12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट (Course List after 12th Maths)

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे 12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट के बारे में। बारहवीं कक्षा के छात्र के लिए महत्व रखती है क्योंकि उसके बाद ही उनके कैरियर की नींव को रखा जाता है। यहां बता दें 12वीं मैथ्स के बाद छात्रों के सामने बहुत सारे कोर्स अवेलेबल हैं जिनमें वह अपना एडमिशन ले सकते हैं। लेकिन कई बार छात्रों को समझ में नहीं आता कि उनके लिए कौन सा कोर्स सबसे बेस्ट है।

इसीलिए जरूरी है छात्र किसी ऐसे विषय में अपनी पढ़ाई करें जिसमें आगे उसे सफल कैरियर बनाने में हेल्प हो सके। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि 12th मैथ्स के बाद कोर्स कौन-कौन से हैं जिन्हें आप कर सकते हैं। सारी जानकारी हासिल करने के लिए हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। 

Contents

12th मैथ्स के बाद कोर्स 

जो स्टूडेंट्स 12वीं क्लास मैथ्स जैसे सब्जेक्ट के साथ पास करते हैं उनके मन में यह सवाल जरूर आता है कि वो आगे कौन से कोर्स में दाखिला लें। यहां आपको बता दें कि जो छात्र 12वीं में गणित पढ़ते हैं उनके पास बहुत सारे कोर्स करने के ऑप्शन होते हैं जिनको करके वह बहुत सारी फील्ड में अपना कैरियर बना सकते हैं। पर सबसे महत्वपूर्ण है कि स्टूडेंट किसी बेस्ट कोर्स का ही चुनाव करें क्योंकि उसी के ऊपर उसका सारा फ्यूचर निर्भर होता है। 

यहां हम आपको बताएंगे 12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट के बारे में सारी डिटेल ताकि आप अपना पसंदीदा कोर्स आसानी के साथ कर सकें। 

बीएससी मैथमेटिक्स 

12th मैथ्स के बाद कोर्स अगर आप करना चाहते हैं तो आपको बीएससी मैथमेटिक्स में दाखिला लेना चाहिए। यहां आपको बता दें कि यह 3 साल की अवधि का कोर्स है जिसमें छात्रों को गणित में स्पेशलाइजेशन करवाया जाता है। इस पाठ्यक्रम को करने वाले विद्यार्थियों को मैथमेटिकल धारणाओं को बहुत ही ज्यादा डीपली पढ़ाया जाता है और उनका इस्तेमाल करना भी सिखाया जाता है। 

बीएससी मैथमेटिक्स कोर्स करने के लिए योग्यता 

बीएससी मैथमेटिक्स कोर्स करने के लिए छात्रों में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए जैसे कि –

  • छात्र ने बारहवीं कक्षा फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ जैसे विषय के साथ पास की हो। 
  • कैंडिडेट ने 12वीं में कम से कम 50% अंक हासिल की है। 
  • छात्र को गणित विषय पढ़ने में इंटरेस्ट होना चाहिए। 

बीएससी मैथमेटिक्स करने के बाद सैलरी 

जो कैंडिडेट बीएससी मैथमेटिक्स की पढ़ाई पूरी कर लेते हैं तो उसके बाद उन्हें कैरियर बनाने के बहुत सारे अवसर मिलते हैं। इस प्रकार से कैंडिडेट कोडिंग से लेकर मैनेजमेंट तक बहुत सारी फील्ड में जाने के मौके हासिल कर सकते हैं। यहां बता दें कि कैंडिडेट को हर महीने काफी अच्छा वेतनमान उसकी नौकरी और योग्यता के अनुसार मिल जाता है जो कि 20 हजार से लेकर 50 हजार तक हो सकता है।

कंप्यूटर साइंस कोर्स 

कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने की इच्छा रखने वाले छात्रों के लिए 12th मैथ्स के बाद यह कोर्स काफी अच्छा है। आपको बता दें कि 3 वर्षीय डिग्री पाठ्यक्रम है और यह उन छात्रों के लिए बहुत अच्छा है जिनको कंप्यूटर में बहुत ज्यादा इंटरेस्ट होता है। साथ ही बता दें कि अगर इस कोर्स को छात्र कर लेते हैं तो फिर उसके बाद उन्हें जॉब करने की बिल्कुल भी कमी नहीं होती। इस पाठ्यक्रम में एडमिशन लेने वाले छात्रों को कंप्यूटर लैंग्वेज, वेब डिजाइनिंग, कंप्यूटर हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग, ग्राफिक डिजाइनिंग के अलावा एप डेवलपमेंट भी सिखाया जाता है। 

कंप्यूटर साइंस कोर्स करने के लिए योग्यता 

12वीं के बाद कंप्यूटर साइंस में डिग्री हासिल करने के लिए छात्रों में कुछ योग्यता होनी चाहिए जैसे कि – 

  • छात्र ने बारहवीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास की हो।
  • 12वीं तक कैंडिडेट ने साइंस और मैथमेटिक्स जैसे विषय पढ़ें हों। 
  • कैंडिडेट को कंप्यूटर के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा की जानकारी होनी चाहिए। 

कंप्यूटर साइंस कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो छात्र कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन कर लेते हैं उसके बाद उन्हें जो सैलरी मिलती है वह उनके काम करने के तरीके, एक्सपीरियंस और पद के ऊपर निर्धारित होती है। लेकिन अगर एक एवरेज सैलेरी की बात की जाए तो कैंडिडेट को हर महीने 25,000 से लेकर 60,000 तक की सैलरी आसानी के साथ मिल जाती है। बाद में अनुभव हासिल करने के बाद उसके वेतन में और भी वृद्धि हो जाती है। 

बीएससी इन नॉटिकल साइंस कोर्स 

12th मैथ्स के बाद कोर्स यदि नॉटिकल साइंस में किया जाए तो काफी उत्तम रहता है। यहां बता दें कि इस कोर्स के बारे में बहुत से स्टूडेंट्स को पता ही नहीं होता और इसी वजह से वह इसमें एडमिशन ले ही नहीं पाते। यहां बता दें कि बीएससी इन नॉटिकल साइंस (BSc in Nautical Science) में स्टूडेंट्स को यह सिखाया जाता है कि किस प्रकार से समुद्री जहाजों को नेविगेट किया जाता है। इसके अलावा उन्हें सुरक्षित रूप से चलाने की ट्रेनिंग के साथ-साथ दूसरी अन्य सभी जानकारी के बारे में काफी विस्तार के साथ छात्रों को पढ़ाया जाता है। बताते चलें कि इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है जिसको आप देश के किसी भी सरकारी या फिर प्राइवेट कॉलेज से आसानी के साथ कर सकते हैं। 

बीएससी इन नॉटिकल साइंस कोर्स करने के लिए योग्यता 

नॉटिकल साइंस में बीएससी करने के लिए स्टूडेंट्स में जो योग्यता होनी चाहिए वह इस तरह से है –

  • कैंडिडेट ने कम से कम 12वीं कक्षा साइंस और मैथमेटिक्स जैसे विषय के साथ पास की होनी चाहिए। 
  • छात्र को समुद्री जीवन से लगाव होना चाहिए। 
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी के साथ-साथ कंप्यूटर की जानकारी भी होनी चाहिए। 

बीएससी इन नॉटिकल साइंस कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो छात्र बीएससी इन नॉटिकल साइंस कोर्स कर लेते हैं उसके बाद जब वह नौकरी करते हैं तो तब उन्हें शुरुआत में ही काफी अट्रैक्टिव वेतन मिल जाता है। लेकिन आमतौर पर उनका सैलेरी पैकेज उनकी पोस्ट और काम करने के ऊपर डिपेंड करता है। पर फिर भी कैंडिडेट को जो एवरेज सैलेरी हर महीने मिलती है वह तकरीबन 40 हजार रुपए से लेकर 80 हजार रुपए तक होती है। 

बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी कोर्स 

12वीं मैथ्स के साथ पास करने वाले स्टूडेंट्स के लिए बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी यानी कि बीटेक एक बेहद अच्छा और शानदार कोर्स है। यहां आपको बता दें कि आज इंजीनियरिंग की फील्ड में योग्य उम्मीदवारों की बहुत ज्यादा मांग है। तो अगर आप भी इंजीनियर बनने का सोच रहे हैं तो इसके लिए आपको बीटेक (B.Tech) या फिर बीई कोर्स (BE Course) करना होगा। परंतु इंजीनियर बनने के लिए 4 साल का समय लगता है और एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट को एंट्रेंस एग्जाम में शामिल होना पड़ता है और उसमें अच्छी रैंक लानी आवश्यक होती है। लेकिन यहां आपको बता दें कि यह कोर्स सरकारी कॉलेजों के अलावा निजी कॉलेजों में भी अवेलेबल है। 

बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी कोर्स करने के लिए योग्यता 

बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में जो योग्यता होनी चाहिए उसके बारे में जानकारी इस तरह से है – 

  • स्टूडेंट ने कम से कम 12वीं क्लास पास की हो।
  • 12वीं कक्षा में उसने विज्ञान और गणित जैसे विषयों में पढ़ाई की होनी चाहिए।
  • कैंडिडेट ने जेईई मेंस और एडवांस एग्जाम की परीक्षा पास की हो। 

बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी कोर्स करने के बाद सैलरी 

बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी कोर्स करने के बाद कोई भी कैंडिडेट कैरियर की शुरुआत में ही काफी अच्छा वेतन कमा सकता है। यहां बता दें कि शुरुआत में ही एक योग्य व्यक्ति हर महीने 50 हजार रुपए तक का सैलरी पैकेज हासिल कर सकता है। बाद में एक्सपीरियंस हासिल होने के बाद उसे इससे भी ज्यादा वेतन मिल जाता है।

मरीन इंजीनियरिंग कोर्स 

12वीं के बाद आप मरीन इंजीनियरिंग कोर्स कर सकते हैं। यहां आपको बता दें कि जिन छात्रों को दुनिया भर में समुद्री रास्तों से ट्रेवल करना पसंद होता है वह इस क्षेत्र में जा सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स की अवधि 4 साल की होती है और इसमें कैंडिडेट को समुद्र के अंदर चलने वाले जहाजों के पुर्जो को बनाना और उनका मेंटेनेंस सिखाया जाता है। 12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट में इस बेहतरीन पाठ्यक्रम को इसलिए शामिल किया गया है क्योंकि इसमें रोजगार के अच्छे अवसर उपलब्ध हैं। 

मरीन इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए योग्यता 

मरीन इंजीनियरिंग बनने के लिए किसी भी छात्र में निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए जैसे कि – 

  • छात्र ने 12वीं कक्षा में मैथमेटिक्स और फिजिक्स, केमिस्ट्री जैसे विषय पढ़ें हों।
  • कैंडिडेट ने 12वीं में कम से कम 60 परसेंट अंक हासिल किए हों। 
  • कैंडिडेट की लंबाई 150 सेंटीमीटर तक होनी जरूरी है।
  • आंखों में कलर ब्लाइंडनेस या कोई अन्य बीमारी नहीं होनी चाहिए।

मरीन इंजीनियरिंग कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो कैंडिडेट मरीन इंजीनियर बन जाते हैं उसके बाद उन्हें हर महीने जो सैलरी मिलती है वह तकरीबन 25 हजार रुपए से लेकर 30 हजार रुपए तक हो सकती है। इसके अलावा उसे सरकार की तरफ से कुछ और सुविधाएं भी दी जाती हैं। 

मास कॉम कोर्स 

जो स्टूडेंट 12वीं में मैथ्स विषय की पढ़ाई करते हैं वह चाहें तो पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अपना कैरियर बना सकते हैं। यहां आपको बताते चलें कि इसके लिए आप मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएशन कर सकते हैं। उसके बाद आपको न्यूज़ एंकर, रिपोर्टर, फोटो जर्नलिस्ट, कैमरामैन इत्यादि जैसे पदों पर काम करने का अवसर मिल जाता है। 

मास कॉम कोर्स करने के लिए योग्यता 

मास कॉम कोर्स करने में रूचि रखने वाले कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए – 

  • कैंडिडेट ने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कम से कम 12वीं कक्षा पास की हो। 
  • कैंडिडेट की पर्सनैलिटी अट्रैक्टिव होनी चाहिए।
  • छात्र के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए।

मास कॉम कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो छात्र मास कम्युनिकेशन का कोर्स पूरा कर लेते हैं उसके बाद उन्हें जो सैलरी मिलती है वह पूरी तरह से उनके काम के ऊपर डिपेंड करती है। इस प्रकार से देखा जाए तो एक प्रोफेशनल इस क्षेत्र में हर महीने 20,000 से लेकर 40,000 तक आसानी के साथ कमा सकता है। 

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन कोर्स 

12th मैथ्स के बाद कोर्स यदि देखा जाए तो बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन यानी कि बीसीए भी एक बेहतरीन कोर्स है। यहां जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स को करने के बाद कैंडिडेट को टेक्नोलॉजी की फील्ड में कैरियर बनाने का अवसर मिलता है। इस कोर्स को करके भी आप काफी अच्छा कैरियर बना सकते हैं। 

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन कोर्स करने के लिए योग्यता 

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए –

  • कैंडिडेट ने मिनिमम 12वीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास की हो।
  • कैंडिडेट ने 12वीं में कम से कम 50% अंक हासिल किए हो।
  • छात्र को कंप्यूटर की बेसिक जानकारी होनी चाहिए। 

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो कैंडिडेट बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन कोर्स को पूरा कर लेते हैं उसके बाद उन्हें जो सैलरी मिलती है वह उनकी योग्यता और पद के ऊपर सबसे ज्यादा निर्भर करती है। लेकिन अगर कैंडिडेट की शुरुआती सैलरी की बात की जाए तो उसे हर महीने 40 हजार रुपए से लेकर एक लाख रुपए तक वेतन मिल सकता है। 

बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड कोर्स 

12th मैथ्स के बाद कोर्स करने वाले छात्रों को हम बता दें कि वह बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड भी कर सकते हैं। यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि आज इस क्षेत्र में तेजी के साथ रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं इसलिए इस पाठ्यक्रम में आप एडमिशन ले सकते हैं। बताते चलें कि इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है जिसमें छात्रों को इंपोर्ट, एक्सपोर्ट, सप्लाई चैन मैनेजमेंट, लॉ पॉलिसी इत्यादि जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं। 

बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड कोर्स करने के लिए योग्यता 

जो कैंडिडेट फॉरेन ट्रेड में डिग्री कोर्स करना चाहते हैं उनके अंदर कुछ योग्यता होनी चाहिए जो कि इस प्रकार से है – 

  • कैंडिडेट ने कम से कम 12वीं कक्षा पास की होनी चाहिए।
  • 12वीं में छात्र के कम से कम 45%-50% तक अंक होने चाहिए।

बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड कोर्स करने के बाद सैलरी 

बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वह काफी आकर्षक होती है जोकि 20 हजार से लेकर 30 हजार रुपए तक हो सकती है। इस प्रकार जब कैंडिडेट को कुछ एक्सपीरियंस हासिल हो जाता है तो तब उसे हर महीने इससे भी ज्यादा का सैलरी पैकेज मिल सकता है। 

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स 

12वीं पास करने के बाद छात्र इवेंट मैनेजमेंट कोर्स भी कर सकते हैं। इसके लिए स्टूडेंट्स को 3 वर्षीय डिग्री या फिर 1 साल का डिप्लोमा कोर्स करना होता है। यहां बता दें कि यह कोर्स हमारे देश के अनेकों गवर्नमेंट और प्राइवेट संस्थानों में अवेलेबल है। यहां बता दें कि पार्टी, सेमिनार, लाइव शो, गेट टुगेदर, कॉरपोरेट मीटिंग, प्रेस कॉन्फ्रेंस इत्यादि के लिए इवेंट मैनेजर की जरूरत पड़ती है। इस वजह से इस क्षेत्र में कैरियर की बहुत सारी संभावनाएं होती हैं। 

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए योग्यता 

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होना अत्यंत जरूरी है जैसे कि – 

  • छात्र ने कम से कम 12वीं कक्षा पास की हो।
  • 12वीं क्लास में कैंडिडेट ने 40% अंक हासिल किए हो। 
  • कैंडिडेट के कम्युनिकेशन स्किल्स इंप्रेसिव होने चाहिए। 

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो कैंडिडेट इवेंट मैनेजमेंट कोर्स कर लेते हैं उसके बाद उन्हें काफी अट्रैक्टिव वेतनमान मिल जाता है। बता दें कि कैंडिडेट को शुरुआत में ही 20,000 से लेकर 50,000 तक आसानी के साथ मिल जाते हैं।

बीएमएस कोर्स 

12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट में बीएमएस कोर्स को शामिल किया जा सकता है। यहां बता दें कि इसका पूरा नाम बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज है। बता दें कि यह 3 साल का कोर्स होता है जो कि बीबीए कोर्स से मिलता-जुलता है। परंतु इस पाठ्यक्रम में स्पेशली मैनेजमेंट स्किल्स पर फोकस किया जाता है। इसलिए कैंडिडेट इस कोर्स में दाखिला लेकर एक अच्छा कैरियर बना सकते हैं। 

बीएमएस कोर्स करने के लिए योग्यता 

बीएमएस कोर्स करने के लिए छात्रों में कुछ योग्यता होनी चाहिए जैसे कि –

  • छात्र ने कम से कम 12वीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास की होनी चाहिए। 
  • कैंडिडेट ने 12वीं में कम से कम 45%-50% तक अंक हासिल किए हों। 

बीएमएस कोर्स करने के बाद सैलरी 

जो कैंडिडेट बीएमएस कोर्स कर लेते हैं उनके सामने कैरियर के बहुत सारे अच्छे अवसर आते हैं। यहां बताते चलें कि कैंडिडेट को जो सैलरी पैकेज मिलता है वो उसके स्किल्स और कंपनी के ऊपर निर्भर करता है। लेकिन अगर एक एवरेज सैलरी की बात की जाए तो कैंडिडेट को हर महीने 25,000 से लेकर 50 हजार रुपए तक का वेतनमान मिल जाता है। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल 12th मैथ्स के बाद कोर्स लिस्ट के बारे में जानकारी। इस लेख के माध्यम से हमने आपको जानकारी दी कि 12वीं में अगर आपके पास मैथमेटिक्स का विषय है तो तब आप कौन-कौन से कोर्स कर सकते हैं। 

इस पोस्ट में हमने आपको यह भी जानकारी दी कि आज के समय में कौन से कोर्स सबसे अधिक लोकप्रिय हैं। साथ ही हमने आपको बताया कि जब आप अपना पसंदीदा कोर्स पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद आपको हर महीने कितने रुपए तक का वेतन मिल सकता है। 

हमें पूरी आशा है कि हमारा यह आर्टिकल आपके लिए जरूर हेल्पफुल रहा होगा। इसलिए अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि इसे अपने उन दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो 12th मैथ्स के बाद कोर्स करने के बारे में जानकारी ढूंढ रहे हैं। 

Leave a Reply