12th कॉमर्स के बाद जॉब लिस्ट (job after 12th commerce)

  • Post author:
  • Post category:Jobs

नमस्कार! After 12th में आपका स्वागत है। दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे 12th कॉमर्स के बाद जॉब लिस्ट के बारे में सारी जानकारी। हर किसी का यही सपना होता है कि जब वह नौकरी करे तो उसे हर महीने काफी शानदार सैलरी मिले। हालांकि कुछ लोगों का यह ख्वाब पूरा भी हो जाता है लेकिन कुछ लोग इसमें असफल हो जाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर आपको 12वीं के बाद कोई अच्छी नौकरी करनी है तो आपको अपने अंदर बहुत योग्यता और क्वालिटी भी पैदा करनी होगी। 

इसलिए अगर आप 12th कॉमर्स के बाद जॉब करना चाहते हैं तो इसके लिए जरूरी है कि आप इससे संबंधित सारी जानकारी हासिल करें। सभी बातों को जानने के लिए हमारे आज के इस पोस्ट को सारा पढ़ें और जानें कि 12वीं पास करने के बाद कौन-कौन से जॉब करने के ऑप्शन किसी भी कैंडिडेट के सामने हो सकते हैं। 

Contents

12th कॉमर्स के बाद जॉब 

कॉमर्स में 12वीं तक पढ़ाई करने वाले छात्र अगर यह चाहते हैं कि वे किसी अच्छी नौकरी को हासिल करें। तो इसके लिए जरूरी है कि जिस फील्ड में वे जॉब करना चाहते हैं उसमें उससे संबंधित डिप्लोमा या डिग्री कोर्स करें। इसलिए जिस इंडस्ट्री में भी आप जाना चाहते हैं उसमें ट्रेनिंग लेने के लिए आप कोर्स कर सकते हैं। इस तरह से जब आप अपना पाठ्यक्रम पूरा कर लेंगे तो आपको एक अच्छी सैलरी वाली जॉब मिल जाएगी। 

यहां हम आपको बता रहे हैं कि 12th कॉमर्स के बाद जॉब करने के लिए कौन-कौन से कोर्स आपके लिए अच्छे हो सकते हैं। साथ ही हम बताएंगे कि कॉमर्स फील्ड वालों के लिए सबसे बेहतरीन नौकरियां कौन सी होती हैं।

मार्केटिंग मैनेजर (Marketing Manager)

12th कॉमर्स के बाद जॉब यदि आप करना चाहते हैं तो आप मार्केटिंग मैनेजर बन सकते हैं। यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि यह नौकरी कॉमर्स स्टूडेंट्स के लिए सबसे जानी-मानी है जिसमें काफी अच्छा सैलरी पैकेज भी मिलता है। एक मार्केटिंग मैनेजर किसी भी बिजनेस को प्लान करता है और इसके अलावा उसको एस्टीमेट और प्रमोट भी करता है। इसके अलावा अपनी कंपनी की बाजार में प्रेजेंस को बेहतर बनाने के लिए भी मार्केटिंग मैनेजर का बहुत ही योगदान होता है। तो आप भी अगर चाहें तो इस पद पर काम कर सकते हैं। 

मार्केटिंग मैनेजर बनने के लिए योग्यता 

अगर आप मार्केटिंग मैनेजर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आप में निम्नलिखित योग्यताओं का होना बहुत जरूरी है –

  • कैंडिडेट ने बिजनेस, मार्केटिंग, एडवरटाइजिंग या कम्युनिकेशंस फील्ड में डिग्री हासिल की हो। 
  • कैंडिडेट के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए। 
  • वह नये विचारों वाला होने के साथ-साथ चुस्त होना चाहिए।
  • उम्मीदवार को कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

मार्केटिंग मैनेजर की सैलरी 

मार्केटिंग मैनेजर बन जाने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वो हर महीने 30,000 से लेकर 80,000 तक हो सकती है। इतना ही नहीं जब कैंडिडेट को कुछ वर्षों का अनुभव हासिल हो जाता है तो तब वह और भी ज्यादा सैलरी प्राप्त कर सकता है। 

इन्वेस्टमेंट बैंकर (Investment Banker) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब में इन्वेस्टमेंट बैंकर भी एक बहुत अच्छा ऑप्शन है। यहां आपको जानकारी के लिए बता दें कि इन्वेस्टमेंट बैंकर वो कैंडिडेट होता है जो जिस कंपनी में काम करता है उसके फाइनैंशल गोल को हासिल करने में लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म स्कीमें बनाता है। कॉमर्स बैकग्राउंड वालों के लिए यह एक बहुत ही अच्छी नौकरी है जिसमें कैंडिडेट को काफी अट्रैक्टिव सैलरी पैकेज मिलता है। 

इन्वेस्टमेंट बैंकर बनने के लिए योग्यता

इन्वेस्टमेंट बैंकर बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होनी जरूरी है – 

  • उम्मीदवार ने कम से कम फाइनेंस एंड इन्वेस्टमेंट बैंकिंग में बीए किया हो।  
  • कैंडिडेट में रीजनिंग और एनालिटिकल एबिलिटीज होनी चाहिए। 
  • उम्मीदवार को सभी प्रकार के लोगों को डील करना आना चाहिए।
  • योजनाओं का प्रबंधन करने में सक्षम हो। 
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी भाषा के साथ साथ कंप्यूटर की भी अच्छी जानकारी होनी चाहिए। 

इन्वेस्टमेंट बैंकर की सैलरी 

इन्वेस्टमेंट बैंकर बनने के बाद किसी भी कैंडिडेट को शुरुआती दौर में हर महीने कम से कम 35,000-40,000 रुपए की सैलरी मिल जाती है। पर जब उसे 3-4 साल का अनुभव हो जाता है तो तब उसको प्रति महीना 50,000-70,000 रुपए तक मिल सकते हैं। साथ ही बता दें कि कुछ कैंडिडेट हर महीने एक लाख रुपए तक की कमाई भी कर सकते हैं।   

रिटेल मैनेजर (Retail Manager) 

रिटेल मैनेजर वह होता है जो किसी भी स्टोर के सारे कम को सुचारू रूप से चलाने के लिए जिम्मेदार होता है। यहां बता दें कि जो कॉमर्स स्टूडेंट होते हैं उनके लिए यह एक काफी अच्छी जॉब है। इसलिए 12th कॉमर्स के बाद यदि आप रिटेल मैनेजर बनना चाहते हैं तो तब आपको पहले इंडस्ट्री में काम करने के लिए कोर्स करना होगा। उसके बाद फिर आप इस पोस्ट पर काम करने के योग्य हो जाते हैं। यहां बता दें कि यह एक बेहद अच्छी पोस्ट है क्योंकि रिटेल इंडस्ट्री में अब दुनियाभर में काफी तेजी आ रही है। इसलिए कैंडिडेट रिटेल मैनेजर बनकर इस फील्ड में काम कर सकते हैं। 

रिटेल मैनेजर बनने के लिए योग्यता

रिटेल मैनेजर बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कुछ योग्यताएं होनी चाहिए जैसे कि –

  • कैंडिडेट ने कम से कम रिटेल मैनेजमेंट में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स किया हो। 
  • उम्मीदवार के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए जिससे कि वह ग्राहकों से अच्छी तरह से बात कर सके।
  • कस्टमर को आकर्षित करने लिए बेहतरीन योजनाएं बनाने में सक्षम हो। 
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

रिटेल मैनेजर की सैलरी

जो कैंडिडेट रिटेल मैनेजर बन जाते हैं उन्हें नौकरी के शुरुआत में 25,000-40,000 रुपए तक सैलरी मिल जाती है। बाद में जब उसे दो-तीन साल का एक्सपीरियंस हो जाता है तो तब उसे इससे भी ज्यादा वेतन मिल सकता है। 

कंपनी सेक्रेट्री (Company Secretary) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब करने के इच्छुक छात्र कंपनी सेक्रेट्री बन सकते हैं। यहां बता दें कि कंपनी सेक्रेटरी को कंपनी सचिव या सीएस (CS) के नाम से भी जाना जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि कंपनी सेक्रेटरी का मुख्य काम अपनी कंपनी के कानूनी और प्रशासनिक जिम्मेदारियों को देखना और संभालना होता है। लेकिन सीएस बनने के लिए कैंडिडेट को एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होता है। 

कंपनी सेक्रेट्री बनने के लिए योग्यता

कंपनी सेक्रेटरी बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कुछ योग्यताएं होना अनिवार्य है जिनके बारे में हम जानकारी दे रहे हैं –

  • कैंडिडेट ने सीएस कोर्स क्लियर किया हो। 
  • उम्मीदवार के कम्युनिकेशन और राइटिंग स्किल्स अच्छे होने चाहिए।
  • प्रोफेशनल नियमों की अच्छी समझ होनी चाहिए। 
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

कंपनी सेक्रेट्री की सैलरी

कंपनी सेक्रेटरी को सरकारी या फिर प्राइवेट सेक्टर में काम करने के अवसर मिलते हैं। इस तरह से कैंडिडेट को काफी महत्वपूर्ण काम करना होता है जिसके लिए उसे हर महीने नौकरी की शुरुआत में 25-40 हजार रुपए तक का वेतन मिल जाता है। यहां बता दें कि जो योग्य उम्मीदवार होते हैं उन्हें कुछ वर्षों के अनुभव के बाद हर महीने एक लाख रुपए तक भी सैलरी मिल सकती है। 

टीचर (Teacher) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब में रूचि लेने वाले छात्रों के लिए टीचर बनना भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। यहां बता दें कि अगर आपको लोगों को पढ़ाना-लिखाना अच्छा लगता है तो एजुकेशन सेक्टर में आप जा सकते हैं। इस क्षेत्र में अच्छी सैलरी मिलने के साथ-साथ सम्मान भी बहुत ज्यादा मिलता है। 

टीचर बनने के लिए योग्यता

किसी भी कैंडिडेट में टीचर बनने के लिए निम्नलिखित योग्यताएं होना अनिवार्य है –

  • उम्मीदवार ने कम से कम कोई भी टीचिंग कोर्स किया हो जैसे कि एनटीटी, जेबीटी, बीएड इत्यादि। 
  • कैंडिडेट को पढ़ाने में रुचि होनी चाहिए।
  • आकर्षक व्यक्तित्व के साथ-साथ कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए।
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

टीचर की सैलरी

जब कोई कैंडिडेट टीचर बन जाता है तो उसे जो शुरुआत में हर महीने सैलरी मिलती है वो इस बात के ऊपर डिपेंड करती है कि उसे प्राइवेट स्कूल में काम करने का अवसर मिला है या फिर गवर्नमेंट स्कूल में। हालांकि जो एक एवरेज सैलेरी होती है वह तकरीबन 20 से लेकर 30 हजार रुपए तक हो सकती है। 

होटल मैनेजर (Hotel Manager) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब होटल मैनेजर के पद पर भी की जा सकती है। यहां आपको बता दें कि आज के समय में होटल इंडस्ट्री नेशनल और इंटरनेशनल में काफी तेजी के साथ बढ़ रही है। जानकारी दे दें कि जिन छात्रों ने 12वीं कक्षा तक कॉमर्स का विषय पढ़ा है वो इस फील्ड में काम कर सकते हैं। यह ऐसा क्षेत्र है जहां पर योग्य कैंडिडेट को लगातार आगे बढ़ने के चांस मिलते हैं। 

होटल मैनेजर बनने के लिए योग्यता

होटल मैनेजर बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होना जरूरी है –

होटल मैनेजर की सैलरी

जो कैंडिडेट होटल मैनेजर बन जाते हैं उन्हें हर महीने 20 हजार रुपए से लेकर 40 हजार रुपए तक मिल जाते हैं। इसके अलावा जब कैंडिडेट को कुछ महीने का एक्सपीरियंस हासिल हो जाता है तो तब उसके वेतन में वृद्धि हो जाती है। 

चार्टर्ड अकाउंटेंट (Chartered Accountant) 

