
  • दिल्ली फिल्म इंस्टीट्यूट न्यू दिल्ली (Delhi film Institute New Delhi) 
  • एशियन अकैडमी आफ फिल्म एंड टेलिविजन नोएडा (Asian academy of film and television Noida) 
  • इंस्टिट्यूट ऑफ़ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट कोलकाता (Institute of media and entertainment Kolkata) 
  • अभिनय एक्टिंग अकैडमी मुंबई (Abhinay acting academy Mumbai) 

एक्टिंग कोर्स का पाठ्यक्रम/ सब्जेक्ट्स क्या-क्या है (What are the syllabus / subjects of acting course)

यहां अब आपको हम बता दें कि एक्टिंग कोर्स का जो पाठ्यक्रम होता है उसमें अनेकों सब्जेक्ट्स छात्रों को पढ़ाए जाते हैं जैसे कि – 

  • योग (Yoga)
  • एक्टिंग पार्ट वन एंड टू (Acting part 1 and 2)
  • कल्चरल हेरिटेज (Cultural heritage)
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन (Computer application) 
  • एप्रिसिएशन कोर्स (Appreciation course)
  • एक्टिंग स्किल्स (Acting skills) 
  • एक्टिंग स्पेशलाइजेशन (Acting specialisation) 
  • लैंग्वेजेस (Languages)
  • एक्टिंग प्रोडक्शन ओरिएंटेड  (Acting production oriented) 
  • प्रोडक्शन ऑफ प्ले प्रैक्टिकल (Production of play practical)
  • प्रोडक्शन ऑफ प्ले बिफोर द ऑडियंस (Production of play before the audience) 

एक्टिंग कोर्स के बाद कैरियर संभावनाएँ क्या है (What are the career prospects after acting course)

एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को उसके टैलेंट के आधार पर काफी अच्छी जगह पर नौकरी करने के अवसर मिल जाते हैं जैसे कि –

  • एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स (educational institutes)
  • फिल्म इंडस्ट्री (Film industry)
  • टेलीविजन इंडस्ट्री (Television industry) 
  • इवेंट मैनेजमेंट कंपनीज (Event management companies)
  • डांस एंड ड्रामा स्कूल्स (Dance and drama schools)
  • कंटेंट राइटिंग्स (content writings)
  • म्यूजिक बैंड्स (Music bands)
  • इंडियन क्लासिकल डांस सेंटर्स (Indian classical dance centres)
  • थियेटर्स (Theatres)

Also readसॉन्ग राईटर (Song writer) कैसे बनें?

वेतन (salary)

अब आप यह भी जानना चाहते होंगे कि एक्टिंग कोर्स करने के बाद कोई भी व्यक्ति कितने रुपए तक का वेतन हासिल कर सकता है। तो यहां आपको हम जानकारी के लिए बता दें कि यह एक ऐसी इंडस्ट्री है जहां पर आपके कमाने की कोई सीमा नहीं है क्योंकि इस फील्ड में अपने टैलेंट के बल पर कोई भी कलाकार काफी ज्यादा पैसे कमा सकता है। साथ ही आपको बता दें कि इसमें आपको हर प्रोजेक्ट के अनुसार पैसे मिलते हैं जो कि एक लाख रुपए से लेकर 8 लाख रुपए तक हो सकते हैं। लेकिन यह इंडस्ट्री ऐसी है कि जैसे-जैसे आप का अनुभव बढ़ता जाएगा वैसे वैसे आपको और भी ज्यादा पैसे एक्टिंग करके मिलेंगे। 

प्राइवेट सेक्टर में जॉब्स (Jobs in private sector after)

एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स हासिल करने के बाद कैंडिडेट को प्राइवेट विभागों में भी काफी अच्छी नौकरी करने के मौके मिल जाते हैं और कैंडिडेट वहां पर निम्नलिखित पदों पर काम कर सकता है – 

  • टीचर (Teacher)
  • थिएटर राइटर (Theatre writer) 
  • फिल्म एक्टर (Film Actor) 
  • टेलीविजन एक्टर (Television actor) 
  • प्रोड्यूसर (Producer)
  • असिस्टेंट इवेंट मैनेजर (Assistant event manager) 
  • एक्टिंग कंसलटेंट (Acting consultant) 
  • कम्युनिटी प्रैक्टिशनर (Community practitioner) 
  • परफॉर्मिंग आर्ट क्रिटिक (Performing art critic) 

गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब्स (Jobs in government sector)

अगर कोई व्यक्ति अपना डिप्लोमा कोर्स करने के बाद किसी सरकारी विभाग में नौकरी करना चाहता है तो इसके लिए वह अपना आवेदन दे सकता है। गवर्नमेंट डिपार्टमेंट में भी अनेकों नौकरियां एक्टिंग से रिलेटेड निकलती रहती हैं। यहां बता दें कि कैंडिडेट नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, गवर्नमेंट फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया जैसे बड़े-बड़े सरकारी विभागों में नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं। 

Also readफिल्म क्रिटिक (Film Critic) कैसे बनें?

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स (Diploma in acting) कैसे करें पूरी जानकारी। इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया कि एक्टिंग कोर्स क्या है और इस कोर्स की अवधि कितनी होती है। इसके अलावा इस पोस्ट के द्वारा हमने आप को जानकारी दी कि एक्टिंग कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा और प्रवेश प्रक्रिया क्या होती है। साथ ही साथ इस पोस्ट में हमने आपको बताया कि एक्टिंग में डिप्लोमा कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कितनी योग्यता होनी जरूरी है और जो कैंडिडेट इस कोर्स में दाखिला लेते हैं उन्हें कितने रुपए तक की फीस का भुगतान करना होता है। 

इसके अलावा हमने इस आर्टिकल में आपको यह भी जानकारी दे दी कि हमारे देश में ऐसे कौन से अच्छे कॉलेज हैं जहां से आप इस कोर्स को कर सकते हैं। साथ ही हमने आपको यह भी बताया कि इस डिप्लोमा कोर्स के अंतर्गत आपको कौन-कौन से सब्जेक्ट्स पढ़ाए जाते हैं और जब आप इस पाठ्यक्रम को पूरा कर लेंगे तो उसके बाद आपके सामने प्राइवेट और गवर्नमेंट सेक्टर में कौन-कौन सी कैरियर संभावनाएं होंगी। वैसे अगर देखा जाए तो जिन लोगों को एक्टिंग करने का शौक होता है और उनमें टैलेंट की कमी भी नहीं होती तो उन्हें इस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहिए। 

अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें। 

Leave a Reply