बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर (Bank Probationary Officer) कैसे बनें?

नमस्कार! आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि Bank Probationary Officer कैसे बनें? बहुत सारे छात्रों को बैंक में नौकरी करना बहुत ही ज्यादा पसंद होता है जिसकी वजह से वो बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। लेकिन बैंक में किसी भी पोस्ट पर काम करना आसान नहीं होता है और इसके लिए छात्र को कठिन परिश्रम के अलावा उसके दिल में   लग्न भी होनी चाहिए। अगर आप भी एक ऐसे विद्यार्थी हैं जो बैंक इंडस्ट्री में काम करने के इच्छुक हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें कि आप किस प्रकार से बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बन सकते हैं। 

बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर क्या होता है (what is Bank Probationary Officer in Hindi) 

सबसे पहले यहां आपको बता दें कि बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर एक ऐसा प्रोफेशनल होता है जोकि किसी भी बैंक में सहायक प्रबंधक के रूप में काम करता है और उसको पीओ एवं असिस्टेंट मैनेजर के रूप में भी जाना जाता है। बता दें कि बैंक के अंदर होने वाले सभी कामों को वह सुचारू रूप से करवाने के लिए जिम्मेदार होता है जिससे कि बैंक के ग्राहकों को बेस्ट सेवा प्रदान की जा सके। इस प्रकार से एक बैंक पीओ हमारे देश में अनेकों बैंकों में काम कर सकता है जैसे कि भारतीय स्टेट बैंक, इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, नेशनल बैंक, आईसीआईसीआई बैंक इत्यादि।

Also read: सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर (System Administrator) कैसे बनें?

बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

अगर आप जानना चाहते हैं कि बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बनने के लिए क्या प्रक्रिया है तो यहां आपको बता दें कि इसके लिए सबसे पहले कैंडिडेट को अपनी ग्रेजुएशन पूरी करनी होगी जिसके बाद आईबीपीएस के तहत चयन परीक्षा में भाग लेना होगा। बता दें कि यह परीक्षा तीन चरणों में आयोजित करवाई जाती है जैसे कि प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू। जो छात्र एग्जाम के तीनों चरणों में पास हो जाते हैं केवल उन्हें ही बैंक में पीओ बनने का मौका मिलता है। 

बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

यहां बता दें कि जो विद्यार्थी प्रोबेशनरी ऑफिसर बनना चाहते हैं इसके लिए उन्हें निम्नलिखित योग्यता होनी आवश्यक है- 

  • कैंडिडेट ने किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से कम से कम ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की हो। 
  • इच्छुक उम्मीदवार को कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए।
  • अंग्रेजी भाषा का ज्ञान भी होना जरूरी है। ‌

आयु सीमा 

  • इच्छुक उम्मीदवार की आयु कम से कम 21 साल तक होनी चाहिए।
  • आयु सीमा 30 साल तक रखी गई है।
  • जो अभ्यर्थी आरक्षित वर्ग से संबंधित है उन्हें आयु सीमा में सरकार के नियमानुसार छूट दी गई है। 

बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

जब कोई अभ्यर्थी बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बन जाता है तो उसके सामने कैरियर के विस्तृत ऑप्शन आ जाते हैं जहां पर वह प्राइवेट बैंकों के अलावा सरकारी बैंकों में भी काम कर सकता है। जहां पर वह प्रोबेशनरी ऑफिसर के अलावा, डेप्युटी मैनेजर, जनरल मैनेजर, चीफ जनरल मैनेजर जैसे पदों पर तरक्की करने के बाद नौकरी कर सकता है।

वेतन 

जब कोई व्यक्ति बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बन जाता है तो उसे हर महीने शुरुआत में तकरीबन 23 हजार से लेकर 42 रूपए तक का वेतन मिल जाता है जिसमें दूसरे अन्य भत्ते भी शामिल होते हैं। इस तरह से जब उसे कुछ सालों का अनुभव हासिल हो जाता है तो उसके बाद उसको और भी ज्यादा वेतन मिलता है।

बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर के कार्य 

जो अभ्यर्थी बैंक पीओ यानी बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में काम करता है उसकी भूमिका बैंक में बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होने के साथ-साथ सर्वश्रेष्ठ भी होती है और उसे जो कार्य करने होते हैं उनकी जानकारी इस तरह से है-

  • ग्राहकों को ऋण प्रदान करने का काम करता है जिसके लिए वे उनके सभी दस्तावेजों को जांच करने के बाद ही अपना निर्णय लेता है। 
  • ग्राहकों को सुविधाएं उपलब्ध कराता है।
  • अगर किसी ग्राहक को बैंक से संबंधित कोई समस्या है तो उसका समाधान करता है।
  • नकद लेनदेन के मामलों को देखता है।
  • बैंक अकाउंट से संबंधित ग्राहकों की हर परेशानी को दूर करता है जैसे कि एटीएम कार्ड, चेक बुक, पासबुक इत्यादि। 
  • फाइनेंस और अकाउंटिंग से जुड़े हुए कार्य संभालता है। 
  • बैंक के बिजनेस को बढ़ाने के लिए उचित रणनीति बनाते हुए काम करता है। 
  • बैंक में काम करने वाले क्लेरिकल स्टाफ के कामों पर नजर रखता है। 

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल Bank Probationary Officer कैसे बनें? इस पोस्ट में हमने आपको बताया बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर क्या होता है और इसके लिए कैंडिडेट में कितनी योग्यता होनी अनिवार्य है। इसके अलावा हमने आपको यह जानकारी भी दी कि बैंक पीओ बनने के लिए क्या प्रक्रिया होती है और जब कोई कैंडिडेट बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बन जाता है तो तब उसे कौन-कौन से कार्य करने पड़ते हैं और हर महीने वह कितना वेतन हासिल कर सकता है। हमें पूरी उम्मीद है कि यह आर्टिकल आपके लिए जरूर उपयोगी रहा होगा। वैसे अगर किसी कैंडिडेट को बैंकिंग सेक्टर में नौकरी करने का मन है तो वह अपनी मेहनत लगन से इस क्षेत्र में नौकरी हासिल करने के अलावा तरक्की भी हासिल कर सकता है। अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारे द्वारा दी गई यह सारी जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने उन सभी दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर बनना चाहते हैं। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply