सीए कोर्स क्या है CA कैसे करें पूरी जानकारी

सीए कोर्स एक ऐसा कोर्स है जो उन सभी विद्यार्थियों के लिए बिल्कुल उपयुक्त है जो फाइनेंस सेक्टर में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। मौजूदा समय में सीए की डिमांड बहुत तीव्रता के साथ बढ़ने लगी है क्योंकि इस फील्ड में अच्छी नौकरी और सैलरी के अवसर काफी अधिक हैं। 

अगर आपका सपना भी सीए बनना है तो इसके लिए आपको इस कोर्स से जुड़ी हुई आवश्यक जानकारी होना चाहिए। आपको यह पता होना चाहिए कि सीए कोर्स करने के लिए आपकी योग्यता कितनी होनी चाहिए। आप एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी कैसे करेंगे? पढ़ाई किस तरह से करनी चाहिए और दूसरे अन्य आवश्यक जानकारी। आज के इस आर्टिकल में हम सीए कोर्स से जुड़ी हुई सारी अनिवार्य जानकारी आपको देने वाले हैं ताकि आप इस कोर्स को करने के बाद अपने कैरियर को सुरक्षित और मजबूत बनाएं।

सीए कोर्स

सीए कोर्स क्या है (what is CA in Hindi)

सबसे पहले हम जान लेते हैं कि सीए कोर्स क्या है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीए कोर्स कॉमर्स पढ़ने वालों के लिए एक बहुत ही प्रतिष्ठित कोर्स है जिसको करने के बाद आप सीए बनकर एक बहुत अच्छी नौकरी पा सकते हैं। अगर आप नौकरी नहीं करना चाहते हैं तो आप स्वतंत्र रूप से भी अपना कार्य कर सकते हैं। सीए एक तरह से फाइनेंसियल एडवाइजर के तौर पर काम करते हैं। 

सीए का फुल फॉर्म क्या है (CA full form)

सबसे पहले हम जान लेते हैं कि सीए का फुल फॉर्म क्या होता है। CA का फुल फॉर्म होता है Charted Accountant (चार्टर्ड अकाउंटेंट)। सीए कोर्स के अंदर विद्यार्थी को सारा हिसाब किताब समझाया जाता है। 

सीए कोर्स का वर्तमान परिदृश्य

चार्टर्ड अकाउंटेंट का कोर्स एक बहुत ही प्रतिष्ठित कोर्स है और इस कोर्स की मांग उस समय से बहुत अधिक हो गई है जब भारत के अंदर जीएसटी लागू हुआ था। मौजूदा समय में यदि आप इस कोर्स को कर लेते हैं तो उसके बाद आपको इस फील्ड में बहुत ही आसानी से जॉब मिल जाएगी। 

सीए कोर्स करने के बाद सरकारी संस्थानों, बैंक और प्राइवेट कंपनियों में नौकरी करने के बहुत सारे अवसर होते हैं। इस फील्ड में काम करने का सबसे बढ़िया फ़ायदा यह है कि आपकी सैलरी बहुत तेज़ी के साथ बढ़ती है। जैसे-जैसे आपको एक्सपीरियंस होने लगता है वैसे-वैसे ही आप और अधिक कमाने लगते हैं। 

सीए कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा

अगर आप सीए कोर्स करना चाहते हैं तो आपको बता दें कि सीए कोर्स करने के लिए 3 चरणों से होकर गुजरने की आवश्यकता होती है। उन सभी तीनों चरणों की जानकारी इस प्रकार है – 

  1. सीपीटी एग्जाम (common proficiency test) – इस परीक्षा में बैठने के लिए आपको दसवीं कक्षा पास करने के बाद रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। परंतु ध्यान रखें कि आप दसवीं के बाद केवल रजिस्ट्रेशन ही करवा सकते हैं। इसकी परीक्षा आपको केवल 12वीं कक्षा पास करने के बाद ही देनी होगी। सीपीटी परीक्षा में विद्यार्थियों से एकाउंटिंग, इकोनॉमिक्स और मार्केटाइल लॉज आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। बता दें कि इस परीक्षा में पास होने के लिए आपको प्रत्येक विषय में कम से कम 30 परसेंट अंक लाना अनिवार्य होता है। इसके अलावा बता दें कि सीपीटी पास करने के लिए आपको इस परीक्षा में सारे विषयों में 50% अंक लाना जरूरी है। 
  2. आईपीसीसी एग्जाम- IPCC की फुल फॉर्म integrated professional competency course होती है। जानकारी के लिए बता दें कि यह परीक्षा सीए बनने का दूसरा चरण है। इस परीक्षा के दो अलग-अलग ग्रुप होते हैं ग्रुप-1 और ग्रुप-2 और इस परीक्षा में इन दोनों को ही पास करना जरूरी होता है। बता दें कि सभी परीक्षा में पास होने के लिए आपको प्रत्येक विषय में मिनिमम 40 परसेंट अंक लाने पड़ेंगे। इसके साथ आप की टोटल परसेंटेज 50% से कम नहीं होनी चाहिए। जब आपका यह एग्जाम हो जाता है तो आपको उसके बाद आईटीटी एंड ओरियंटेशन (ITT and orientation)  की ट्रेनिंग करनी पड़ती है। ट्रेन का समय लगभग 100 घंटे होता है इसके बारे में आपको जानकारी आपकी आईपीसीसी की परीक्षा के दौरान दे दी जाती है। 
  3. सीए फाइनल कोर्स – जब आप आईपीसीसी की परीक्षा पास कर लेते हैं तो उसके बाद आप को सीए कोर्स के लिए 3 वर्ष तक की ट्रेनिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होता है । यह एक प्रैक्टिकल ट्रेनिंग होती है जिसे आर्टिकलशिप के नाम से भी जाना जाता है। बता दें कि इसमें आपको उस समय परीक्षा देनी होती है जब आप के 3 साल के सीए कोर्स के 6 महीने शेष बचते हैं। आपको जानकारी दे दें कि यह एक एडवांस लेवल की परीक्षा होती है और इसको भी दो भागों में बांटा गया है। आपको इन दोनों भागो ग्रुप 1 और ग्रुप 2 को पास करना होगा। यह दोनों भाग ही बहुत अधिक कठिन होते हैं। जैसे ही आप इस परीक्षा को पास कर लेते हैं तो आपका सीए कोर्स पूरा हो जाता है।  

सीए कोर्स प्रवेश प्रक्रिया 

यदि आप सीए कोर्स करना चाहते हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके लिए आपको इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया यानी आईसीएआई से संपर्क करना होगा क्योंकि पूरे भारत में यही इंस्टिट्यूट सीए कोर्स कराता है। इसके अलावा यह सभी कोर्स करने वालों को सर्टिफ़िकेट भी देता है। 

सीए कोर्स योग्यता

  • सीए कोर्स के लिए दसवीं कक्षा पास करने के बाद आप प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि आपको प्रवेश परीक्षा 12वीं कक्षा को पास करने के बाद ही देनी होगी।
  • सीए कोर्स को करने के लिए प्रवेश परीक्षा में आर्ट्स, कॉमर्स या साइंस स्ट्रीम के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं। परंतु यदि आपका कॉमर्स बैकग्राउंड हो तो वह बहुत ही बेहतर होगा। 
  • सीए प्रवेश परीक्षा के लिए आपको किसी खास प्रतिशत अंक की आवश्यकता नहीं है केवल 12 वीं पास होना ही काफी है CPT परीक्षा में बैठने के लिए। 
  • इसके लिए कोई आयु सीमा नहीं रखी गई है। 

सीए कोर्स की फीस

सीए कोर्स करने के लिए अगर हम फीस की बात करें तो आपको बता दें कि अगर आप किसी सरकारी संस्थान से सीए कोर्स कर रहे हैं तो इस कोर्स की फीस कम से कम 1.50-2 लाख तक हो सकती है। वहीं अगर हम प्राइवेट संस्थानों की बात करें तो वहां से सीए करने पर फीस कोई निश्चित नहीं है क्योंकि अलग-अलग कॉलेज का फीस स्ट्रक्चर भी अलग है। 

भारत में शीर्ष सीए कोर्स कॉलेज 

भारत में सीए कोर्स करने के लिए कुछ शीर्ष कॉलेज इस प्रकार- 

  • श्री गुरुकृपा इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, चेन्नई
  • शिप्स अकैडमी, हैदराबाद
  • एवरशाइन क्लासेस, दिल्ली
  • जैन कोचिंग सेंटर, कोलकाता
  • आराध्या फाइनैंशल स्कूल फॉर एक्सीलेंस , हैदराबाद 
  • एकेडमी ऑफ कॉमर्स,  न्यू दिल्ली
  • दिल्ली ब्रांच ऑफ एनआईआरसी आफ आईसीएआई, दिल्ली 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ बिज़नस मैनेजमेंट एंड स्टडीज बेंगलुरु 

सीए कोर्स का पाठ्यक्रम 

सीए कोर्स के लिए आपको बहुत अधिक पढ़ने की और उसके साथ-साथ मेहनत करने की आवश्यकता होती है क्योंकि यह परीक्षा तीन चरणों के अंदर होती है और प्रत्येक का सिलेबस अलग-अलग होता है। हम आपको सीए के लिए तीनों परीक्षाओ का पाठ्यक्रम बता रहे हैं उसके हिसाब से ही आपको अपनी पढ़ाई करनी होगी। 

सीपीटी एग्जाम के लिए (फाउंडेशन कोर्स)

  • फंडामेंटल्स ऑफ एकाउंटिंग (Fundamentals of Accounting) 
  • क्वांटिटेटिव एप्टिच्यूड (Quantitative Aptitude) 
  • मर्केंटाइल लॉ (Mercantile Law)
  • जनरल इकोनॉमिक्स (General Economics) 
  • जनरल इंग्लिश (General English) 
  • बिजनेस कम्युनिकेशन एंड एथिक्स (Business Communication and Ethics) 

