बीएफडी कोर्स (BFD Course) कैसे करें पूरी जानकारी

नमस्कार! After 12th में आपका स्वागत है। दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे बीएफडी कोर्स (BFD Course)  कैसे करें पूरी जानकारी। 12वीं के बाद बहुत से छात्र चाहते हैं कि वो किसी ऐसे कोर्स में दाखिला लें जिससे कि क्रिएटिव इंडस्ट्री में कैरियर बनाया जा सके। 

इसी वजह से जब छात्र अपनी 12वीं कक्षा पूरी कर लेते हैं तो वे बीएफडी में एडमिशन लेते हैं। बताते चलें कि इस इंडस्ट्री में विद्यार्थी अपनी कलात्मकता के आधार पर बेहतरीन भविष्य बना सकते हैं। परंतु इस कोर्स को करने के लिए जरूरी है कि स्टूडेंट्स किसी अच्छे कॉलेज का ही चुनाव करें ताकि बाद में  नौकरी के लिए परेशानी ना हो। कई बार योग्य छात्र भी अज्ञानता की वजह से गलत दिशा में चले जाते हैं जिसकी वजह से उनका टाइम भी बर्बाद होता है और उनके कैरियर पर भी असर पड़ता है।

 ऐसे में जरूरी है कि स्टूडेंट्स को चाहिए कि पूरी डिटेल्स जानने के बाद ही कोर्स में दाखिला लें। तो बीएफडी कोर्स से जुड़ी हुई सारी डिटेल्स विस्तार से जानने के लिए हमारे आज के इस लेख को सारा पढ़ें। 

बीएफडी कोर्स क्या है (what is BFD course in Hindi)

सबसे पहले यहां जानकारी के लिए बता दें कि बीएफडी (BFD) का पूरा नाम बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन (Bachelor of Fashion Design) है। बता दें कि यह एक अंडर ग्रैजुएट फैशन डिजाइनिंग कोर्स है। इस कोर्स के माध्यम से स्टूडेंट्स को विभिन्न तरह के डिजाइंस बनाना सिखाया जाता है जिससे कि उन्हें टेक्निकल और प्रोफेशनल नॉलेज मिल सके। 

इस प्रकार से जब छात्र अपना यह पूरा बीएफडी प्रोग्राम कर लेते हैं तो फैशन वर्ल्ड में काम करने के काबिल हो जाते हैं। बता दें कि विद्यार्थीयों को फैशन ड्रॉइंग, कॉस्टयूम डिजाइन, ज्वेलरी डिजाइन, फुटवेयर और एक्सेसरीज डिज़ाइन करना सिखाया जाता है। बताते चलें कि यह कोर्स उन छात्रों के लिए सबसे बेस्ट माना गया है जिनमें इमैजिनेशन और विजुलाइजेशन स्किल्स होते हैं। 

जैसा कि आपको मालूम ही होगा कि फैशन इंडस्ट्री काफी व्यापक क्षेत्र है तो इसलिए कैंडिडेट को नौकरी भी आसानी के साथ मिल जाती है। 

अवधि (duration)

बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन कोर्स की अवधि 3 से लेकर 4 साल तक की होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बहुत से कॉलेजों में यह कोर्स 3 साल का रखा गया है तो वहीं कुछ कॉलेजों में यह कोर्स 4 साल का होता है। 

इस प्रकार से जो कैंडिडेट 12वीं के बाद अपना कोर्स सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं उन्हें बीएफडी की डिग्री मिल जाती है जिसके बाद वह फैशन इंडस्ट्री में काम करने के काबिल हो जाते हैं। 

बीएफडी कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा (entrance test for BFD course)

बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन यानी कि बीएफडी कोर्स में दाखिला लेने के लिए छात्रों को प्रवेश परीक्षा से गुजरना होता है। यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश के किसी अच्छे और प्रतिष्ठित कॉलेज से अगर कोई कैंडिडेट अपना कोर्स करना चाहता है तो तब उसे एंट्रेंस एग्जाम पास करना पड़ता है। 

बताते चलें कि इस फैशन डिजाइन डिग्री कोर्स के लिए हमारे देश में स्टेट लेवल पर और नेशनल लेवल पर एंट्रेंस एग्जाम करवाए जाते हैं। इस प्रकार से पाठ्यक्रम में एडमिशन लेने के लिए जो सबसे पॉपुलर एंट्रेंस टेस्ट हैं वे इस प्रकार से हैं –

  • आईआईएडी एग्जाम (IIAD Exam)
  • डीएटी एग्जाम (DAT Exam)
  • यूसीईईडी एग्जाम (UCEED Exam) 
  • एआईईईडी (AIEED Exam) 

बीएफडी कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या है (what is the admission process for BFD course)

12वीं के बाद बीएफडी कोर्स करने के लिए जो प्रवेश प्रक्रिया है उसके बारे में जानकारी निम्नलिखित इस प्रकार से है – 

  • सबसे पहले छात्रों को चाहिए कि वह जिस भी कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं उसके एंट्रेंस एग्जाम के बारे में जानकारी हासिल करें। 
  • फिर छात्र को चाहिए कि जिस भी कॉलेज से वह अपना कोर्स करना चाहते हैं उसकी ऑफिशल वेबसाइट पर जाएं। 
  • संबंधित कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट पर एडमिशन डिटेल्स व एंट्रेंस टेस्ट के बारे में जानकारी मिल जाएगी। 
  • स्टूडेंट्स को चाहिए कि वो अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर दें। 
  • उसके बाद एग्जाम टेस्ट के लिए छात्रों से संपर्क किया जाता है और उन्हें परीक्षा की तिथि और एडमिट कार्ड के बारे में जानकारी मिल जाती है। 
  • इस तरह से जो भी विद्यार्थी एंट्रेंस टेस्ट में पास जाते हैं उन्हें उनके फेवरेट कॉलेज से फैशन डिजाइनिंग का डिग्री प्रोग्राम करने का मौका मिलता है। 

बीएफडी कोर्स के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए (what should be the qualification for BFD course)

बीएफडी कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता का होना बहुत जरूरी है –

  • छात्र ने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा पास की हो। 
  • छात्र ने 12वीं में कम से कम 50% तक अंक हासिल किए हो। 
  • विद्यार्थी में क्रिएटिविटी होनी चाहिए।
  • कंप्यूटर की जानकारी के साथ-साथ कैंडिडेट में इमेजिनेटिव स्किल्स भी होने आवश्यक हैं। 

फीस (Fees) 

जो कैंडिडेट फैशन डिजाइनिंग का डिग्री कोर्स करना चाहते हैं उन्हें इसके लिए जो फीस देनी पड़ती है वह हर कॉलेज की अलग-अलग होती है। इस तरह से अगर छात्र अपना कोर्स सरकारी कॉलेज से करता है तो तब कम शुल्क का भुगतान करना होता है लेकिन प्राइवेट कॉलेज में उसे ज्यादा शुल्क देना पड़ता है। 

लेकिन अगर अनुमान लगाया जाए तो इस पाठ्यक्रम के लिए छात्रों को 20 हजार रुपए से लेकर 3 लाख से ज्यादा तक की फीस देनी पड़ती है। 

भारत में बीएफडी कोर्स करने के लिए कॉलेज (college to do BFD course in India)

बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन कोर्स जो छात्र 12वीं के बाद करना चाहते हैं उन्हें हम बता दें कि इसके लिए भारत में बहुत सारे अच्छे कॉलेज हैं जैसे कि – 

  • निफ्ट दिल्ली (NIFT Delhi)
  • नेफ्ट मुंबई (NIFT Mumbai)
  • निफ्ट बेंगलुरु (NIFT Bangalore)
  • निफ्ट हैदराबाद (NIFT Hyderabad)
  • निफ्ट भुवनेश्वर (NIFT Bhubaneswar)
  • सिंबोसिस इंस्टीट्यूट आफ डिजाइन पुणे (Symbiosis Institute of Design Pune)
  • पारुल यूनिवर्सिटी वडोदरा (Parul university Vadodara)
  • एमिटी स्कूल ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी नोएडा (Amity School of Fashion Technology Noida) 
  • पर्ल अकैडमी दिल्ली (Pearl Academy Delhi)
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी जालंधर (Lovely professional University Jalandhar) 

बीएफडी कोर्स का पाठ्यक्रम/सब्जेक्ट क्या क्या है (what are the syllabus/subjects of BFD course) 

बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन कोर्स करने के दौरान छात्रों को जो सिलेबस पढ़ाया जाता है उसके बारे में जानकारी इस प्रकार से है –

  • इंट्रोडक्शन टू फैशन इंडस्ट्री (Introduction to the fashion industry) 
  • फैशन आर्ट एंड डिजाइन (Fashion art and design)
  • हिस्ट्री ऑफ़ फैशन (History of fashion)
  • पेटर्न मेकिंग (Pattern making)
  • मार्केटिंग एंड मर्चेंडाइजिंग (Marketing and merchandising)
  • फैशन कास्टिंग (Fashion forecasting) 
  • इंग्लिश एंड कम्युनिकेशन स्किल्स (English and communication skills)
  • अपैरल मैन्युफैक्चरिंग टेक्नोलॉजी (Apparel manufacturing technology)
  • वर्ल्ड आर्ट एप्रिसिएशन (World art appreciation)
  • फैशन पोर्टफोलियो (Fashion portfolio)
  • एलिमेंट्स एंड प्रिंसिपल्स ऑफ़ डिजाइन (Elements and principles of design)
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन (Computer application)
  • ड्रेपिंग फंडामेंटल्स (Draping fundamentals) 
  • डिजिटल डिजाइन फॉर अपैरल कैटिगरीज (Digital design for apparel categories)
  • रिटेलिंग एंड एक्सपोर्ट (Retailing and export)
  • फैशन इलस्ट्रेशन (Fashion illustration)
  • फैशन कम्युनिकेशन (Fashion communication)
  • फैशन फोटोग्राफी (Fashion photography) 
  • एंटरप्रेन्योरशिप (Entrepreneurship) 

बीएफडी कोर्स के बाद कैरियर संभावनाएं क्या है (what are the career prospects after BFD course)

बीएफडी में डिग्री हासिल करने के बाद योग्य कैंडिडेट्स के सामने कैरियर की बहुत सारी संभावनाएं होती हैं जहां वो काम कर सकते हैं जैसे कि – 

  • एक्सपोर्ट हाउस (Export houses)
  • मीडिया हाउसेस (Media houses)
  • फैशन हाउसेस (Fashion houses) 
  • ज्वेलरी हाउसेस (Jewellery houses)
  • फैशन शो मैनेजमेंट सेंटर्स (Fashion show management centres)
  • क्वालिटी कंट्रोल सेंटर्स (Quality control centres)
  • टैक्सटाइल मिल्स (Textile mills)
  • फैशन इंस्टीट्यूट (Fashion institutes) 
  • फैशन स्कूल्स (Fashion schools) 

वेतन (salary)

बीएफडी कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वह उसकी योग्यता के आधार पर मिलती है। काबिल और क्रिएटिव कैंडिडेट को हर महीने 25,000 से लेकर 40,000 तक का वेतन मिल जाता है। 

प्राइवेट सेक्टर में जॉब्स (Jobs in private sector)

12वीं के बाद बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन करने पर छात्रों को प्राइवेट सेक्टर में काफी अच्छी नौकरी के चांस मिल जाते हैं जहां पर वह निम्नलिखित पदों पर काम कर सकते हैं – 

  • फैशन डिजाइनर (Fashion designer)
  • फैशन कंसलटेंट एंड फैशन स्टाइलिस्ट (Fashion Consultant and fashion stylist) 
  • कॉस्टयूम डिजाइनर (Costume designer) 
  • फैशन कोऑर्डिनेटर (Fashion coordinator)
  • फैशन मर्चेंडाइजर (Visual merchandiser)
  • फैशन एंटरप्राइज मैनेजर (Fashion enterprise manager) 
  • ट्रेंड फोरकास्टर (Trend forecaster)
  • प्रोडक्ट डेवलपर (Product Developer) 
  • प्राइवेट टीचर (Private Teacher)

गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब्स (Jobs in government sector)

बीएफडी कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को जिस प्रकार से प्राइवेट सेक्टर में नौकरी के अच्छे अवसर मिल जाते हैं ठीक इसी तरह से उसे बहुत से अवसर गवर्नमेंट सेक्टर में भी मिल जाते हैं। इसके लिए उम्मीदवार एंप्लॉयमेंट न्यूज़ या फिर गवर्नमेंट नौकरियों की सूचना देने वाली वेबसाइटों पर जाकर जॉब के लिए नोटिफिकेशन चेक कर सकते हैं। इस प्रकार से जैसे ही कोई सरकारी जॉब निकले तो कैंडिडेट अपना आवेदन दे सकते हैं। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल बीएफडी कोर्स (BFD Course)  कैसे करें पूरी जानकारी। इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया कि बीएफडी कोर्स क्या होता है और इस पाठ्यक्रम की अवधि कितने साल की होती है। इसके अलावा हमने आपको यह डिटेल्स भी दी कि बैचलर ऑफ फैशन डिजाइन कोर्स करने के लिए प्रवेश परीक्षा और प्रवेश प्रक्रिया क्या होती है। 

इस प्रकार इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको यह भी डिटेल्स बताईं कि बीएफडी कोर्स में दाखिला लेने के लिए किसी भी छात्र में कितनी योग्यता होना जरूरी होता है और कॉलेज में इस पाठ्यक्रम के लिए कितनी फीस का भुगतान करना पड़ता है। 

इसके साथ ही साथ हमने आपको यह भी बताया कि हमारे देश भारत में बैचलर ऑफ फैशन डिजाइनिंग के लिए कौन कौन से कॉलेज अच्छे हैं और वहां पर स्टूडेंट्स को क्या सिलेबस पढ़ाया जाता है। इसके अलावा हमने आपको यह भी जानकारी दी कि बीएफडी का डिग्री प्रोग्राम करने के बाद छात्रों के सामने प्राइवेट और गवर्नमेंट सेक्टर में कैरियर की क्या-क्या संभावनाएं हो सकती हैं। 

इस लेख के माध्यम से हमने आपको यह डिटेल्स भी दी कि जब स्टूडेंट्स अपना बैचलर ऑफ फैशन डिजाइनिंग पाठ्यक्रम पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद जब वे नौकरी करते हैं तो उन्हें हर महीने कितनी सैलरी मिल सकती है। हमें पूरी उम्मीद है कि हमारे द्वारा बताई गई सारी डिटेल्स आपके लिए काफी उपयोगी रही होगी।

इसलिए अंत में हमारी आपसे छोटी सी रिक्वेस्ट है कि हमारे इस पोस्ट को अपने उन सभी दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो 12वीं के बाद बीएफडी कोर्स करना चाहते हैं और उसके बारे में डिटेल्स ढूंढ रहे हैं।

Leave a Reply