कस्टम ऑफिसर (Customs Officer) कैसे बनें?

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कस्टम (Customs) ऑफिसर कैसे बनें? यहां जानकारी के लिए बता दें कि कस्टम ऑफिसर बनने के बाद आप अपने देश की सेवा भी कर सकते हैं और एक आकर्षक वेतन भी पा सकते हैं। तो अगर आप भी ऐसे कैंडिडेट हैं जो कस्टम डिपार्टमेंट के अंदर काम करना चाहते हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को शुरू से लेकर पूरा पड़े क्योंकि इस पोस्ट में हम आपको कस्टम ऑफिसर बनने के बारे में सारी जानकारी देंगे और इसके अलावा आपको यह भी बताएंगे कि आप किस प्रकार से कस्टम ऑफिसर बन सकते हैं। 

कस्टम ऑफिसर कैसे बनें

कस्टम ऑफिसर क्या होता है (what is customs officer)

सबसे पहले आपको जानकारी दे दें कि एक कस्टम ऑफिसर का काम बेहद जिम्मेदारी वाला होता है और यह कार्य इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के जैसा होता है। यहां बता दें कि बिना कस्टम के कोई भी सामान या माल एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाया और ले जाया नहीं जा सकता। ‌किसी भी माल को चेक करने की सारी जिम्मेदारी कस्टम विभाग में काम करने वाले अधिकारियों की होती है। कस्टम अधिकारी किसी भी प्रतिबंधित वस्तु को देश के अंदर आने या बाहर जाने पर रोकने का काम करते हैं। यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि कस्टम अधिकारियों की अधिकतर ड्यूटी या तो एयरपोर्ट पर होती है या फिर समुद्र के रास्ते पर जहां चीजें आयात निर्यात की जाती है वहां होती है। लेकिन आपको बता दें कि कस्टम ऑफिसर बनना कोई आसान नहीं होता है क्योंकि इसके लिए कैंडिडेट को यूपीएससी की परीक्षा को पास करना पड़ता है जो कि एक बेहद कठिन परीक्षाओं में से एक है। 

कस्टम ऑफिसर पदों के नाम 

अगर कोई कैंडिडेट कस्टम ऑफिसर बनना चाहता है तो जानकारी के लिए बता दें कि कस्टम विभाग में काम करने के लिए बहुत सारे पद होते हैं जहां पर उम्मीदवार को उन९की योग्यता के अनुसार पोस्ट दी जाती है। निम्नलिखित हम आपको कस्टम विभाग के कुछ पदों के बारे में जानकारी दे रहे हैं जो कि इस तरह से है-

  • कस्टम इंस्पेक्टर (Custom inspector)
  • टैक्स असिस्टेंट (Tax assistant)
  • असिस्टेंट कमिश्नर (Assistant commissioner)
  • प्रीवेंटिव ऑफिसर (Preventive officer) 
  • कस्टम क्लीयरेंस ऑफिसर (Custom clearance officer)
  • केस प्रोसेसिंग ऑफिसर (Case processing officer)
  • कमर्शियल एग्जीक्यूटिव/ ऑफिसर (Commercial executive/ officer)
  • इंपोर्ट एग्जीक्यूटिव (Import executive)

कस्टम ऑफिसर के लिए शिक्षा आवश्यकताएं / योग्यता (customs Officer education requirements) 

  • उम्मीदवार ने ग्रेजुएशन किया हो।
  • कैंडिडेट ने ग्रेजुएशन में कम से कम 55% अंक हासिल किए हो। 
  • कंप्यूटर और इंटरनेट की जानकारी होना चाहिए। 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए शारीरिक आवश्यकताएं / योग्यता

आयु

  • उम्मीदवार की उम्र 21 साल से लेकर 28 साल तक के बीच होनी चाहिए। 
  • रिजर्व्ड कैटेगरी के लिए आयु सीमा में छूट सरकार के नियम अनुसार दी गई है। 

पुरुष

  • कैंडिडेट की मिनिमम लंबाई 158 सेंटीमीटर तक होनी आवश्यक है।
  • उम्मीदवार का सीना 81 सेंटीमीटर तक होना चाहिए। 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए परीक्षाएं 

अगर आप कस्टम ऑफिसर बनना चाहते हैं तो यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके लिए आपको यूपीएससी के द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करना होगा जिसकी जानकारी निम्नलिखित है –

सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट (सीएसएटी)

जानकारी के लिए बता दें कि सीएसएटी में कैंडिडेट को दो पेपर करने होते हैं और प्रत्येक पेपर 200 अंकों का रखा गया है। ‌इस एग्जाम में उम्मीदवार को ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न करने होते हैं और इस परीक्षा में उम्मीदवार को पास होना बहुत जरूरी होता है क्योंकि उसके बाद ही उन्हें फिर दूसरी परीक्षा में भाग लेने के लिए मौका दिया जाता है। 

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 

जो उम्मीदवार सीएसएटी परीक्षा में सफलता प्राप्त कर लेते हैं तो उन सभी उम्मीदवारों को फिर सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए आमंत्रित किया जाता है। इस परीक्षा के अंतर्गत कैंडिडेट को नौ पेपर करने होते हैं और साथ ही यह भी बता दें कि इस एग्जाम में वर्णनात्मक टाइप के सवाल उम्मीदवार को करने होते हैं। जब कैंडिडेट इस परीक्षा को उत्तीर्ण कर लेते हैं तो उसके बाद फिर उनका पर्सनालिटी टेस्ट लिया जाता है। 