आईपीसीसी एग्जाम के लिए सिलेबस (इंटरमीडिएट)

ग्रुप-1  

  • एकाउंटिंग (Accounting)
  • बिजनेस लॉ, एथिक्स एंड कम्युनिकेशन (business law, ethics and communication) 
  • कॉस्ट अकाउंटिंग एंड फाइनेंशियल मैनेजमेंट (cost accounting and financial management) 
  • टैक्सेशन (Taxation)

ग्रुप-2 पाठ्यक्रम 

  • एडवांस्ड अकाउंटिंग (Advanced Accounting) 
  • ऑडिटिंग एंड एश्योरेंस (Auditing and Assurance)
  • इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एंड स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट (information technology and strategic management)

सीए फाइनल ग्रुप-1 पाठ्यक्रम

  • फाइनेंशियल रिर्पोटिंग (Financial Reporting) 
  • स्ट्रैटेजिक फाइनेंशियल मैनेजमेंट (strategic financial management) 
  • कॉरपोरेट एंड एलाइड लॉज (Corporate and Allied Laws) 

सीए फाइनल ग्रुप-2 पाठ्यक्रम

  • एडवांस्ड मैनेजमेंट अकाउंटिंग (Advanced Management Accounting)
  • इनफॉरमेशन सिस्टम्स कंट्रोल एंड ऑडिट (Information Systems Control and Audit)
  • डायरेक्ट टैक्स लॉज (Direct Tax Laws)
  • इनडायरेक्ट टैक्स लॉज (Indirect Tax Laws) 

सीए कोर्स के बाद कैरियर संभावनाएं 

हर वह व्यक्ति जो सीए का कोर्स करने के बाद चार्टर्ड अकाउंटेंट बन जाता है उसके लिए सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में नौकरियों के अवसर ही अवसर होते हैं। सीए बनने के बाद आप किसी भी सरकारी या गैर सरकारी संस्थान में नौकरी करके लाखों रुपए कमा सकते हैं। किसी बैंक में ब्रांच मैनेजर, ऑडिटर, अकाउंटेंट, फाइनेंस एडवाइजर, टैक्स  एडवाइजर एंड कंसलटेंट और इसके अलावा वह अपनी खुद खुद का निजी काम भी शुरू करके क्लाइंट से अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं। 

सीए कोर्स के बाद वेतन 

किसी भी सीए की सैलरी उसकी अपनी खुद की योग्यता और उसके काम करने की क्षमता के ऊपर निर्भर करती है। यदि हम बात करें कि भारत में एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की सैलरी कितनी होती है तो आपको बता दें कि उसकी सैलरी लगभग 50 हजार से से 3 लाख के बीच में होती है। सीए की नौकरी एक ऐसी नौकरी है जिसके अंदर बहुत अच्छी ग्रोथ है और कमाने की कोई सीमा नहीं है। इसलिए कोई भी व्यक्ति सीए का कोर्स करने के बाद लाखों रुपए की कमाई बहुत आसानी के साथ कर सकता है। 

सीए कोर्स के बाद प्राइवेट सेक्टर जॉब 

प्राइवेट सेक्टर के अंदर एक चार्टर्ड अकाउंटेंट को बहुत सारे काम करने के अवसर मिलते हैं। प्राइवेट सेक्टर में सीए को विभिन्न नौकरी करने के अवसर मिलते हैं।

  • प्राइवेट बैंक्स (Private Banks) 
  • फाइनेंशियल फर्म्स (Financial Firms)
  • लीगल फर्म्स (Legal Firms) 
  • ऑडिटिंग फर्म्स (Auditing Firms) 
  • पेटेंट फर्म्स (Patent Firms)
  • पब्लिक लिमिटेड कंपनीज (Public Limited Companies) 

सीए कोर्स के बाद गवर्नमेंट सेक्टर जॉब  

सीए कोर्स करने के बाद आपको गवर्नमेंट सेक्टर में भी नौकरी करने के अच्छे अवसर मिल सकते हैं। गवर्नमेंट सेक्टर में नौकरी करने के विभिन्न अवसर हैं जो इस प्रकार हैं- 

  • चीफ मैनेजर (chief Manager in Accounts and Finance Department)
  • असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर (Assistant Administrative Officer) 
  • फाइनेंशियल एनालिसिस्ट (Financial Analysist) 
  • ऑडिटर (Auditor) 
  • ब्रांच मैनेजर (Branch Manager) 
  • क्रेडिट मैनेजमेंट डिपार्टमेंट (Credit Management Department) 
  • लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (Life Insurance Corporation)

इसके अलावा सीए यूपीएससी में भी विभिन्न प्रकार की मिनिस्ट्रियल पोस्ट के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। यहां पर एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करने के बाद ऊंची पोस्ट पर नौकरी मिल जाती है।  

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply