10th के बाद बेस्ट कोर्स लिस्ट (Best course list after 10th)

नमस्कार! दोस्तों After 12th में आपका स्वागत है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे 10th के बाद बेस्ट कोर्स लिस्ट के बारे में सारी जानकारी। कुछ छात्र दसवीं के बाद 11वीं कक्षा में दाखिला लेते हैं तो वही कुछ ऐसे स्टूडेंट्स भी हैं जो किसी जॉब ओरिएंटेड कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं। देखा जाए तो अब युवाओं के बीच जॉब ओरिएंटेड पाठ्यक्रमों की लोकप्रियता और क्रेज बढ़ता ही जा रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हर विद्यार्थी बिना टाइम खराब किए आत्मनिर्भर बनना चाहता है। 

अगर आप भी एक ऐसे स्टूडेंट हैं जो दसवीं पास करने के बाद इंडिपेंडेंट बनने के अपने सपने को पूरा करना चाहते हैं, तो जरूरी है कि सबसे पहले आप यह डिसाइड करें कि आपको कौन सा कोर्स करना है। परंतु अगर आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़ें और जानें 10th के बाद कौन सा कोर्स करें जिससे कि आप रोजगार के बेस्ट अवसर हासिल कर सकें । 

Contents

10th के बाद कौन सा कोर्स करें

दसवीं कक्षा पास करने के बाद छात्र चाहें तो आगे अपनी पढ़ाई जारी रख सकते हैं। पर अगर उन्हें कोई ऐसा कोर्स करना है जो उन्हें इंडिपेंडेंट बनाए तो वो फिर उस पाठ्यक्रम में दाखिला ले सकते हैं। आज ऐसे बहुत सारे कोर्स हैं जिनको कैंडिडेट करके एक कामयाब व्यक्ति बन सकते हैं। लेकिन जब भी स्टूडेंट्स किसी कोर्स में एडमिशन लेने का निर्णय करें तो उससे पहले जरूरी है कि वह अपनी इंटरेस्ट और पसंद के सब्जेक्ट को ही चुनें। 

अगर आपको यह समझ नहीं आ रहा कि आप कौन सा कोर्स करके एक सफल कैरियर बना सकते हैं तो यहां निम्नलिखित हम आपको बता रहे हैं कि दसवीं के बाद कौन सा कोर्स आपके लिए बेस्ट हो सकता है। 

डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग कोर्स

अगर आप इस दुविधा में हैं कि 10th के बाद कौन सा कोर्स करें तो आप डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम में एडमिशन ले सकते हैं। बताते चलें कि यह 3 साल की अवधि का कोर्स है। जानकारी के लिए बता दें कि इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स की फीस बहुत ज्यादा होती है जिसकी वजह से बहुत से स्टूडेंट उसमें दाखिला नहीं ले पाते दाखिला नहीं ले पाते। लेकिन दसवीं के बाद इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कोर्स करके कैंडिडेट ना केवल अच्छी नौकरी पा सकते हैं बल्कि बहुत छोटी उम्र में इंडिपेंडेंट भी बन सकते हैं। 

साथ ही आपको बता दें कि इंजीनियरिंग में डिप्लोमा जो छात्र करना चाहते हैं वह इसके लिए सरकारी, प्राइवेट या किसी पॉलिटेक्निक में दाखिला ले सकते हैं। 

डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए योग्यता 

इंजीनियरिंग में डिप्लोमा करने के लिए छात्रों में निम्नलिखित योग्यता का होना अत्यंत जरूरी है जैसे कि – 

  • छात्र ने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कम से कम 10वीं कक्षा पास की हो।
  • कैंडिडेट ने 10वीं में कम से कम 50% तक अंक हासिल किए हों। 

डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग कोर्स करने के बाद सैलरी 

डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग करने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वह काफी अधिक होती है। बताते चलें कि हर महीने उसे कैरियर की शुरुआत में 20,000 रुपए से लेकर 25,000 तक वेतन मिलता है। इस तरह से जब कैंडिडेट को कुछ वर्षों का अनुभव हो जाता है तो तब उसे इससे भी ज़्यादा की सैलरी मिल जाती है। 

स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग कोर्स

स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग 10th के बाद बेस्ट कोर्स है जो कि छात्र कर सकते हैं। यहां आपको बता दें कि यह एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स है जिसको करने के बाद सरकारी ऑफिसों के अलावा कैंडिडेट कोर्ट में भी काम करने के अवसर हासिल कर सकते हैं। यहां आपको बता दें कि इस कोर्स को आप किसी प्राइवेट या फिर सरकारी संस्थान से आसानी के साथ दसवीं पास करने के बाद कर सकते हैं। 

स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग कोर्स करने के लिए योग्यता 

स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए जो कि इस प्रकार से है –

  • विद्यार्थी ने मिनिमम दसवीं कक्षा पास की हो। 
  • दसवीं में कैंडिडेट के कम से कम 50% तक अंक होने चाहिए।
  • छात्र को टाइपिंग करनी आनी चाहिए। 

स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग कोर्स करने के बाद सैलरी

जो स्टूडेंट स्टेनोग्राफी एंड टाइपिंग कोर्स पूरा कर लेते हैं उसके बाद उन्हें जो सैलरी मिलती है वह काफी अच्छी होती है। बता दें कि योग्य कैंडिडेट को हर महीने शुरुआती सैलरी 30,000 रुपए तक मिल सकती है।

डिप्लोमा इन इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी कोर्स

छात्रों को यदि यह समझ में नहीं आ रहा कि 10th के बाद कौन सा कोर्स करें तो डिप्लोमा इन इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी कोर्स कर सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स की अवधि 1 साल तक की होती है। साथ ही बताते चलें कि बहुत से इंस्टिट्यूट्स में एंट्रेंस टेस्ट के बाद कैंडिडेट को कोर्स में दाखिला मिलता है तो वहीं बहुत से संस्थानों में डायरेक्ट एडमिशन की प्रक्रिया है। इसलिए अगर आपको टेक्नोलॉजी की इंडस्ट्री में जाना है तो आप इस कोर्स को करके एक कामयाब कैरियर बना सकते हैं। 

डिप्लोमा इन इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी कोर्स करने के लिए योग्यता 

डिप्लोमा इन इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता का होना जरूरी है –

  • इच्छुक उम्मीदवार ने कम से कम दसवीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास की हो।
  • छात्र को टेक्नोलॉजी में रुचि होनी चाहिए। 

डिप्लोमा इन इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कोर्स करने के बाद सैलरी

इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को शुरुआती सैलरी काफी आकर्षक मिलती है। यहां बता दें कि हर महीने उसे 12,000 से लेकर 30,000 तक आसानी के साथ मिल जाते हैं। इसके अलावा बता दें कि अगर कैंडिडेट में योग्यता है तो वह इससे भी ज्यादा का वेतन हासिल कर सकते हैं। 

डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर कोर्स

10th के बाद बेस्ट कोर्स यदि आप करने के इच्छुक हैं तो आप डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर कर सकते हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस क्षेत्र में उन छात्रों के लिए बहुत अच्छे अवसर हैं जिनमें क्रिएटिविटी होती है। अगर आप में भी क्रिएटिविटी है और आपको बिल्डिंग निर्माण, डिजाइनिंग और संरचना करना अच्छा लगता है तो आप इस कोर्स को कर सकते हैं। इस फील्ड में आज के समय युवाओं का बहुत ज्यादा रुझान है क्योंकि इसमें आगे बढ़ने के साथ-साथ एक सफल कैरियर की बहुत सारी संभावनाएं कैंडिडेट को मिल जाती हैं। 

डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर कोर्स करने के लिए योग्यता 

आर्किटेक्चर में डिप्लोमा कोर्स करने के लिए किसी भी छात्र में कुछ योग्यताएं होना जरूरी है जैसे कि –

  • छात्र ने कम से कम 10वीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास की होनी चाहिए। 
  • दसवीं में छात्र ने फिजिक्स और गणित जैसे विषयों में पढ़ाई की हो। 
  • कैंडिडेट कलात्मक और रचनात्मक हो। 
  • कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर कोर्स करने के बाद सैलरी

जो छात्र डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर कोर्स कर लेते हैं उसके बाद उन्हें जो सैलरी मिलती है वह उनकी रचनात्मकता और कलात्मकता पर डिपेंड करती है। इस प्रकार से कैंडिडेट को शुरुआती सैलरी 20,000 से लेकर 40,000 रुपए महीना आराम से मिल जाती है। 

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स

जिन स्टूडेंट्स को खाना बनाना व सर्व करना बहुत पसंद होता है और उन्हें समझ नहीं आ रहा कि 10th के बाद कौन सा कोर्स करें तो वो होटल मैनेजमेंट के डिप्लोमा पाठ्यक्रम को कर सकते हैं। यहां बता दें कि इस क्षेत्र में निरंतर ग्रोथ और अच्छा सैलरी पैकेज मिलता है। जानकारी दे दें कि यह 1 साल से लेकर 3 साल तक का डिप्लोमा कोर्स है जिसे आप अपनी इच्छा के अनुसार कर सकते हैं। इसके लिए हमारे देश में बहुत सारे सरकारी और प्राइवेट संस्थानों के अलावा पॉलिटेक्निक भी हैं जहां से यह कोर्स किया जा सकता है। 

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए योग्यता 

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए छात्रों में जो योग्यता होनी चाहिए उसकी जानकारी इस प्रकार से है –

  • छात्र ने मिनिमम दसवीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से की हो।
  • दसवीं क्लास में छात्र ने कम से कम 50% तक अंक हासिल किए हों। 
  • कैंडिडेट का व्यक्तित्व आकर्षक होना चाहिए और उसके कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतर होने जरूरी हैं। 
  • अंग्रेजी भाषा की जानकारी होनी चाहिए। 

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद सैलरी

जब छात्र होटल मैनेजमेंट का डिप्लोमा कोर्स कर लेते हैं तो उसके बाद शुरुआती सैलरी उन्हें काफी अच्छी मिलती है जो कि लगभग 20,000 से लेकर 25,000 तक होती है। साथ ही बता दें कि कुछ वर्षों का अनुभव जब कैंडिडेट हासिल कर लेते हैं तो तब उन्हें इससे भी ज्यादा हर महीने वेतन मिलता है। 

टूरिज्म कोर्स

10th के बाद बेस्ट कोर्स अगर कोई छात्र करना चाहता है तो वह टूरिज्म पाठ्यक्रम में भी एडमिशन ले सकता है। यहां जानकारी के लिए बता दें कि हमारे देश में टूरिज्म इंडस्ट्री काफी तेजी के साथ उभरती हुई फील्ड है। बता दें कि दसवीं के बाद आप इसमें डिप्लोमा या डिग्री कोर्स अपनी पसंद के अनुसार कर सकते हैं। इस प्रकार जब आप अपना कोर्स पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद आपको टूरिस्ट गाइड के काम और टूर को अरेंज करना बहुत अच्छी तरह से आ जाता है। 

टूरिज्म कोर्स करने के लिए योग्यता 

टूरिज्म कोर्स करने के लिए कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होना अनिवार्य है –

  • कैंडिडेट ने मिनिमम दसवीं कक्षा पास की हो। 
  • छात्र को घूमना फिरना पसंद होना चाहिए।
  • कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतर होने चाहिएं।
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी और कंप्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। 

टूरिज्म कोर्स करने के बाद सैलरी

टूरिज्म कोर्स को जब छात्र पूरा कर लेते हैं तो उन्हें जो सैलरी मिलती है वह इस बात के ऊपर निर्भर करती है कि उनके स्किल क्या हैं और उनको कौन सी टूरिज्म कंपनी में काम करने का अवसर मिला है। वैसे आमतौर पर देखा जाए तो इस फील्ड में कैंडिडेट को शुरुआत में हर महीने 15,000 से लेकर 30,000 हजार रुपए तक मिल सकती है। कुछ वर्षों के अनुभव के बाद कैंडिडेट इस फील्ड में काम करते हुए एक लाख रुपए तक भी आसानी के साथ कमा सकते हैं। 

डिप्लोमा इन ब्यूटी केयर कोर्स

डिप्लोमा इन ब्यूटी केयर 10th के बाद बेस्ट कोर्स है जो लड़कियों के बीच में काफी ज्यादा फेमस है। बता दें कि ब्यूटी इंडस्ट्री में पहले केवल लड़कियां ही काम करती थीं लेकिन अब लड़के भी इस क्षेत्र में अपना कैरियर बना रहे हैं। यहां आपको बता दें कि यह ब्यूटी कोर्स उन स्टूडेंट्स के लिए बेस्ट है जिनको दूसरे लोगों को सजाना, संवारना पसंद होता है। साथ ही बताते चलें कि इस डिप्लोमा कोर्स की अवधि 4 साल की होती है जिसके बाद कैंडिडेट ब्यूटी इंडस्ट्री में काम करने के लिए बिल्कुल तैयार हो जाते हैं।

डिप्लोमा इन ब्यूटी केयर कोर्स करने के लिए योग्यता 

डिप्लोमा इन ब्यूटी केयर कोर्स करने के लिए कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए जो कि इस प्रकार से है – 

  • विद्यार्थी ने कम से कम दसवीं कक्षा पास की हो।
  • छात्र के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने अनिवार्य हैं। 
  • कैंडिडेट की पर्सनैलिटी इंप्रेसिव होनी चाहिए। 

डिप्लोमा इन ब्यूटी केयर कोर्स करने के बाद सैलरी 

अब यहां आपको बता दें कि ब्यूटी केयर में डिप्लोमा कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वो पूरी तरह से उसके हुनर पर डिपेंड करती है। यहां बता दें कि अगर शुरुआती सैलरी की बात की जाए तो हर महीने उसे 15,000 से लेकर 30,000 तक आसानी से मिल सकते हैं। इसके अलावा कुछ वर्षों का अनुभव जब कैंडिडेट को हासिल हो जाता है तो उसे इससे भी ज्यादा सैलरी मिल सकती है। वहीं अगर कोई अपना खुद का ब्यूटी पार्लर शुरू कर लेता है तो तब उसे हर महीने लाखों रुपए कमाने के अवसर मिल जाते हैं। 

आईटीआई कोर्स

आईटीआई कोर्स भी काफी स्टूडेंट करना पसंद करते हैं। इसलिए अगर आप यह सोच रहे हैं कि 10th के बाद कौन सा कोर्स करें तो आप इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर सकते हैं। यहां आपको बता दें कि इसमें आपको बहुत सारे कोर्स करने के विकल्प मिल जाते हैं जैसे इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, मैकेनिक, टर्नर इत्यादि। इसके लिए आप अपने घर के नजदीक आईटीआई इंस्टीट्यूट से जाकर सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं। साथ ही बताते चलें कि अगर आप आईटीआई कोर्स करना चाहते हैं तो हर कोर्स की अवधि अलग-अलग होती है। 

इस तरह से यह कोर्स 6 महीने से लेकर 2 साल तक के हो सकते हैं। आईटीआई करने के बाद कैंडिडेट को नौकरी के काफी बेहतर विकल्प मिल जाते हैं। 

आईटीआई कोर्स करने के लिए योग्यता 

आईटीआई कोर्स करने के लिए किसी भी छात्र में जो योग्यताएं होनी चाहिए उनके बारे में हम निम्नलिखित जानकारी दे रहे हैं जो कि इस प्रकार से है – 

  • कैंडिडेट ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से मिनिमम दसवीं कक्षा पास की हो। 
  • छात्र ने दसवीं में 50% तक अंक हासिल किए हों।
  • संबंधित विषय में छात्र की रूचि होनी अनिवार्य है।

आईटीआई कोर्स करने के बाद सैलरी

आईटीआई कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को शुरुआती वेतन उसकी योग्यता के आधार पर दिया जाता है जो कि 15,000 से लेकर 20,000 तक हर महीने हो सकता है। इस प्रकार से कुछ वर्षों का अनुभव हासिल होने के बाद वेतन में वृद्धि हो जाती है। 

ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स

10वीं पास करने के बाद ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स भी किया जा सकता है। यहां जानकारी के लिए बता दें कि यह 10th के बाद बेस्ट कोर्स है। इसके अलावा बता दें कि यह 1 साल का डिप्लोमा है जिसमें छात्रों को तरह-तरह के ड्रेसेस को डिजाइन करना सिखाया जाता है। जब कैंडिडेट इस पाठ्यक्रम को पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद उन्हें गारमेंट एंड टैक्सटाइल हाउसेस, बुटीक्स, टेलीविजन एंड फिल्म इंडस्ट्री इत्यादि में काम करने का मौका मिलता है। इसके अलावा अगर कैंडिडेट चाहें तो अपना स्वयं का काम भी शुरू कर सकते हैं। 

ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स करने के लिए योग्यता 

ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स करने के लिए किसी भी कैंडिडेट में निम्नलिखित योग्यता का होना जरूरी है – 

  • छात्र ने कम से कम दसवीं कक्षा तक पढ़ाई की हो।
  • कैंडिडेट ने दसवीं में मिनिमम 50% अंक हासिल किए हों।
  • छात्र में क्रिएटिविटी होनी चाहिए। 

ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स करने के बाद सैलरी

ड्रेस डिजाइनिंग कोर्स करने के बाद योग्य कैंडिडेट को शुरुआत में हर महीने 15,000 से लेकर 35,000 रुपए तक का वेतन मिल जाता है। इस तरह से जब उसे एक्सपीरियंस हासिल हो जाता है तो तब उसको अधिक सैलरी मिलती है। साथ ही बता दें कि अगर कोई अपना खुद का काम स्टार्ट करता है तो हर महीने उसे काफी अच्छी इनकम हो सकती है। 

पैरामेडिकल कोर्स

10th के बाद बेस्ट कोर्स में पैरामेडिकल कोर्स को भी शामिल किया जा सकता है। यहां आपको बता दें कि दसवीं पास करने के बाद छात्र अगर अपना कैरियर किसी मेडिकल फील्ड में बनाना चाहते हैं तो तब वो पैरामेडिकल कोर्स कर सकते हैं। इसके लिए विभिन्न पैरामेडिकल कोर्स अवेलेबल हैं जैसे कि ऑपरेशन थियेटर टेक्नोलॉजी, एक्स-रे टेक्नोलॉजी, रेडियोग्राफी और मेडिकल इमेजिंग ईसीजी टेक्नोलॉजी, डायलिसिस टेक्नोलॉजी इत्यादि। यहां बता दें कि जब कोई कैंडिडेट किसी पैरामेडिकल कोर्स में दसवीं के बाद एडमिशन लेता है तो उसकी अवधि 2 साल तक की होती है। 

पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए योग्यता 

पैरामेडिकल कोर्स करने के लिए छात्रों में निम्नलिखित योग्यता होनी जरूरी है जैसे कि –

  • विद्यार्थी ने मिनिमम दसवीं तक शिक्षा हासिल की हो।
  • दसवीं कक्षा में कैंडिडेट में कम से कम 50% तक अंक हासिल किए हो। 
  • कैंडिडेट को संबंधित क्षेत्र में रुचि होनी चाहिए। 

पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद सैलरी

पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को जो सैलरी मिलती है वह शुरुआत में 10,000 से लेकर 20,000 तक हो सकती है। इसके अलावा एक्सपीरियंस गेन करने के बाद उसकी सैलरी में इजाफा हो जाता है। 

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल 10th के बाद बेस्ट कोर्स लिस्ट के बारे में जानकारी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको जानकारी दी कि 10th के बाद कौन सा कोर्स करें और 10th के बाद बेस्ट कोर्स कौन-कौन से होते हैं। इसके अलावा हमने आपको बताया कि किसी भी कोर्स में दसवीं के बाद जब आप दाखिला लेते हैं तो आप में कितनी योग्यता होनी चाहिए। 

साथ ही हमने यह भी बताया कि अपने कोर्स को पूरा करने के बाद हर महीने आप कितने रुपए तक का सैलेरी पैकेज हासिल कर सकते हैं। हमें पूरी उम्मीद है कि आपके लिए यह लेख उपयोगी रहा होगा।

इसलिए अंत में हमारी आपसे बस यही रिक्वेस्ट है कि इस पोस्ट को अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो दसवीं के बाद किसी बेस्ट कोर्स में दाखिला लेना चाहते हैं।

Leave a Reply