बी.टेक कोर्स क्या है? B.tech कैसे करें पूरी जानकारी

एक उज्जवल और कामयाब भविष्य के लिए किसी भी छात्र की पढ़ाई अत्यंत महत्वपूर्ण रोल अदा करती है। इसी के कारण वह सफलता की ऊंचाइयों तक बिना किसी रूकावट के पहुंच जाता है। प्रत्येक छात्र दसवीं के बाद अपनी रूचि के अनुसार या फिर जिसमें उसको अपना कैरियर बनाना हो उसके हिसाब से विषय का चुनाव करता है। ऐसे बहुत से छात्र हैं जो इंजीनियरिंग फील्ड में जाना चाहते हैं और उसमें अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बी टेक एक बहुत ही उत्तम कोर्स है उन विद्यार्थियों के लिए जिनके पास 12वीं कक्षा में साइंस हो। यदि आपको भी इंजीनियर बनने में दिलचस्पी है लेकिन पूरी जानकारी नहीं है तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कैसे आप बी. टेक की तैयारी कर सकते हैं और कौन से ऐसे टॉप कॉलेजेस हैं जहां पर आप अपनी किस्मत आजमा सकते हैं। इसके अलावा हम आपको बी.टेक कोर्स से जुड़ी हर जानकारी आज बताएंगे। 

बी.टेक कोर्स

बी.टेक कोर्स क्या है (what is B. tech in Hindi)  

जो विद्यार्थी इंजीनियर बनना चाहते हैं उनके लिए बी.टेक एक अंडर ग्रेजुएट इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स है। इस कोर्स को करने के लिए 12वीं क्लास पूरी करने के बाद इस में दाखिला लिया जा सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बी.टेक एक 4 साल का कोर्स है जिस में प्रवेश लेने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा देनी होगी। कोर्स को करने के बाद आपको इंजीनियरिंग की डिग्री दी जाती है जिसके आधार पर आप किसी भी प्राइवेट या सरकारी क्षेत्र में नौकरी कर सकते हैं। इस कोर्स को करने के बाद विद्यार्थियों का भविष्य बहुत ही सुनहरा और काफ़ी कामयाब रहता है। 

बी.टेक का फुल फॉर्म क्या है? (B.tech full form) 

बी.टेक का फुल फॉर्म है बैचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी (Bachelor of technology)। बता दें कि यह एक डिग्री कोर्स होता है जिसकी अवधि 4 साल की होती है। इस कोर्स में टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर से संबंधित विषयों के बारे में पढ़ाई करवाई जाती है। अगर कोई व्यक्ति इंजीनियरिंग की फील्ड में जाना चाहता है तो बी.टेक करना उसके लिए एक बहुत ही अच्छा ऑप्शन है। 

बी.टेक कोर्स का वर्तमान परिदृश्य 

वर्तमान में भारत में काफी बड़ी मात्रा में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करवाई जाती है। शुरुआत में भारतीय अध्ययन कॉलेजों की पढ़ाई अत्यधिक गुणवत्ता वाली नहीं थी जिसके कारण बी.टेक किए हुए छात्रों को आगे नौकरी करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता था। परंतु बीते कुछ वर्षों में भारतीय इंजीनियरिंग की पढ़ाई की दिशा में काफी सुधार किया गया है। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि AICTE के सख्त नियमों के कारण प्रत्येक वर्ष इंजीनियरिंग की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। पहले के समय इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद आधे से भी कम इंजीनियर कैंपस प्लेसमेंट के द्वारा नौकरी पाते थे परंतु अब इन सभी में बहुत सुधार लाया गया है और कोई भी छात्र जो इंजीनियरिंग करता है उसके लिए एक सुनहरा भविष्य होता है। AICTE  के नए नियमों के अनुसार इंजीनियरिंग कॉलेजों में उचित बुनियादी ढांचे की कमियों पर सुधार किया गया है। 

वर्तमान समय में यदि कोई विद्यार्थी बी.टेक करता है तो उसके लिए नौकरियों के कोई कमी नहीं है। प्राइवेट सेक्टर और सरकारी सेक्टर दोनों में ही इंजीनियरों की भारी मात्रा में मांग रहती है। 

बी.टेक कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा 

बी.टेक कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस टेस्ट देना होता है और यह टेस्ट नेशनल लेवल पर होता है। आपको जानकारी दे दें कि  इस प्रवेश परीक्षा को को भारत के किसी भी राज्य के बच्चे दे सकते हैं। बी.टेक में दाख़िला लेने के लिए होने वाली नेशनल लेवल परीक्षा दो तरह की होती है।

1 जेईई मेन: ज्वाइंट एंटरेंस एग्जामिनेशन (मेन) JEE Main: Joint Entrance Examination (Main) 

इंजीनियरिंग के लिए यह प्रवेश परीक्षा एक राष्ट्रीय स्तर की स्क्रीनिंग प्रवेश परीक्षा है। इस परीक्षा में वे छात्र भाग लेते हैं जो भारत में आईआईटी (IIT) , एनआईटी (NIT) और दूसरे टॉप इंजीनियरिंग संस्थानों से बी.टेक में दाखिला लेना चाहते हैं। 

2 जेईई एडवांस्ड: जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (एडवांस्ड) JEE Advanced: Joint Entrance Exam (Advanced) 

जेईई एडवांस्ड प्रवेश परिषद दूसरे चरण की स्क्रीनिंग परीक्षा है जिसमें ऐसे स्टूडेंट भाग लेते हैं जो भारत के सबसे प्रीमियम इंजीनियरिंग कॉलेजों और संस्थानों से अपनी पढ़ाई करना चाहते हैं। 

बी.टेक कोर्स प्रवेश प्रक्रिया

बी.टेक कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया के लिए आपको सबसे पहले एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करने होते हैं। प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद विद्यार्थी को एंट्रेंस टेस्ट में पास किए गए मार्क्स के आधार पर उसका कॉलेज बता दिया जाता है। बताए गए कॉलेज में आप अपना मनपसंद विषय लेकर अपनी पढ़ाई कर सकते हैं। 

बी.टेक कोर्स पात्रता मानदंड

अगर आपका सपना इंजीनियर या सिविल इंजीनियर बनना है तो उसके लिए हम आपको बता दें कि आपकी प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए शैक्षिक योग्यता कितनी होनी चाहिए। 

  • बी.टेक में दाखिला लेने के लिए विद्यार्थी का कक्षा बारहवीं मैथ्स, केमिस्ट्री और फिजिक्स जैसे विषयों के साथ पास होना जरूरी है।
  • इसके अलावा 12वीं में कम से कम 60% अंक होने चाहिए। अगर आपके इतने अंक नहीं हैं तो आपको एंट्रेंस एग्जाम में बैठने नहीं दिया जाएगा। 
  • अगर आपने दसवीं कक्षा पास की हुई है और आपने डिप्लोमा कोर्स किए हुए हैं लेकिन आपने 12वीं कक्षा की पढ़ाई नहीं की है तो आपको डिप्लोमा कोर्स के आधार पर भी बी.टेक में एडमिशन मिल सकता है। 

बी.टेक कोर्स की फीस 

बी.टेक कोर्स की फीस सरकारी कॉलेज और प्राइवेट कॉलेज दोनों में अलग-अलग होती है। बहुत से प्राइवेट संस्थान तो ऐसे हैं जहां पर अत्यधिक फीस छात्रों से ली जाती है। 

  • बी.टेक कोर्स की फीस सरकारी कॉलेज में :- अगर आप किसी सरकारी कॉलेज में बी.टेक की पढ़ाई कर रहे हैं तो इसके लिए आपको 80,000 रुपए हर साल फ़ीस के रूप में देने होंगे। इस के अंदर एडमिशन फ़ीस, ट्यूशन फ़ीस, प्रयोगात्मक शुल्क के अलावा अन्य सभी मद सम्मिलित होते हैं। 
  • बी.टेक कोर्स की फ़ीस प्राइवेट कॉलेज में:- यदि आप किसी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन ले रहे हैं तो उसके लिए आपको हर साल 1,00,000 रुपए से 2,00,000 रुपए तक की फ़ीस देनी होती है। प्राइवेट संस्थान की फीस वैसे उस शिक्षण संस्थान के ऊपर अधिक निर्भर करती है। जितना संस्थान अच्छा और प्रसिद्ध होगा उतनी अधिक उसकी फीस होगी। 

भारत में शीर्ष बी.टेक कोर्स कॉलेज

अगर आपने 12वीं क्लास पास कर ली है और आपने मन बना लिया है कि आपको बी.टेक में अपनी पढ़ाई जारी रखनी है तो इसके लिए आपको भारत के शीर्ष बी.टेक कोर्स कॉलेज में एडमिशन लेना चाहिए। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत में बी.टेक कोर्स IITs और NITs जैसे शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजों से कर सकते हैं जहां पर आपको बी.टेक के अंदर कई तरह के इंजीनियरिंग कोर्स के ऑप्शन मिल जाएंगे जैसे सिविल इंजीनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग, कंप्यूटर इंजीनियरिंग आदि। नीचे हम आपको बी.टेक के कुछ प्रमुख संस्थानों के नाम बता रहे हैं-

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी,मद्रास 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,बॉम्बे 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,दिल्ली 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, कानपुर, उत्तर प्रदेश 
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,रुड़की
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, हैदराबाद
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गांधीनगर अहमदाबाद
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,पंजाब
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,पटना 

बी.टेक अनुशासन पाठ्यक्रम

बी.टेक में दाखिला लेते समय आपको सबसे पहले यह देखना है कि आपकी कौन से विषय में सबसे अधिक दिलचस्पी है। यदि आपने अपनी फेवरेट सब्जेक्ट में बी.टेक किया तो इसमें आपके सफल होने के अत्यधिक चांस हैं। 

जब आप यह निर्णय करने की आपको कौन से विषय में अपनी बी.टेक की पढ़ाई करनी है। तो उसके बाद आपको अपनी शिक्षा के लिए संस्थान या कॉलेज का चुनाव करना है। साथ ही आप यह भी देखें कि जिस संस्थान से आप बी.टेक करना चाहते हैं वहां पर प्लेसमेंट सर्विसेज कैसी है या फिर भविष्य में आपको अच्छी नौकरियों के विकल्प मिलेंगे या नहीं। 

बी.टेक के कुछ प्रसिद्ध कोर्स इस प्रकार हैं-

  • बी.टेक इन सिविल इंजीनियरिंग
  • बी.टेक इन कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
  • बी.टेक इन इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग
  • बी.टेक (कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग) 
  • बी.टेक (इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग) 
  • बी.टेक इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • बी.टेक इन इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी

बी.टेक कोर्स का पाठ्यक्रम

  • बी.टेक एक 4 साल का कोर्स होता है जिसमें हर साल में 2 सेमेस्टर होते हैं।
  • बी.टेक के हर सेमेस्टर में कम से कम 5 या 6 टेक्निकल विषयों के बारे में पढ़ाई करवाई जाती है। 
  • यानि बी.टेक के 4 साल में आप लगभग 35 विषयों से लेकर 40 विषयों तक का अध्ययन करेंगे। 

 बी.टेक कोर्स के बाद वेतन 

बी.टेक कोर्स करने के बाद आपका वेतन इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपना जॉब कितना अच्छा कर रहे हैं। यदि आप टैलेंटेड है और एक डिमांडेड इंजीनियर है तो यकीन मानिए आप लाखों रुपए तक से ज़्यादा हर महीने कमा सकते हैं। लेकिन यदि हम बात करें कि किसी अच्छे कॉलेज से बी.टेक करने के बाद आप कितना कमा सकते हैं तो उस सिचुएशन में आप हर माह 30 से 60 हजार रुपए तक कमा सकते हैं। 

बी.टेक कोर्स के बाद प्राइवेट सेक्टर जॉब 

यदि आपका बी.टेक कोर्स पूरा हो गया है और आप किसी प्राइवेट सेक्टर में जॉब करना चाहते हैं तो आपको हम बता दें कि टेक्निकल नौकरियों की प्राइवेट सेक्टर में बिल्कुल भी कमी नहीं है। प्रत्येक प्राइवेट सेक्टर में इलेक्ट्रॉनिक्स, कंप्यूटर साइंस, इनफार्मेशन साइंस, मैकेनिकल, सिविल, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी आदि से रिलेटेड विभिन्न प्रकार की नौकरियां उपलब्ध है। बता दें कि हर कंपनी में नौकरियां अलग-अलग हिसाब से उपलब्ध होती हैं। 

बी.टेक कोर्स के बाद गवर्नमेंट सेक्टर जॉब 

बी.टेक के बाद यदि आप गवर्नमेंट जॉब करना चाहते हैं तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गवर्नमेंट सेक्टर में नौकरियों के अंतर्गत एसएससी यानी स्टाफ सिलेक्शन कमीशन, सीजीएल, बैंक पीओ, आईएएस, सिविल सर्विस और क्लर्क लेवल की नौकरियां होती हैं। गवर्नमेंट सेक्टर में आपको एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, असिस्टेंट इंजीनियर, जूनियर इंजीनियर की नौकरी करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होता है।  

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply