आर्कियोलॉजिस्ट (Archaeologist) कैसे बनें?

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि आर्कियोलॉजिस्ट (Archaeologist) कैसे बनें? दुनिया भर में ऐसी बहुत सारी पुरानी वस्तुएं हैं जो काफी रहस्यमयी होती हैं और बहुत से लोगों को पुराने अवशेषों और खंडहरों के बारे में अध्ययन करना बहुत ज्यादा पसंद होता है। इसी वजह से वह इस इंडस्ट्री में अपना कैरियर बनाते हैं। यदि आप भी एक ऐसे छात्र हैं जो 12वीं के बाद आर्कियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं और उससे संबंधित जानकारी ढूंढ रहे हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें पूरी प्रक्रिया के बारे में। 

आर्कियोलॉजिस्ट क्या होता है (what is Archaeologist in Hindi) 

यहां सबसे पहले जानकारी के लिए बता दें कि आर्कियोलॉजिस्ट एक ऐसा प्रोफेशनल होता है जो अत्यधिक पुराने अवशेषों और खंडहरों के अलावा दूसरी सामग्रियों के द्वारा यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि अतीत के मानव का जीवन कैसा रहा होगा। इस तरह से वह पुरानी संस्कृतियों के साथ-साथ पुरानी मानव सभ्यता के बारे में भी शोध करता है। इस तरह से देखा जाए तो वह मानव इतिहास के बारे में गहन अध्ययन करने के लिए जिम्मेदार होता है। 

Also read: माइक्रोबायोलॉजिस्ट/बैक्टीरियोलॉजिस्ट (Microbiologist/Bacteriologist) कैसे बनें?

आर्कियोलॉजिस्ट बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

जो कैंडिडेट 12वीं के बाद आर्कियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं इसके लिए उन्हें चाहिए कि वह इतिहास जैसे विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करें। इस तरह से कैंडिडेट को चाहिए कि फिर वह आर्कोलॉजी में 1 साल का डिप्लोमा या फिर 2 साल का पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करें। इस तरह से कोर्स पूरा करने के बाद सरकारी या निजी स्थानों पर नौकरी के लिए आवेदन देकर इस क्षेत्र में काम करें। यहां यह भी बता दें कि कुछ कैंडिडेट ऐसे भी होते हैं जो आर्कियोलॉजी के क्षेत्र में पीएचडी की डिग्री हासिल करते हैं। इसलिए अगर आप चाहें तो आप भी इसमें एडमिशन ले सकते हैं। 

आर्कियोलॉजिस्ट बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  • कैंडिडेट ने कम से कम इतिहास में ग्रेजुएशन किया होना चाहिए।
  • बीए के बाद कैंडिडेट ने आर्कोलॉजी में डिप्लोमा किया हो।
  • या फिर छात्र ने आर्कोलॉजी में एमए किया होना चाहिए। 
  • कैंडिडेट मेहनती और अपने काम के प्रति समर्पित होना चाहिए।
  • छात्र को अंग्रेजी के साथ-साथ कंप्यूटर की भी अच्छी जानकारी होनी चाहिए। 

आयु सीमा 

  • छात्र की आयु पाठ्यक्रम में एडमिशन के समय मिनिमम 17 वर्ष तक होनी चाहिए।
  • आयु सीमा में छूट आरक्षित वर्ग को सरकार के नियमानुसार दिया गया है। 

आर्कियोलॉजिस्ट बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है 

जो कैंडिडेट ऑर्थोलॉजिस्ट बन जाते हैं उनके सामने कैरियर के काफी बेहतरीन संभावनाएं आ जाती हैं जहां पर वह निम्नलिखित पदों पर काम कर  सकते हैं जैसे कि-

  • म्यूजियम ऑफिसर
  • गैलरी एग्जिबिशन ऑफिसर
  • डॉक्यूमेंट स्पेशलिस्ट
  • अर्बन आर्कियोलॉजिस्ट 
  • प्रीहिस्टोरिक आर्कियोलॉजिस्ट 
  • मरीन आर्कियोलॉजिस्ट 
  • एनवायरमेंटल आर्कियोलॉजिस्ट 
  • जियो आर्कियोलॉजिस्ट 
  • लेक्चरर या प्रोफेसर 

वेतन 

जब कैंडिडेट आर्कियोलॉजिस्ट बन जाता है तो उसे शुरुआत में ही काफी आकर्षक वेतन मिल जाता है जो कि लगभग 25,000 से लेकर 30 हजार रुपए तक हो सकता है। इस तरह से जब कैंडिडेट को कुछ वर्षों तक इस इंडस्ट्री में काम करने का अनुभव हासिल हो जाता है तो उसे और भी अधिक वेतनमान मिल जाता है। 

आर्कियोलॉजिस्ट के कार्य 

जो कैंडिडेट आर्कियोलॉजी के क्षेत्र में नौकरी करते हैं उन्हें निम्नलिखित काम करने होते हैं जो कि इस प्रकार से हैं- 

  • मनुष्य के इतिहास के बारे में अध्ययन करना।
  • जब कहीं पर कोई खुदाई होती है और वहां पर पुरानी वस्तुएं निकलती हैं उस पर शोध करना।
  • जितनी भी चीजें पुराने समय के इतिहास में पाई जाती हैं उनका अध्ययन करना।
  • पुराने अवशेषों के द्वारा मानव के जीवन पर शोध कार्य करना। 
  • पुराने समय में जितनी भी सभ्यताएं और संस्कृतियों थी उनका अध्ययन करना।

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल आर्कियोलॉजिस्ट   (Archaeologist) कैसे बनें? इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको जानकारी दी कि आर्कियोलॉजिस्ट क्या होता है और इसके बनने के लिए छात्र में कितनी योग्यता होनी आवश्यक है। इसके साथ ही साथ हमने आपको यह जानकारी भी दी कि आर्कियोलॉजिस्ट बनने के लिए क्या प्रक्रिया होती है एवं इस पद पर रहते हुए कैंडिडेट को कौन-कौन से कार्य करने पड़ते हैं और इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया कि आर्कोलॉजी के पेशेवर को हर महीने कितने रुपए तक का वेतन मिल सकता है। वैसे अगर देखा जाए तो अगर आपको पुरानी चीजों के इतिहास को पढ़ना अच्छा लगता है तो इस क्षेत्र में आप अपना काफी बेहतरीन भविष्य आराम से बना सकते हैं।

अंत में हमारी आपसे यही रिक्वेस्ट है कि अगर आपको हमारे द्वारा दी गई यह सारी जानकारी उपयोगी लगी हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो 12वीं के बाद आर्कियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं। 

Deepak Kumar

दीपक कुमार After12th.net के लेखक और संस्थापक हैं। वह छात्रों को उनकी धारा तय करने और उद्योग में पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। वह उन्हें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करता है। उनका उद्देश्य देश में अधिकतम छात्रों के लिए वैध और उपयोगी जानकारी साझा करना है।

Leave a Reply