चार्टर्ड अकाउंटेंट कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले छात्रों के बीच में बहुत ही ज्यादा पॉपुलर है। इसीलिए बहुत से ऐसे छात्र हैं जो सीए बनने के लिए स्कूल के दौरान ही पढ़ाई करना शुरू कर देते हैं। यहां आपको बता दें कि चार्टर्ड अकाउंटेंट किसी भी बिजनेस के टैक्स और अकाउंट से संबंधित काम देखता है जैसे कि टैक्स रिटर्न, फाइनेंसियल हिसाब-किताब, ऑडिटिंग इत्यादि। तो 12th कॉमर्स के बाद जॉब लिस्ट में चार्टर्ड अकाउंटेंट को भी शामिल किया जा सकता है। यहां बता दें कि यह हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सबसे पॉपुलर नौकरियों में से एक है। 

चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने के लिए योग्यता

जो कैंडिडेट चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना चाहते हैं इसके लिए उन्हें कुछ योग्यता होनी चाहिए जैसे कि – 

  • छात्र ने कम से कम सीए एग्जाम क्लियर किया होना चाहिए।
  • कैंडिडेट को एकाउंटिंग के साथ-साथ स्टैटिक्स की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए।
  • ऑडिटिंग का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।
  • उम्मीदवार को अकाउंट को बैलेंस करना और उसे प्रेजेंट करना आना चाहिए। 

चार्टर्ड अकाउंटेंट की सैलरी

चार्टर्ड अकाउंटेंट की जो सैलरी होती है वो उसकी योग्यता पर सबसे ज्यादा डिपेंड करती है। वैसे आमतौर पर एक सीए को उसके कैरियर की शुरुआत में 50,000 तक का वेतन मिल जाता है। इसके अलावा अगर उसकी जॉब किसी बड़ी और फेमस कंपनी में लग जाती है तो तब वह हर महीने 1 लाख रुपए से भी ज्यादा तक कमा सकता है। 

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर  (Personal Financial Advisor) 

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर के तौर पर भी कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स काम कर सकते हैं। यहां जानकारी के लिए बता दें कि आज के टाइम में फाइनेंशियल एडवाइजर स्टॉक और बॉन्ड में इन्वेस्टमेंट करने, टैक्स कानूनों के बारे में जानकारी देने और इंश्योरेंस संबंधी सलाह देने के लिए जाने जाते हैं। इस प्रोफेशन में आने वाले लोगों को विशेष ट्रेनिंग दी जाती है जिससे कि वह क्लाइंट को इन्वेस्टमेंट से संबंधित बेस्ट फाइनेंशियल एडवाइज दे सकें। 

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर बनने के लिए योग्यता

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर बनने के लिए किसी भी कैंडिडेट में कुछ योग्यताएं होनी जरूरी है जैसे कि –

  • कैंडिडेट ने मिनिमम फाइनेंस में बीए किया हो। या फिर फाइनेंस से संबंधित कोई और डिग्री कोर्स किया हो।
  • उम्मीदवार फाइनेंस मैनेज करने में एक्सपर्ट होना चाहिए।
  • ग्राहकों की जरूरत और फाइनेंसियल उद्देश्यों के अकॉर्डिंग उन्हें राय देने में सक्षम होना चाहिए।
  • अंग्रेजी की जानकारी के साथ-साथ कंप्यूटर की जानकारी भी होनी चाहिए। 

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर की सैलरी

पर्सनल फाइनेंशियल एडवाइजर बनने के बाद कैंडिडेट को नौकरी की शुरुआत में 20-25 हजार रुपए तक की सैलरी हर महीने आसानी के साथ मिल जाती है। इस तरह से जब उसे 5-6 साल का एक्सपीरियंस हो जाता है तो तब वह हर महीने 60,000 रुपए या उससे भी ज्यादा तक वेतन मिल सकता है। 

प्रोडक्ट मैनेजर (Product Manager) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब की अगर बात की जाए तो प्रोडक्ट मैनेजर भी एक बेस्ट विकल्प है। आपको बता दें कि प्रोडक्ट मैनेजर का मुख्य काम किसी भी प्रोडक्ट की डिजाइनिंग, पैकिंग, सेल्स के अलावा प्रोडक्ट की रिसर्च, ब्रांडिंग, मार्केटिंग इत्यादि होता है। इस प्रकार से वह यह सुनिश्चित करता है कि ग्राहक तक बेस्ट प्रोडक्ट पहुंचे और इसी वजह से जब कोई प्रोडक्ट बनता है और कस्टमर तक पहुंचता है उस सब में प्रोडक्ट मैनेजर की बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका होती है। 

प्रोडक्ट मैनेजर बनने के लिए योग्यता

प्रोडक्ट मैनेजर बनने के लिए किसी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए –

  • उम्मीदवार ने प्रोडक्ट मैनेजमेंट या ब्रांड मैनेजमेंट में डिप्लोमा/डिग्री कोर्स किया हो।
  • कैंडिडेट में प्रोफेशनल और विश्लेषणात्मक योग्यता होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार के कम्युनिकेशन स्किल्स काफी अच्छे होने चाहिए।
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

प्रोडक्ट मैनेजर की सैलरी

प्रोडक्ट मैनेजर की शुरुआती सैलरी 25,000-35,000 रुपए के बीच में हो सकती है। लेकिन जब कैंडिडेट को कुछ वर्षों का अनुभव हासिल हो जाता है तो तब उसको और भी ज्यादा सैलरी मिल जाती है। 

कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट (Cost Management Accountant) 

12th कॉमर्स के बाद जॉब लिस्ट में सीएमए (CMA) यानी कि कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट को भी शामिल किया जा सकता है क्योंकि यह एक बहुत अच्छी नौकरी है। यहां जानकारी के लिए बता दें कि सीएमए कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को सरकारी और प्राइवेट दोनों ही विभागों में काम करने के मौके मिलते हैं। साथ ही मल्टीनेशनल कंपनियों के अलावा कैंडिडेट अपना खुद का काम भी कर सकते हैं। 

कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट बनने के लिए योग्यता

कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट बनने के लिए योग्यता इस प्रकार से है – 

  • कैंडिडेट ने सीएमए कोर्स के तीनों चरण पास किए हों जैसे कि फाउंडेशन कोर्स, इंटरमीडिएट कोर्स और फाइनल कोर्स। 
  • उम्मीदवार को फाइनेंसियल एकाउंटिंग, कॉस्ट मैनेजमेंट इत्यादि की जानकारी होनी चाहिए। 
  • इसके अलावा उम्मीदवार को कंप्यूटर और इंग्लिश की भी जानकारी होनी चाहिए। 

कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट की सैलरी

जो कैंडिडेट कॉस्ट अकाउंटेंट के पद पर काम करते हैं उन्हें शुरुआत में 20,000 से लेकर 30,000 रुपए तक का वेतन प्रतिमाह मिल जाता है। इसके अलावा जब उसे कुछ वर्षों का अनुभव हासिल हो जाता है तब उसकी सैलरी में वृद्धि हो जाती है।

निष्कर्ष 

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल 12th कॉमर्स के बाद जॉब लिस्ट के बारे में जानकारी। इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया कि बारहवीं कॉमर्स के बाद आप कौन-कौन सी नौकरी कर सकते हैं और उसके लिए आपको क्या पढ़ाई करनी होगी हमने यह भी जानकारी दी। 

इसके साथ ही हमने आपको यह भी बताया कि अपनी पसंदीदा जॉब करने के लिए आप में कितनी योग्यता होनी चाहिए। साथ ही साथ हमने आपको यह जानकारी भी दी कि कॉमर्स विषय में पढ़ाई करने के बाद आपको अपनी पसंद की नौकरी करते हुए हर महीने कितनी सैलरी मिल सकती है। हमें पूरी उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा बताई गई यह सारी जानकारी उपयोगी लगी होगी। 

इसलिए अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि इसे अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो 12th कॉमर्स के बाद जॉब के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं। 

Leave a Reply