पर्सनैलिटी टेस्ट

इस टेस्ट को उम्मीदवार के लिए पास करना बहुत ही ज्यादा अनिवार्य होता है। यहां आपको बता दें कि व्यक्तिगत परीक्षण के अंतर्गत कैंडिडेट की बुद्धि, क्षमता, मूल्यों और गुणों का आंकलन किया जाता है और इसीलिए इंटरव्यू के दौरान उससे विभिन्न प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं। 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए पुस्तकें और अध्ययन सामग्री 

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए कैंडिडेट को यूपीएससी के द्वारा ली जाने वाली परीक्षा को पास करना होता है जिसके लिए उसे ऐसी किताबों की आवश्यकता होती है जो उसको एग्जाम पास करने में मदद कर सकें। इसलिए किताबों का चयन बहुत सोच समझ कर करें। निम्नलिखित हम आपको कुछ किताबों के नाम बता रहे हैं जो कि आपकी यूपीएससी परीक्षा को पास करने में काफी अधिक मदद करेंगी – 

  • क्रैकिंग द सीएसएटी पेपर 2 बाय अरिहंत एक्सपर्ट (Cracking the CSAT paper 2 by arihant experts)
  • टीएमएच मैनुअल पेपर 2 बाय मैकग्रा हिल (TMH manual paper 2 CSAT by McGraw Hill)
  • एनालिटिकल रीजनिंग बाय एमके पांडे (Analytical reasoning by MK Pandey) 
  • ए मॉडर्न अप्रोच टु वर्बल एंड नॉनवर्बल रीजनिंग बाय आरएस अग्रवाल (A modern approach to verbal and nonverbal reasoning by RS Aggarwal)
  • द मंत्रा ऑफ सीएसएटी  पेपर-2 बाय गौतमपुरी (The mantra of CSAT paper 2 by Gautam Puri)
  • योजना मैगजीन (Yojana magazine)
  • कुरूक्षेत्र मैगजीन (Kurukshetra magazine)
  • न्यूज एंड करंट अफेयर्स (News and current affairs) 

कस्टम ऑफिसर के कार्य

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि एक कस्टम अधिकारी का काम बहुत ज्यादा जिम्मेदारी वाला है जो उसे पूरी निष्ठा और ईमानदारी के साथ निभाना होता है। निम्नलिखित हम आपको एक कस्टम अधिकारी के कार्यों के बारे में जानकारी दे रहे हैं जो कि इस प्रकार से हैं- 

  • कस्टम ड्यूटी यानी टैक्स को इकट्ठा करने का कार्य कस्टम अधिकारी का ही होता है। 
  • किसी भी प्रतिबंधित वस्तुओं के आयात निर्यात पर पाबंदी लगाना।
  • व्यक्तियों या फिर वस्तुओं की ठीक प्रकार से जांच करना। 
  • अगर किसी माल की तस्करी हो रही है तो उस पर पूर्ण रूप से रोक लगाना। 
  • यदि किसी व्यक्ति के पास कोई प्रतिबंधित सामान मिले तो उसके खिलाफ कार्रवाई करना। 
  • अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले हर सामान की जांच करना और इस बात पर भी नजर रखना कि कोई अवैध या प्रतिबंधित वस्तु तो इंपोर्ट-एक्सपोर्ट नहीं हो रही है। 
  • अवैध आयात और निर्यात पर रोक लगाने का कार्य भी कस्टम अधिकारी का होता है।

वेतन

अब आपको बता दें कि एक कस्टम ऑफिसर को हर महीने कितना वेतन मिल सकता है तो जानकारी दे दें कि एक कस्टम अधिकारी को शुरुआत में पोस्ट के अनुसार हर महीने 25 हजार रुपए से लेकर 42 हजार रुपए तक का वेतन मिल जाता है जो कि अनुभव होने के बाद और अधिक बढ़ जाता है। इसके अलावा उसे दूसरी अन्य सरकारी सुविधाएं और भत्ते भी दिए जाते हैं जैसे कि हाउस रेंट अलाउंस, ट्रैवल एलाउंस, पेंशन, डियरनेस एलाउंस, हेल्थ इंश्योरेंस इत्यादि। 

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल जिसमें हमने आपको जानकारी दी कि आप किस प्रकार से एक कस्टम ऑफिसर बन सकते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि कस्टम अधिकारी बनने के लिए किसी भी उम्मीदवार में कितनी योग्यता होनी चाहिए और इसके अलावा हमने यह जानकारी भी दी कस्टम ऑफिसर के कौन कौन से पद होते हैं। इसके साथ साथ इस लेख में हमने आपको यह भी बताया कि कस्टम अधिकारी बनने के बाद आपको हर महीने कितने रुपए तक का वेतनमान और अन्य सुविधाएं मिल सकती हैं। हमें पूरी आशा है कि हमारा यह आर्टिकल आपके लिए काफी अधिक लाभदायक रहा होगा इसलिए हमारी आप से रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने उन सभी दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो कस्टम ऑफिसर बन कर अपने देश की सेवा करना चाहते हैं। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply