बायोटेक्नोलॉजिस्ट (Biotechnologist) कैसे बनें?

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि बायोटेक्नोलॉजिस्ट कैसे बनें? कुछ लोगों को मेडिकल लाइन में जाने की तमन्ना होती है क्योंकि यह ऐसी इंडस्ट्री है जहां पर कैंडिडेट को आगे बढ़ने के बहुत सारे चांस मिल जाते हैं और ऐसा ही माइक्रोबायोलॉजी का कोर्स है जिसको करने के बाद आप इस फील्ड में काम कर सकते हैं। यदि आप भी एक ऐसे छात्र हैं जो 12वीं के बाद बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं और इससे संबंधित आवश्यक जानकारी ढूंढ रहे हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें पूरी प्रक्रिया के बारे में। 

बायोटेक्नोलॉजिस्ट क्या है (what is Biotechnologist in Hindi) 

यहां सबसे पहले आपको बता दें कि बायोटेक्नोलॉजिस्ट एक ऐसा प्रोफेशनल साइंटिस्ट है जिसका काम मुख्य रूप से जीवित चीजों विशेषकर कोशिकाओं और बैक्टीरिया से संबंधित होता है। यहां बता दें कि आज पृथ्वी की बढ़ती आबादी के साथ-साथ भोजन, दवाओं और दूसरी अन्य उपभोग की वस्तुओं की मांग बहुत ही तेजी के साथ बढ़ रही है लेकिन परेशानी की बात यह है कि पृथ्वी के संसाधन अब घटने लगे हैं। 

इस तरह से जो भी सीमित संसाधन हैं उनके भीतर मांग के साथ तालमेल रखने के लिए मौजूदा जितने भी संसाधन हैं उनकी गुणवत्ता के साथ साथ मात्रा में सुधार करना बहुत ही जरूरी है जो कि केवल रिसर्च करने से ही संभव है। पृथ्वी पर जितने भी जैविक संसाधन हैं उनके ऊपर शोध कार्य भी बायोटेक्नोलॉजिस्ट ही करते हैं।

Also read: एस्ट्रोनॉमर (Astronomer) कैसे बनें?

बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

अगर आप बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं तो इसके लिए आवश्यक है कि सबसे पहले आप फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स जैसे विषय में अपनी 12वीं कक्षा को पास करें। उसके बाद कैंडिडेट को चाहिए कि वह बायोटेक्नोलॉजी में बीटेक या बीएससी की डिग्री हासिल करें। फिर छात्र को चाहिए कि वह बायोटेक्नोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करे। जब उसका कोर्स पूरा हो जाता है तो फिर उसे विभिन्न विभागों में काम करने के मौके मिल जाते हैं। 

बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  • छात्र ने कम से कम बायोटेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन किया होना चाहिए। ‌
  • या छात्र ने बायोटेक्नोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएशन किया हो। 
  • कैंडिडेट के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए।
  • उम्मीदवार को कंप्यूटर की जानकारी होना आवश्यक है।
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी भाषा भी आनी चाहिए। 

आयु सीमा 

  • जिस समय कैंडिडेट बायोटेक्नोलॉजी के कोर्स में दाखिला ले उस समय उसकी आयु कम से कम 17 वर्ष की होनी जरूरी है। 
  • अधिकतम आयु सीमा में छूट सरकारी नियम अनुसार दी गई है। 

बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

बायोटेक्नोलॉजी एक ऐसा क्षेत्र है जहां पर निरंतर बहुत सारी नौकरियों के मौके उम्मीदवारों के लिए सरकारी और गैर सरकारी जगहों पर निकलते रहते हैं। इसीलिए इस क्षेत्र में करियर की संभावनाएं बहुत अच्छी हैं जो कि इस तरह से हैं – 

  • रिसर्च साइंटिस्ट
  • टीचर
  • मार्केटिंग मैनेजर
  • साइंस राइटर
  • क्वालिटी कंट्रोल ऑफिसर
  • फूड प्रोडक्शन इंचार्ज

वेतन 

जो कैंडिडेट बायोटेक्नोलॉजिस्ट बन जाते हैं उन्हें हर महीने काफी आकर्षक वेतन मिलता है जो कि लगभग 50,000 से लेकर 60,000 रुपए तक हो सकता है। इस प्रकार कुछ वर्षों का अनुभव हासिल होने के बाद कैंडिडेट को और भी ज्यादा वेतन मिल जाता है। 

बायोटेक्नोलॉजिस्ट के कार्य 

बायोटेक्नोलॉजिस्ट के तौर पर काम करने वाले कैंडिडेट को विभिन्न प्रकार के महत्वपूर्ण कार्य करने होते हैं जिनकी जानकारी इस तरह से है – 

  • रिसर्च स्टडीज को डिजाइन करने के साथ-साथ उनका कार्यान्वयन करना।
  • एक्सपेरिमेंट को मॉनिटर करने के लिए लेबोरेटरी में उपकरण स्थापित करना। 
  • नई रिसर्च करने के लिए विभिन्न प्रक्रियाओं का विकास करना।
  • इस बात की पहचान करना कि मानव जीवन को बेहतर बनाने के लिए अनुसंधान को कैसे लागू किया जाए।
  • रिसर्च वर्क के दौरान लैबोरेट्री टेक्निशियनों के साथ काम करना। 
  • कोशिकाओं, खून के नमूनों, भोजन, ऊतको के नमूनों को जमा करने के अलावा उनका परीक्षण करना। 
  • परिणामों को रिकॉर्ड करके उनका विश्लेषण करना। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल बायोटेक्नोलॉजिस्ट  (Biotechnologist) कैसे बनें? इस लेख के माध्यम से हमने आपको जानकारी दी कि बायोटेक्नोलॉजिस्ट क्या है और इसके बनने के लिए छात्र में कितनी योग्यता होनी जरूरी है। साथ ही साथ हमने आपको यह भी बताया कि बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनने की पूरी प्रक्रिया क्या है एवं इस पद पर रहते हुए कैंडिडेट को हर महीने कितने रुपए का वेतन मिल सकता है। इसके अलावा हमने यह जानकारी भी दे दी है कि इस इंडस्ट्री में जो लोग काम करते हैं उन्हें कौन-कौन से कार्य करने पड़ते हैं। वैसे देखा जाए तो जो लोग 12वीं में साइंस जैसे विषय पढ़ते हैं और उन्हें रिसर्च वर्क करना पसंद है तो वह इस क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते हैं। अंत में हमारी आपसे यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगे तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो 12वीं के बाद बायोटेक्नोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं। 

Leave a Reply